Saturday, 20 August, 2022
होममत-विमतकोविड काल में कंपनियां अपना आकार घटा रही हैं, इन तीन तरीकों से आप अपनी नौकरी बचा सकते हैं

कोविड काल में कंपनियां अपना आकार घटा रही हैं, इन तीन तरीकों से आप अपनी नौकरी बचा सकते हैं

नौकरी बची रहने के लिए केवल अच्छा काम ही पर्याप्त नहीं होता, खासकर संकटकालीन परिस्थितियों के दौरान, यह ऐसा समय होता है जब आपके पेशेवर रिश्ते ज्यादा अहम भूमिका निभाते हैं.

Text Size:

कोरोनावायरस का संकट जीवन और आजीविका दोनों के लिए बड़ा खतरा बन रहा है, वो भी इतने बड़े पैमाने पर जिसका हमने कभी सामना ही नहीं किया. यात्रा और पर्यटन जैसे कई उद्योगों में तो एक लंबे समय तक मांग में गिरावट का ही रुख रहने के आसार हैं. नतीजा, अगले दो साल या उससे ज्यादा समय तक लाखों नौकरियां खतरे में हैं. मौजूदा हालात को देखते हुए नौकरी बचाने और रोजगार लायक बने रहने के लिए कुछ अतिरिक्त प्रयासों पर विचार करना जरूरी हो गया है.

संकट के इस समय में तीन प्रमुख बातें ही आपको सफलता की राह पर आगे ले जा सकती हैं. एक, सबसे पहले तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप वह काम कर रहे हो जो आपके संगठन में किसी और के वश का न हो. आपको अपनी यह कार्य क्षमता संगठन के मानकों के अनुरूप प्रमुख प्रदर्शन संकेतकों (केपीआई) के जरिये दर्शानी भी होगी. दूसरा, आपको मजबूत रिश्ते और नेटवर्क बनाने होंगे, ताकि आपको अच्छे और बुरे समय में पर्याप्त लोगों का समर्थन हासिल रहे, और, अंत में आपको बदलते समय और जरूरतों के मुताबिक लगातार सीखते रहना और अपने कौशल को बढ़ाना जारी रखना होगा.

सरकारी नौकरी कर रहे तमाम लोग मानते हैं कि परफॉरमेंस और ग्रोथ कोई मायने नहीं रखती है. उनकी अपेक्षा यही होती है कि वैसे भी समय के साथ उन्हें प्रोन्नति मिलती रहेगी. वह तो यहां तक मानते हैं कि ज्यादातर कामकाज बिना किसी तारतम्य के तय होता है, इसलिए नए कौशल के विकास में अपनी तरफ से कोई प्रयास भी नहीं करते. लेकिन होता ऐसा नहीं है. सरकारी नौकरियों में भी एकदम स्पष्ट तौर पर यह देखा जाता है कि कौन गुणवत्तापूर्ण कार्य कर रहा है और कौन खाली समय बर्बाद कर रहा है. अच्छा प्रदर्शन करने वालों को उनके पूरे कैरियर के दौरान महत्वपूर्ण कार्य और तरक्की के जरिये पुरस्कृत किया जाता है.

प्रदर्शन

सबसे पहले निजी और सार्वजनिक क्षेत्र दोनों में प्रदर्शन की बात करते हैं. आप जो काम करते हैं वह सुपरिभाषित और आसानी से मापा जाने योग्य होना चाहिए. आपमें अपने काम को तीन या चार मैट्रिक्स में निर्धारित करने की काबिलियत होनी चाहिए जिसके जरिये आपका आउटपुट मापा जा सके (यानी आपका केपीआई). यहां पर वास्तविक और ठोस नंबर ही मायने रखते हैं क्योंकि आपकी अहमियत तभी स्पष्ट होती है जब आप यह दिखा पाएं कि व्यक्तिगत रूप से कुछ ऐसा कर रहे हैं जो कोई और नहीं कर सकता है. इसके साथ ही यह भी स्पष्ट करना होगा कि ये केपीआई संगठन के लिए कितने अमूल्य हैं. उदाहरण के तौर पर एक सेल्सपर्सन हर माह 10 लाख रुपये का कारोबार कर सकता है. एक ग्राहक सेवा प्रतिनिधि प्रतिदिन आराम से 40-50 शिकायतों को निपटा सकता है. एचआर का एक व्यक्ति हर दिन 6-8 लोगों को नौकरी पर रखने की क्षमता रखता है.


यह भी पढ़ें : कोविड प्रभावित दुनिया में आम होगा रोज़गार और व्यापार का नुक़सान, लेकिन भारत के लिए ये बस एक और तूफ़ान जैसा

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


इन केपीआई को निर्धारित करने के लिए आपको और आपके सुपरवाइजर को साथ मिलकर काम करना होगा. एक बार आपके बीच जब इन केपीआई पर सहमति बन जाती है तो फिर यह आपकी जिम्मेदारी है कि आप इसे नियमित रूप से ट्रैक करें और समय-समय पर अपने सुपरवाइजर के साथ इस पर चर्चा भी करें. आपके सुपरवाइजर की भी इस पर ईमानदारी से फीडबैक देने में रुचि होनी चाहिए कि क्या संगठन आपके प्रदर्शन को महत्व दे रहा है और आप इसमें सुधार के लिए और क्या कर सकते हैं. आपकी कार्यक्षमता को पहचानने और उसकी कद्र करने के लिए निष्पक्ष प्रदर्शन प्रबंधन आवश्यक है.

