scorecardresearch
Saturday, 22 June, 2024
होमराजनीति'यह नफरत फैलाने के खिलाफ असहयोग आंदोलन है', न्यूज एंकरों के बहिष्कार पर बोले कांग्रेस नेता पवन खेड़ा

‘यह नफरत फैलाने के खिलाफ असहयोग आंदोलन है’, न्यूज एंकरों के बहिष्कार पर बोले कांग्रेस नेता पवन खेड़ा

कांग्रेस नेता ने कहा कि हम इन एंकरों के नफरत फैलाने का हिस्सा नहीं बनना चाहते. उन्हें जब भी अपनी गलती का एहसास होगा, हम फिर से उनके शो में जाना शुरू कर देंगे.

Text Size:

नई दिल्ली : INDIA गठबंधन द्वारा टीवी समाचार के एंकरों का बहिष्कार करने को लेकर कांग्रेस नेता पवन खेड़ा कहा कि हमने इन्हें प्रतिबंध, बहिष्कार या ब्लैक लिस्ट नहीं किया है. यह नफरत फैलाने के खिलाफ असहयोग आंदोलन है, जिस दिन उन एंकरों को अपनी गलती का एहसास हो जाएगा हम फिर से उनके शो पर जाना शुरू कर देंगे. पवन खेड़ा ने ये बातें शनिवार को तेलंगाना में कांग्रेस कार्य समति (सीडब्ल्यूसी) के बैठक से पहले कही.

कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा, “हमने प्रतिबंध, बहिष्कार या ब्लैक लिस्ट नहीं किया है. यह एक असहयोग आंदोलन है, हम समाज में नफरत फैलाने वाले किसी भी व्यक्ति का सहयोग नहीं करेंगे. वे हमारे दुश्मन नहीं हैं. कुछ भी स्थायी नहीं है, अगर कल उन्हें एहसास हुआ कि वे जो कर रहे थे वह भारत के लिए अच्छा नहीं है तो हम फिर से उनके शो में जाना शुरू कर देंगे.”

पवन खेड़ा ने इस असहयोग आंदोलन बताते हुए कहा, “इंडिया गठबंधन के तमाम दलों ने यह माना कि हमें अपना रास्ता बदलना होगा. हम नफरत फैलाने के अपराध में नहीं शामिल होंगे. हम इस रास्ते पर चलकर पाप का भागीदार नहीं बनेंगे. इसलिए इसे आप बैन, बायकॉट, ब्लैकलिस्ट मत कहिए. ये सविनय अवज्ञा है.”

अर्नब गोस्वामी रुबिका लियाकत समेत हैं 14 नाम

गौरतलब है कि इंडिया गठबंधन ने रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी, भारत24 की रुबिका लियाकत, इंडिया टुडे-आज तक नेटवर्क के सुधीर चौधरी और टाइम्स नाउ की नाविका कुमार समेत आधा दर्जन चैनलों के 14 टीवी एंकरर्स के शो का बृहस्पतिवार को बहिष्कार करने का फैसला लिया है.

इंडिया ब्लॉक की मीडिया उप-समिति के निर्णय के अनुसार, वे उनके शो में कोई प्रतिनिधि नहीं भेजेंगे. सूची में जो अन्य एंकर हैं उनमें इंडिया टुडे-आज तक नेटवर्क से चित्रा त्रिपाठी, गौरव सावंत और शिव अरूर; CNN-News18 से अमन चोपड़ा, अमीश देवगन, आनंद नरसिम्हन; टाइम्स नाउ से सुशांत सिन्हा; इंडिया टीवी से प्राची पाराशर; भारत एक्सप्रेस से अदिति त्यागी और डीडी न्यूज़ से अशोक श्रीवास्तव के नाम शामिल हैं.

बुधवार को ब्लॉक की समन्वय समिति की बैठक के बाद मीडिया उप-समिति को यह सूची बनाने के लिए अधिकृत किया गया. गुरुवार को मीडिया उप समिति की वर्चुअल बैठक में सूची को अंतिम रूप दिया गया.

