scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमराजनीति‘वकालत से सियासत तक’, पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज की राजनीति में एंट्री

‘वकालत से सियासत तक’, पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज की राजनीति में एंट्री

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन के बाद से ही उनकी बेटी बांसुरी स्वराज की राजनीति में एंट्री के कयास लगाए जा रहे थे. बीते 24 मार्च को दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने बांसुरी को बीजेपी की दिल्ली इकाई के कानूनी प्रकोष्ठ का सह-संयोजक नियुक्त किया.

Text Size:

नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री और दिवंगत बीजेपी नेता सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज ने सियासत में एंट्री ले ली है. बांसुरी को बीते 24 मार्च को बीजेपी की दिल्ली इकाई के कानूनी प्रकोष्ठ का सह-संयोजक नियुक्त किया गया है. नवनियुक्त दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने दिल्ली बीजेपी का अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में पहली नियुक्ति बांसुरी की ही की है. बता दें कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन के बाद से ही बांसुरी की सियासत में एंट्री के कयास लगाए जा रहे थे. बीते शुक्रवार को बीजेपी दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा जारी एक पत्र में कहा गया कि बांसुरी की नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू होगी और उम्मीद है कि वह बीजेपी को मजबूत करेंगी. बांसुरी इससे पहले भी बीजेपी को कानूनी तौर पर सहयोग करती रही हैं.

वकालत से सियासत तक का सफर 

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज अभी सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं. बांसुरी पिछले 16 साल से वकालत के पेशे में हैं. बांसुरी ने साल 2007 में दिल्ली बार काउंसिल में अपना रजिस्ट्रेशन करवाया था. अगर स्वराज की पढ़ाई की बात करें तो उन्होंने वॉरविक यूनिवर्सिटी से अंग्रेजी साहित्य में बीए ऑनर्स की डिग्री ली है. उसके बाद उन्होंने लंदन के बीपीपी लॉ कॉलेज से कानून की पढ़ाई की. फिर बांसुरी ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के संत कैथरीन कॉलेज से मास्टर्स की डिग्री ली. इसके बाद बांसुरी दिल्ली आकर वकालत की प्रैक्टिस करने लगी.

सबसे पहले बांसुरी ने मीडिया का ध्यान उस समय अपनी ओर आकर्षित किया था, जब यह खुलासा हुआ था बांसुरी आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की लीगल टीम का हिस्सा हैं. ललित मोदी ने एक ट्वीट कर अपनी लीगल टीम को बधाई दी थी. जिसमें सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज समेत 8 लोगों के नाम शामिल थे.

अभी बांसुरी दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में क्रिमिनल लॉयर हैं. बांसुरी के पिता और सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल भी क्रिमिनल लॉयर ही थे. स्वराज कौशल देश के सबसे कम्र उम्र के एडवोकेट जनरल रहे हैं. साथ ही उन्होंने मिजोरम के राज्यपाल के रूप में भी अपनी सेवाएं दी हैं.


यह भी पढ़ें: ‘ताकि वे आपकी बात मानें’, इमरान खान ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से तालिबान को मान्यता देने की अपील की


share & View comments