scorecardresearch
Saturday, 15 June, 2024
होमराजनीतिनीतीश के कोर वोटबैंक 'लव-कुश' पर BJP की नजर, बिहार की राजनीति में क्यों खास हो गए हैं कुशवाहा 

नीतीश के कोर वोटबैंक ‘लव-कुश’ पर BJP की नजर, बिहार की राजनीति में क्यों खास हो गए हैं कुशवाहा 

सम्राट चौधरी को भाजपा का राज्य प्रमुख बनाया जाना और उनके संभावित सीएम उम्मीदवार होने के संकेत इस ओर इशारा करते हैं कि पार्टी महागठबंधन को चुनौती देने के लिए बिहार में दूसरे प्रमुख ओबीसी समूह पर नजर गड़ाए हुए है.

Text Size:

पटना: रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, मौर्य सम्राट अशोक की जयंती के अवसर पर बिहार के सासाराम में एक रैली को संबोधित करने वाले थे. सम्राट अशोक को पिछले एक दशक से भाजपा द्वारा कुशवाहा जाति से संबंधित होने के रूप में पेश किया जाता रहा है जो कि एक दावा है जिस पर इतिहासकार एक मत नहीं हैं.

शाह शनिवार को पटना पहुंचे, लेकिन उन्हें सासाराम की अपनी यात्रा को टालना पड़ा. हालांकि यह आजादी के बाद से आरक्षित सीट रही है और यहां पर कुशवाहा जनसंख्या काफी ज्यादा है. यात्रा रद्द करने किए जाने के लिए सासाराम और नालंदा में रामनवमी के जुलूसों के बाद भड़के सांप्रदायिक झड़प को जिम्मेदार ठहराया गया.

कुशवाहा से बीजेपी के नए राज्य प्रमुख सम्राट चौधरी ने दिप्रिंट को बताया, “राज्य सरकार ने हमें अशोक की जयंती मनाने से रोकने के लिए जानबूझकर सांप्रदायिक दंगा करवाया है. बाद में दिन में, भाजपा ने बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर को एक ज्ञापन भी सौंपा, जिसमें राज्य सरकार पर शाह की यात्रा के लिए सुरक्षा प्रदान नहीं करने का आरोप लगाया गया था. सीएम ने इस दावे का खंडन किया.

हालांकि, अमित शाह रविवार को नवादा में एक सभा को संबोधित करने वाले हैं.

जब से नीतीश कुमार की जनता दल (यूनाइटेड) ने पाला बदल लिया है और पिछले अगस्त में लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ हाथ मिला लिया है, कुशवाहा वोटों को मुख्यमंत्री के कोर वोट बैंक से दूर करने का एक जान-बूझकर प्रयास किया गया है, जिसे ‘लव-कुश’ वोट बैंक के नाम से जाना जाता है. “लव-कुश’ वोट बैंक में कुर्मी और कुशवाहा शामिल हैं, जिनका क्रमशः आबादी में दो प्रतिशत छह प्रतिशत हिस्सा है. यह मूल वोट बैंक है जिसकी शुरुआत उन्होंने 1994 में समता पार्टी के गठन के साथ की थी. यादवों के बाद कुशवाहा की बिहार में ओबीसी में सबसे ज्यादा जनसंख्या है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

बाद के वर्षों में, नीतीश ने भाजपा के साथ गठबंधन करके एक मजबूत वोट बैंक बनाया – जिसमें 12 से 15 फीसदी सवर्ण और पांच फीसदी बनिया शामिल थे. बाद में उन्होंने अति पिछड़े वर्गों को जोड़ा, जिनकी जनसंख्या का 29 प्रतिशत हिस्सा है. उन्होंने लालू के मुस्लिम-यादव वोट बैंक में इस हद तक सेंध लगाई कि 2010 के विधानसभा चुनावों में, नीतीश के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने 243 सीटों में से 206 सीटें जीतीं, जबकि लालू की राजद ने केवल 23 सीटों पर जीत हासिल की थी.

अगस्त 2022 के बाद, जद (यू) में सबसे प्रसिद्ध कुशवाहा चेहरों में से एक, उपेंद्र कुशवाहा ने खुले तौर पर नीतीश के नेतृत्व पर सवाल उठाना शुरू कर दिया और उन पर महागठबंधन में लौटने से पहले राजद के साथ “सौदा” करने का आरोप लगाया. इसी साल फरवरी में उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी.


यह भी पढे़ंः मंदिर-प्रवेश का आंदोलन बहुत हुआ, अब ज्ञान-संस्कृति, न्याय और संपत्ति के मंदिरों में प्रवेश करने की जरूरत


कुछ दिन पहले, सम्राट चौधरी को भाजपा के राज्य प्रमुख के रूप में पदोन्नत करने से भाजपा के इरादे स्पष्ट हो गए थे – कि वे बिहार में दूसरे प्रमुख ओबीसी समूह को साधने में लगे थे, जो बिहार में महागठबंधन को लोक सभा और विधानसभा दोनों में सक्षम थे.

‘6% आबादी, लेकिन खींच सकते हैं 12% वोट’

कुशवाहा परंपरागत रूप से किसान हैं जो ज्यादातर बिहार और उत्तर प्रदेश में पाए जाते हैं. यूपी और बिहार में उनकी आबादी की ताकत लगभग समान है. यूपी में बीजेपी ने पिछले विधानसभा चुनाव में हार के बावजूद केशव प्रसाद मौर्य को डिप्टी सीएम बनाया था. बिहार में अब उन्होंने मौर्य जैसा दूसरा नेता बनाने की कोशिश की है.

पूर्व एमएलसी प्रेम कुमार मणि ने कहा, “कुशवाहों की आबादी बिहार में यादवों की आबादी का भले ही आधा हो, लेकिन वे यादवों और यहां तक कि भूमिहारों, विशेष रूप से ईबीसी (अत्यंत पिछड़ा वर्ग) की तुलना में समाज के अन्य वर्गों के लिए अधिक स्वीकार्य हैं.”

उन्होंने कहा: “बिहार के गांवों में, महतोजी का दलान होता है. ‘दलान’ गांवों में एक अतिथि कक्ष के रूप में होता है. बिहार में, रात के लिए रिश्तेदारों और परिचितों को ‘महतोजी (कुशवाहों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक शीर्षक) के दलान’ भेजा जाता है क्योंकि ग्रामीणों के घरों में जगह नहीं होती है. कुशवाहा भले ही आबादी के सिर्फ 6 प्रतिशत हों, लेकिन उनके पास ईबीसी के 6 प्रतिशत मतदाताओं को साथ खींचने की क्षमता है, और दोनों का संयुक्त प्रभाव 10 से 12 प्रतिशत से अधिक हो सकता है.

कभी नीतीश कुमार के करीबी और कुशवाहा जाति के मणि, 1994 में समता पार्टी के संस्थापकों में से थे. 63 विधानसभा सीटों और आरा, खगड़िया, काराकाट, उजियारपुर और सासाराम जैसी आधा दर्जन लोकसभा सीटों के नतीजों में कुशवाहा की प्रमुख भूमिका है.

2015 और 2022 के बीच का अंतर

आखिरी बार राजद और जद (यू) ने 2015 में एक साथ चुनाव लड़ा था. महागठबंधन ने 178 सीटें जीती थीं और भाजपा 53 तक सीमित थी. सीटों में भारी अंतर के बावजूद, मतदान प्रतिशत का अंतर सिर्फ 7 प्रतिशत था. यह एक ऐसा चुनाव था जिसमें तीन शक्तिशाली ओबीसी समूहों – यादव, कुशवाहा और कुर्मी – जिन्हें बिहार की राजनीति के ‘त्रिवेणी संघ’ के रूप में जाना जाता है, ने एक साथ मतदान किया.

पूर्व एमएलसी मणि ने कहा, लेकिन कुशवाहों ने वोट इसलिए दिया क्योंकि नीतीश कुमार सीएम उम्मीदवार थे, उन्होंने कहा कि इस बार, वह महागठबंधन के नेता के रूप में तेजस्वी यादव से पीछे होंगे, और कई जातियां जिन्होंने नीतीश को वोट दिया था, शायद उनके साथ जाने के लिए इच्छुक न हों तेजस्वी.

2019 के लोकसभा चुनावों में, जब एनडीए ने बिहार की 40 में से 39 सीटों पर जीत हासिल की थी, तब वोट प्रतिशत का अंतर लगभग 25 प्रतिशत था. बीजेपी के एक विधायक ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, ‘बीजेपी जानती है कि इस बार वोट प्रतिशत गिर सकता है, लेकिन अगर कुशवाहा साथ आ जाएं तो सीटों के नुकसान को कम किया जा सकता है.’

कुशवाहा नेता

ओबीसी में दूसरा सबसे बड़ा ब्लॉक होने के बावजूद कुशवाहाओं का राजनीतिक प्रतिनिधित्व सीमित रहा है. आजादी के बाद से, केवल एक कुशवाहा मुख्यमंत्री रहे हैं, सतीश कुमार सिंह, जिन्हें कांग्रेस ने 1968 में सिर्फ पांच दिनों के लिए चुना था. वह बी पी मंडल को सीएम बनाने की कांग्रेस की योजना को सक्षम बनाने के लिए एक स्टॉप ओवर की तरह थे.

अन्य कुशवाहा नेता स्वर्गीय जगदेव प्रसाद रहे हैं – जो 1974 में पुलिस फायरिंग में मारे गए थे. उनके बेटे नागमणि थे, जो कभी कुशवाहा नेता का टैग लेकर चलते थे और यहां तक कि वाजपेयी सरकार में वह केंद्रीय मंत्री भी बने. समता पार्टी के संस्थापक और पूर्व सांसद शकुनि चौधरी भी रहे हैं – जो कि पूर्व फौजी और कभी लालू और नीतीश दोनों के काफी करीबी थे. इसके अलावा चंद्रदेव प्रसाद वर्मा और उपेंद्र प्रसाद वर्मा जैसे प्रमुख कुशवा नेता भी हुए हैं.

उपेंद्र कुशवाहा उन नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने खुद को कुशवाहा नेताओं के तौर पर पेश किया. हालांकि, अधिकांश कुशवाहा नेताओं को राजनीतिक दल बदलने के लिए जाना जाता है और कुछ क्षेत्रों में उनका सीमित प्रभाव है. आश्चर्य नहीं कि यादवों या पासवानों की तरह उन्होंने अब तक एकजुट होकर मतदान नहीं किया है. अचानक, भाजपा ने सम्राट चौधरी को संभावित सीएम उम्मीदवार के रूप में पेश किया है और चाहती है कि कुशवाहा लोग एक जुट होकर उसके पक्ष में वोट करें.

(संपादनः शिव पाण्डेय)
(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ेंः क्या हमारी न्यायपालिका अब अपराधियों को सुधारने की जगह दंडित करने के फ़लसफ़े की ओर मुड़ गई है?


 

share & View comments