INDIA ब्लॉक के मुख्य एजेंडे में से एक, जिसने कल की बैठक के बाद संयुक्त सार्वजनिक अभियान आयोजित करने का निर्णय लिया, और उनका मकसद पॉलिटिकल नैरेटिव को अपनी ओर मोड़ना है, इसके बाद इन लोगों ने पाया कि मीडिया के एक वर्ग पर भाजपा ने कब्जा कर लिया है.

इस कदम को उठाने के लिए और अपनी बात जनता तक पहुंचाने के लिए, इनमें से कई विपक्षी दलों ने अपना मैसेज आम जन तक पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया इनफ्लूएंसर और स्वतंत्र पत्रकारों पर भरोसा किया है. राहुल गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में सांसद ने सिर्फ यूट्यूबर्स को इंटरव्यू दिया था. ये दल अपने संदेश को मजबूत करने के लिए एक संयुक्त सोशल मीडिया रणनीति भी बनाएंगे.

बहिष्कार किए गए एंकरों ने दी अपनी प्रतिक्रिया

दिप्रिंट कॉल और टेक्स्ट के माध्यम से सभी 14 एंकरों तक पहुंचा, जिनमें से कुछ ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया या अपने एक्स प्रोफाइल पर अपने बयान दिए या उफिर अपने ही शो में अपने बहिष्कार के बारे में बात की.

दिप्रिंट से बात करते हुए, सुशांत सिन्हा, जो टाइम्स नाउ नवभारत पर हर दिन रात 9 बजे ‘न्यूज़ की पाठशाला’ की एंकरिंग करते हैं, ने कहा कि वह सूची में अपना नाम देखकर “हैरान” थे.

उन्होंने कहा, “यह बहिष्कार के लिए बनाई गई सूची कम और टारगेट करने के लिए बनाई गई सूची अधिक लगती है क्योंकि मेरे जैसे पत्रकार, जो कोई डिबेट शो नहीं करते हैं और आमतौर पर अपने शो में किसी मेहमान को आमंत्रित भी नहीं करते हैं, इस सूची में हैं. जब मेरे शो में कोई आता ही नहीं है और किसे आने से रोका जा रहा है?”

वहीं भारत24 की रुबिका लियाकत ने कहा कि ये कोई बैन नहीं है, ये डर है.

लियाकत, जहां उनके प्रोफाइल बैनर पर ‘बेबाक, बेखौफ, बेझिजक’ लिखा था, ने एक्स पर एक पोस्ट में हिंदी में लिखा, “इसे डराना-धमकाना कहते हैं. यह पत्रकारों का बहिष्कार नहीं है. इसे कहते हैं सवालों से भागना. आप हां में हां मिलाने वालों से निपटने के आदी हैं. यह ऐसा कुछ नहीं है जो मैंने कल किया था, न ही मैं इसे कल करूंगा. अगर बैन करने की हिम्मत है तो उन पर बैन लगाओ जो प्यार के बाजार में नफरत परोस रहे हैं. वे विकृत नफरत परोस रहे हैं.”

अगले दिन सूची जारी कर दी गई. इसके तुरंत बाद एनबीडीए की ओर से एक बयान आया, “भारत की कुछ शीर्ष टीवी समाचार हस्तियों द्वारा संचालित टीवी न्यूज़ शो में भाग लेने से विपक्षी गठबंधन के प्रतिनिधियों पर प्रतिबंध लोकतंत्र के लोकाचार के खिलाफ है. यह असहिष्णुता का प्रतीक है और प्रेस की स्वतंत्रता को खतरे में डालता है.”

सीएनएन-न्यूज18 के अमन चोपड़ा ने कहा कि बहिष्कार “सम्मान का प्रतीक” है जिसे वह गर्व के साथ रखेंगे. चोपड़ा ने एक्स पर लिखा, “मैंने सवाल पूछना बंद नहीं किया है. बहिष्कार एक पत्रकार के लिए सम्मान का सबसे बड़ा प्रतीक है.”

