Sunday, 3 July, 2022
होमराजनीति2 दिन में 2 मंत्री का इस्तीफा- योगी सरकार से दारा सिंह चौहान भी हुए अलग, अब तक 6 नेताओं ने छोड़ी BJP

2 दिन में 2 मंत्री का इस्तीफा- योगी सरकार से दारा सिंह चौहान भी हुए अलग, अब तक 6 नेताओं ने छोड़ी BJP

अगले महीने उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के कई विधायकों समेत दो मंत्रियों के इस्तीफे को पार्टी के लिए झटका माना जा रहा है.

Text Size:

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में वन, पर्यावरण एवं जंतु-उद्यान मंत्री दारा सिंह चौहान ने अपने पद से इस्तीफा देना का ऐलान किया है. स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद चौहान योगी सरकार के दूसरे मंत्री हैं जिन्होंने इस्तीफा दिया है.

अगले महीने उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के कई विधायकों समेत दो मंत्रियों के इस्तीफे को पार्टी के लिए झटका माना जा रहा है. वहीं भाजपा नेताओं के समाजवादी पार्टी से जुड़ने की संभावनाएं लगाई जा रही है.

इस बीच उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट कर कहा कि दारा सिंह को अपने फैसले पर फिर से सोचना चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘परिवार का कोई सदस्य भटक जाये तो दुख होता है जाने वाले आदरणीय महानुभावों को मैं बस यही आग्रह करूंगा कि डूबती हुई नांव पर सवार होने से नुकसान उनका ही होगा. बड़े भाई श्री दारा सिंह जी आप अपने फैसले पर पुनर्विचार करिये.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के पार्टी से अलग होने से चुनावों के मद्देनज़र ओबीसी वोट बैंक को साधने की भाजपा की उम्मीदों को झटका लगा है.

दारा सिंह चौहान ने उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को लिखे पत्र में अपने इस्तीफे के कारण के बारे में बताया, ‘सरकार की पिछड़ों, वंचितों, दलितों, किसानों और बेरोजगार नौजवानों की घोर उपेक्षात्मक रवैये के साथ-साथ पिछड़ों और दलितों के आरक्षण के साथ जो खिलवाड़ हो रहा है, उससे आहत होकर मैं उत्तर प्रदेश मंत्रि-मंडल से इस्तीफा देता हूं.’

दिलचस्प संयोग की बात ये है कि मंगलवार को मंत्री पद से इस्तीफा देते हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी कमोबेश यही कारण बताया था. मौर्य के समाजवादी पार्टी के साथ जाने की उम्मीद लगाई जा रही है क्योंकि उनके इस्तीफा देते ही सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यही संकेत दिए थे.

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा था, ‘सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता श्री स्वामी प्रसाद मौर्या जी एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन!’

हालांकि मौर्य ने अभी कहा है कि पार्टी को लेकर अभी उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है. यूपी भाजपा के प्रवक्ता हरीश श्रीवास्तव के अनुसार मौर्य का कदम अवसरवादी राजनीति को दिखाता है.

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे पर केशव प्रसाद मौर्य ने कहा था, ‘आदरणीय स्वामी प्रसाद मौर्य जी ने किन कारणों से इस्तीफा दिया है मैं नहीं जानता हूं, उनसे अपील है कि बैठकर बात करें जल्दबाजी में लिये हुये फैसले अक्सर गलत साबित होते हैं.’


यह भी पढ़ें: SC ने हरिद्वार और दिल्ली में हेट स्पीच मामले में केंद्र, दिल्ली पुलिस, उत्तराखंड पुलिस से मांगा जवाब


24 घंटे में 6 नेताओं ने छोड़ी भाजपा

स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के अलावा भाजपा के चार विधायक भी पार्टी छोड़ने का ऐलान कर चुके हैं. यानी कि पिछले 24 घंटे में भाजपा के छह नेता पार्टी से अलग हुए हैं.

जिन चार विधायकों ने मंगलवार को इस्तीफा दिया था, उनका नाम है- रोशन लाल वर्मा, ब्रिजेश प्रजापति, भगवती सागर और विनय शाक्य.

बता दें कि दारा सिंह चौहान ने 2 फरवरी 2015 को भाजपा ज्वाइन की थी. उससे पहले वो मायावती की बहुजन समाज पार्टी में थे. चौहान राज्य सभा और लोकसभा के भी सदस्य रह चुके हैं. भाजपा में शामिल होने के बाद उन्हें भाजपा के ओबीसी मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया था.

बता दें कि कुछ दिन पहले ही चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के तारीखों का ऐलान किया था. यूपी में सात चरणों में मतदान होंगे और नतीजे 10 मार्च को आएंगे.


यह भी पढ़ें: दलितों-पिछड़ों की उपेक्षा के चलते स्वामी प्रसाद मौर्य ने योगी सरकार से दिया इस्तीफा, अखिलेश की SP से जुड़े


 

share & View comments