व्यक्तिगत तालमेल

दुर्भाग्यवश, ऐसे कई मौके आए जब सिर्फ अच्छा काम नौकरी में बने रहने के पर्याप्त नहीं होता. अक्सर मांग घटने पर कंपनियों को अपने कामकाज को समेटना पड़ता है. कई बार पूरी डिवीजन और समूह बंद भी हो जाते हैं. ऐसे में आप क्या करते हो? यही ऐसा समय होता है जब आपके पेशेवर रिश्ते अहम भूमिका निभाते हैं. यदि आपने संगठन में कुछ अच्छे रिश्ते बनाए हैं और आपकी पहचान अच्छा प्रदर्शन करने वाले के तौर पर है, तो आपको किसी अलग डिवीजन या विभाग में कार्य पर लगाया जा सकता है. इसी तरह, यदि अपने क्षेत्र में किसी कंपनी में उत्कृष्टता हासिल करने वाले के तौर पर पहचान कायम की है तो बहुत संभव है कि आपको उसी उद्योग से जुड़ी कोई अन्य कंपनी अपने यहां काम पर रख ले.

अच्छे रिश्ते और नेटवर्क उस समय नहीं बनते जब आपको उनकी जरूरत होती है. इन्हें तब बनाना पड़ता है जब आपको उनकी आवश्यकता नहीं होती है. इसके लिए आपको संगठन और उद्योग पारिस्थितिकी तंत्र के लोगों को अच्छी तरह से समझना होगा. कोरोनावायरस संकट के दौरान, आप उद्योगों से जुड़े आयोजनों और सम्मेलनों में तो नहीं जा सकते हैं, लेकिन निश्चित रूप से अच्छे वेबिनार में हिस्सा ले सकते हैं. आप अपने नेटवर्क से जुड़े लोगों के साथ ईमेल और दिलचस्प लेखों को साझा कर सकते हैं. विभिन्न ब्लॉग या ट्विटर पर दिलचस्प विचार पोस्ट करना भी आपकी पसंद हो सकती है. सोशल मीडिया पर आपकी मौजूदगी मजबूती और ताजगी भरी होनी चाहिए, यानी ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप ऐसे लोगों के साथ जुड़े रह सकते हैं जो काफी अहमियत रखते हैं.

कौशल विकास

कोरोनावायरस संकट ने निश्चित रूप से हमारा समय बचा दिया है. हमें पहले की तरह यात्रा या आवागमन की जरूरत नहीं है. बैठकों में संभवत: हमारा समय कम लग रहा है. हालांकि, रिसर्च बताती हैं कि घर से काम करने की वजह से उत्पादकता कम हो सकती है क्योंकि कर्मचारियों के पास घर में उत्पादक काम के लिए उपयुक्त माहौल नहीं होता है और उन्हें कार्यस्थल वाली सामाजिक सहभागिता की कमी भी सताती है. ऐसे में प्रदर्शन के प्रबंधन और नए कौशल सीखने पर ध्यान केंद्रित करना और भी जरूरी हो गया है.

दूरस्थ शिक्षा अब बहुत ही आसान हो गई है. एडएक्स, कॉसरा, उडमी और ऐसे ही कई अन्य लर्निंग प्लेटफॉर्म पर शीर्ष विश्वविद्यालयों और संस्थानों के तमाम ऑनलाइन कोर्स उपलब्ध हैं. पुस्तकें, पॉडकास्ट, वृत्तचित्र, टेड टॉक्स और समाचार पोर्टल भी सभी विषयों पर शानदार सामग्री उपलब्ध कराते हैं. नए विषयों और मुद्दों के बारे में जानना-सीखना बहुत आसान हो चुका है, आपकी जरूरत का हर विशेषज्ञ उपलब्ध है, हर विषय को बारीकी से समझा जा सकता है.


यह भी पढ़ें : कोविड महामारी के कारण दुनिया की बंद होती सीमाओं के बीच प्रवासी भारतीयों के प्रवाह की दिशा उलटी हो रही है


कहावत है जहां चाह वहां राह. यह अपने कैरियर में आगे बढ़ने का समय है. निष्पक्ष प्रदर्शन प्रबंधन, परस्पर संबंध और निरंतर कौशल विकास के जरिये आप आगे बढ़ सकते हैं. जैसे भारत लगातार खुद को स्थितियों के अनुरूप ढाल रहा है, आप भी खुद में बदलाव लाएं और किसी भी चुनौती का सामना करने को तैयार रहें.

(लेखक वित्त मामलों की स्थायी संसदीय समिति के अध्यक्ष और हजारीबाग से लोकसभा सांसद हैं. यह उनके निजी विचार हैं)

(इस लेख को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments