scorecardresearch
Wednesday, 12 June, 2024
होमराजनीति18 मुस्लिम, 14 OBC, 10 ब्राह्मण - BSP कैंडीडेट NDA से ज्यादा इंडिया ब्लॉक को नुकसान पहुंचा सकते हैं

18 मुस्लिम, 14 OBC, 10 ब्राह्मण – BSP कैंडीडेट NDA से ज्यादा इंडिया ब्लॉक को नुकसान पहुंचा सकते हैं

बसपा की अब तक की 64 उम्मीदवारों की सूची में अनुसूचित जाति के लिए केवल आरक्षित सीटों पर ही उम्मीदवार उतारे गए हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि 10 ब्राह्मणों और 5 ठाकुरों को मैदान में उतारा गया है, लेकिन उनके भाजपा के 'उच्च जाति' वोट आधार में सेंध लगाने की संभावना नहीं है.

Text Size:

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने जीत की संभावना को देखते हुए लोकसभा चुनाव में कई ‘उच्च जाति’ और मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है, लेकिन राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो इस सोशल इंजीनियरिंग से इंडिया गुट को एनडीए से भी ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है.

जबकि मायावती के नेतृत्व वाली बसपा के मुस्लिम उम्मीदवारों में इंडिया ब्लॉक समकक्षों की संभावनाओं को नुकसान पहुंचाने की क्षमता है. पार्टी ने इस बार बड़ी संख्या में ‘उच्च जाति’ (यूसी) के उम्मीदवारों को भी मैदान में उतारा है, जो एनडीए उम्मीदवारों का वोट काट सकते हैं.

हालांकि, राजनीतिक विशेषज्ञों ने कहा कि इसके कई उच्च जाति के उम्मीदवार “कम-महत्त्वपूर्ण” थे, जो बसपा की गिरती राजनीतिक साख के साथ-साथ संकेत देते हैं कि पार्टी भाजपा के वोट बैंक में कोई महत्वपूर्ण सेंध नहीं लगा सकती है, जो कि पिछले चुनावों में वफादार रही है.

बसपा ने अब तक 64 उम्मीदवारों की घोषणा की है जिसमें 14 अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), 14 दलित, 18 मुस्लिम और 18 यूसी उम्मीदवार शामिल हैं. इन 18 यूसी उम्मीदवारों में से 10 ब्राह्मण और पांच ठाकुर हैं.

अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) ने बसपा पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया है कि वह भाजपा के साथ मिली हुई है. जब बसपा ने मैनपुरी सीट पर अपने ओबीसी उम्मीदवार को बदलकर सपा उम्मीदवार – अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव – के खिलाफ एक यादव उम्मीदवार को मैदान में उतारा – तो सपा के आरोप और तेज़ हो गए.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

बसपा द्वारा मैदान में उतारे गए 64 उम्मीदवारों पर एक नजर डालने पर पता चला कि सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा, आंवला, पीलीभीत, लखनऊ, बदांयू, वाराणसी, एटा, डुमरियागंज, कन्नौज, गोरखपुर, संत कबीर नगर, महाराजगंज, फ़िरोज़ाबाद और भदोही की 18 सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार हैं.

सहारनपुर, संभल, अमरोहा और रामपुर में मुस्लिम उम्मीदवार इंडिया ब्लॉक द्वारा मैदान में उतारे गए साथी मुसलमान उम्मीदवारों से मुकाबला करेंगे.

अन्य निर्वाचन क्षेत्र जहां बसपा ने मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है, वहां भी बड़ी संख्या में मुस्लिम आबादी है, और पार्टी वहां चुनावी नतीजों को प्रभावित कर सकती है.

