Thursday, 26 May, 2022
होमराजनीति'गाय को मां कहना मनुष्य जाति का ही अपमान'- सावरकर से पहले हिंदुत्व शब्द प्रचलन में नहीं था: शिवानंद तिवारी

‘गाय को मां कहना मनुष्य जाति का ही अपमान’- सावरकर से पहले हिंदुत्व शब्द प्रचलन में नहीं था: शिवानंद तिवारी

राजद नेता ने कहा कि देश को बदलने की कोशिश सकारात्मक दिशा में नहीं हो रही है बल्कि जो हो रहा है वो हमारे देश की एकता, अखंडता और यहां तक कि धर्म के लिए भी खतरनाक है.

Text Size:

नई दिल्ली: हिंदू धर्म और हिंदुत्व को लेकर देश में चल रही मौजूदा बहस के बीच राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि गाय को मां की संज्ञा देना मनुष्य जाति का ही अपमान है.

तिवारी ने कहा, ‘सावरकर ने कहा है कि कोई जानवर मनुष्य का मां या बाप कैसे हो सकता है.’

तिवारी ने कहा कि हिंदुत्व शब्द का सबसे पहले इस्तेमाल सावरकर ने 1923 में किया था. उसके पहले ये शब्द प्रचलन में नहीं था.

मोदी सरकार और भाजपा का नाम लिए बिना राजद नेता तिवारी ने कहा, ‘आप सावरकर की कुछ बातों को मानेंगे और कुछ बातों को नहीं मानेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘1923 में एक इंसान ने हिंदुत्व शब्द का इस्तेमाल किया, उस आधार पर आप हजारों सालों के सनातन धर्म को बदल देना चाहते हैं और सावरकर ने जो हिंदुत्व की परिभाषा दी वही सही हो गया.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

तिवारी ने कहा कि सावरकर ने स्पष्ट तौर पर ये कहा है कि हिंदू और हिंदुत्व दोनों अलग-अलग चीज है.

राजद नेता ने कहा कि देश को बदलने की कोशिश सकारात्मक दिशा में नहीं हो रही है बल्कि जो हो रहा है वो हमारे देश की एकता, अखंडता और यहां तक कि धर्म के लिए भी खतरनाक है.

बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार ट्वीट कर और अपनी रैलियों में भी हिंदू धर्म और हिंदुत्ववादियों के बीच के फर्क को बताते रहे हैं. उनका कहना है कि हिंदुत्ववादी हमेशा नफरत व हिंसा फैलाते हैं वहीं हिदू सत्य के रास्ते पर चलता है.


यह भी पढ़ें: J&K परिसीमन का विरोध आश्चर्य की बात नहीं, PDP, NC को जम्मू के साथ नाइंसाफी से कोई फर्क नहीं पड़ा


सावरकर गोमांस खाने के खिलाफ नहीं थे: दिग्विजय सिंह

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा था कि विनायक दामोदर सावरकर ने अपनी किताब में कहा है कि बीफ खाने में कोई गलत बात नहीं है.

सिंह ने शनिवार को भोपाल में कहा, ‘सावरकर ने अपनी किताब में कहा है कि हिंदू धर्म और हिंदुत्व के बीच कोई संबंध नहीं है और गाय जो कि अपने मल के इर्द-गिर्द चक्कर लगाती है, वो कैसे हमारी माता हो सकती है.’

सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता एवं विधायक रामेश्वर शर्मा ने दावा किया कि सिंह सावरकर को गलत तरीके से उद्धृत कर रहे हैं.


यह भी पढ़ें: पहचान पत्र को आधार से लिंक करना भारत के चुनावी लोकतंत्र के लिए खतरनाक साबित होगा


 

share & View comments