चोपड़ा ने कहा, “उन्होंने उन पत्रकारों का बहिष्कार किया, जिन्होंने सवाल पूछने की हिम्मत की. इतिहास अब खुद को दोहरा रहा है. अड़तालीस साल पहले, 1975 में आपातकाल के दौरान कांग्रेस सरकार ने प्रेस पर सेंसर लगा दिया था और जो लोग सरकार के खिलाफ लिखते थे, उनका मुंह बंद कर दिया गया था. अब वे हमारे साथ यही करने की कोशिश कर रहे हैं.”

डीडी न्यूज के वरिष्ठ एंकर श्रीवास्तव ने भी अपने दैनिक शो ‘डू टूक’ की शुरुआत में INDIA के फैसले पर पांच से सात मिनट तक बात की.

उन्होंने कहा, “हम हर किसी को एक मंच देते हैं. वास्तव में, मेरे कुछ दर्शकों ने पूछा है कि हम कुछ विपक्षी नेताओं को बोलने का मौका क्यों देते हैं क्योंकि वे अक्सर अपमानजनक होते हैं. ये हमारा कर्तव्य है. हम भी प्रतिष्ठान से सवाल पूछते हैं और वे भी कभी-कभी परेशान हो जाते हैं. वे क्या सोचते हैं? कि हम उन्हें एक मंच देंगे जहां वे सिर्फ भाषण देंगे और सवाल नहीं पूछेंगे? वे कहते हैं कि डीडी एक सरकारी चैनल है, लेकिन दूरदर्शन एक सार्वजनिक प्रसारक है और हम जनता के मुद्दे उठाते हैं.”

इस बीच, एंकर अदिति त्यागी ने एक्स पर एक पोस्ट में लिखा कि “देश के लिए सवाल पूछने वाली सूची में मेरा नाम पहले स्थान पर है. मैं नहीं डरती.”

सीएनएन-न्यूज18 के आनंद नरसिम्हन ने अपने शो में कहा, “इस गठबंधन के प्रमुख नेताओं का दावा है कि वे मोहब्बत की दुकान हैं और वे सहिष्णु हैं और उनके मन में हर किसी के लिए प्यार है. क्या यही प्यार है? क्या यही सहिष्णुता है? या यह नफरत की अभिव्यक्ति है?”

टिप्पणी के लिए संपर्क किए जाने पर नरसिम्हन ने दिप्रिंट को बताया कि उन्होंने अपने शो में जो सवाल पूछे थे, वे INDIA के बहिष्कार के प्रति उनकी प्रतिक्रिया थी.

भाजपा ने इसे बताया आपातकालीन मानसिकता

भाजपा प्रवक्ता शहजाद पूनावाला के अनुसार – जो अक्सर समाचार चैनलों पर बहस में शामिल होते हैं – बहिष्कार कांग्रेस की आपातकालीन मानसिकता की याद दिलाता है.

पूनावाला ने दिप्रिंट को बताया, “विडंबना यह है कि यह गठबंधन इस तथ्य पर गर्व करता है कि यह संविधान को बचाने के लिए है, कि यह सहिष्णुता के मूल्यों का प्रतिनिधित्व करने के लिए है. गठबंधन में शामिल उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय जो हिंदू धर्म के खिलाफ बोल रहे हैं, जैसे उदयनिधि स्टालिन और प्रियांक खड़गे और समाजवादी पार्टी और राजद के लोग, वे पत्रकारों का बहिष्कार कर रहे हैं. यह दिखाता है कि वे मीडिया को कैसे बांटना और शासन करना चाहते हैं.”

(दिप्रिंट की इशाद्रिता लाहिरी, उन्नति शर्मा और नूतन के इनपुट्स के साथ)

share & View comments