बसपा ने 10 सीटों पर ब्राह्मण उम्मीदवार उतारे हैं, जिनमें फर्रुखाबाद, बांदा, धौरहरा, अयोध्या, बस्ती, अलीगढ़, उन्नाव, मिर्ज़ापुर, फ़तेहपुर सीकरी और अकबरपुर शामिल हैं. साथ ही पांच ठाकुर कैंडीडेट वाली सीटें गौतम बुद्ध नगर, ग़ाज़ीपुर, गाजियाबाद, कानपुर और कैराना हैं व तीन उच्च जाति के कैंडीडेट वाली सीटें हैं- मेरठ, खीरी और जौनपुर.

पार्टी ने मैनपुरी, बरेली, सुल्तानपुर, बलिया, आज़मगढ़, घोसी, चंदौली, मथुरा, मुज़फ़्फ़रनगर, बिजनौर, बागपत, फूलपुर, सीतापुर और फ़तेहपुर में 14 ओबीसी को मैदान में उतारा है. इसने केवल 14 आरक्षित सीटों शाहजहांपुर, रॉबर्ट्सगंज, मोहनलालगंज, कौशाम्बी, लालगंज, हाथरस, आगरा, इटावा, जालौन, नगीना, बुलन्दशहर, मछलीशहर, हरदोई और मिश्रिख में दलितों को मैदान में उतारा है.

विधान परिषद के बसपा सदस्य भीमराव अंबेडकर ने दिप्रिंट को बताया कि बसपा एक राष्ट्रीय पार्टी है और इसने हमेशा जनसंख्या में एक समुदाय के अनुपात के आधार पर टिकट दिए हैं, चाहे वह ब्राह्मण हों, मुस्लिम हों, दलित हों या ओबीसी.

उन्होंने कहा, “ब्राह्मणों ने 2007 में हमारी पार्टी को वोट दिया था और हमेशा बीएसपी का समर्थन किया है, लेकिन उन्हें ‘साम दाम दंड-भेद’ का उपयोग करके दूसरों द्वारा गुमराह कर दिया गया.”

बसपा ने अपने नारे को ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ से संशोधित कर ‘बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय’ कर दिया है, जिसका उल्लेख अब प्रेस को दिए गए उसके बयानों में भी मिलता है.

बहुजन अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी और अन्य अल्पसंख्यकों के लिए एक व्यापक शब्द है.

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि संदेश में यह बदलाव दलितों, जो कि बसपा के खास वोटर्स हैं – के लिए है, क्योंकि वह यूसी उम्मीदवारों को मैदान में उतार रही है.

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर मिर्जा असमर बेग ने दिप्रिंट को बताया, “बसपा का दलित-ब्राह्मण गठबंधन का प्रयास कोई नई बात नहीं है. इससे पहले भी, अपने विश्वासपात्र सतीश मिश्रा के साथ, मायावती ने ब्राह्मणों और दलितों को एक साथ लाने की कोशिश की थी, जो 2007 में सफल रही थी. पार्टी को उम्मीद है कि वह 20 प्रतिशत दलित आबादी के साथ ब्राह्मणों को एकजुट कर लेगी, जो बसपा का मुख्य मतदाता है. अन्य दलों द्वारा ब्राह्मणों या ठाकुरों को टिकट नहीं दिए जाने के मद्देनजर, बीएसपी को उम्मीद है कि वह इस वर्ग के साथ दलित वोटों को जोड़ लेगी और जीत हासिल करने का प्रयास करेगी.”

उन्होंने कहा, “हालांकि, स्थिति पहले की तुलना में बदल गई है और भाजपा ने बसपा के जाटव मतदाताओं के बीच भी सेंध लगा ली है.”

‘यूसी वोटों में बदलाव की संभावना नहीं’

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि बसपा द्वारा सभी पार्टियों में सबसे अधिक संख्या में मुस्लिम उम्मीदवार उतारने से इंडिया गठबंधन के वोट शेयर में सेंध लगने की सबसे अधिक संभावना है.

सपा ने आरोप लगाया है कि बसपा मुस्लिम वोटों को बांटकर भाजपा की मदद कर रही है और भाजपा के कहने पर बसपा ने अपना मैनपुरी उम्मीदवार बदल दिया है.

दिप्रिंट से बात करते हुए सपा प्रवक्ता आई.पी. सिंह ने बसपा पर अक्सर लगाए जाने वाले एक आरोप को दोहराया – कि वह “भाजपा की बी-टीम” के रूप में काम कर रही है.

सिंह ने दिप्रिंट को बताया, “बसपा के लिए, भाजपा से लड़ना प्राथमिकता नहीं है, लेकिन इंडिया ब्लॉक, खासकर सपा से लड़ना प्राथमिकता है. लेकिन, जनता समझ चुकी है कि कौन नेता किसके इशारे पर काम कर रहा है. बसपा के कई पूर्व पिछड़े, दलित, मुस्लिम नेता सपा में शामिल हो गए हैं और इस बार एक भी वोट बर्बाद नहीं होगा.”

हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि सपा-कांग्रेस के वोट के भाजपा के वोटों की तुलना में विभाजित होने की ज्यादा संभावना है क्योंकि बीजेपी के पास ज्यादा विश्वसनीय वोट बैंक है.

उन्होंने कहा, ”बसपा ने इसी तरह मेरठ में त्यागी उम्मीदवार खड़ा किया है क्योंकि त्यागी भाजपा से नाराज हैं.”

बसपा के ब्राह्मण उम्मीदवारों के बारे में बेग ने कहा कि ब्राह्मण मतदाता पारंपरिक रूप से पिछले चुनावों में भाजपा को वोट देते रहे हैं और यह संभावना नहीं है कि उनके वोटिंग पैटर्न में बदलाव होगा, लेकिन मतदाताओं को आकर्षित करने की उनकी क्षमता मायने रखती है.

शशिकांत पांडे ने कहा, “हालांकि यह सच है कि उसके मुस्लिम उम्मीदवार भारतीय गठबंधन के उम्मीदवारों के वोट शेयर में सेंध लगा सकते हैं, लेकिन उसने (बसपा) पश्चिम यूपी की सीटों पर ठाकुर जैसे उच्च जाति के उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है, जिससे समुदाय के भीतर भाजपा के प्रति गुस्सा महसूस हो सके।” बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान विभाग के प्रमुख ने दिप्रिंट को बताया.

उन्होंने कहा, ”बसपा ने इसी तरह मेरठ में त्यागी उम्मीदवार खड़ा किया है क्योंकि त्यागी भाजपा से नाराज हैं।”

बसपा के ब्राह्मण उम्मीदवारों के बारे में बेग ने कहा कि ब्राह्मण मतदाता पारंपरिक रूप से पिछले चुनावों में भाजपा को वोट देते रहे हैं और यह संभावना नहीं है कि उनके वोटिंग पैटर्न में बदलाव होगा, लेकिन मतदाताओं को आकर्षित करने की उनकी क्षमता मायने रखती है।

उन्होंने कहा कि बीएसपी उम्मीदवार बीजेपी की तुलना में इंडिया ब्लॉक को नुकसान पहुंचाने की अधिक संभावना रखते हैं क्योंकि कांग्रेस और सपा के पास कोई विश्वसनीय मतदाता आधार नहीं है. उन्होंने कहा, दूसरी ओर, ब्राह्मण, ठाकुर और यादव जैसे ओबीसी ने पिछले चुनावों में भाजपा को वोट दिया है.

उन्होंने कहा, “भाजपा का फायदा यह है कि वह सत्ता में है. पिछले चुनावों में, यह देखा गया है. उच्च जाति के वोट भाजपा को जाते हैं. इसलिए, भले ही बसपा किसी ब्राह्मण या ठाकुर को मैदान में उतारती है, मतदाता अपने समुदाय से बेहतर उम्मीदवार को वोट देंगे, जिसके जीतने की संभावना हो.”

(इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः क्यों अमरावती से बीजेपी कैंडीडेट नवनीत राणा महायुति से अलग-थलग पड़ गई हैं


 

share & View comments