Priyanka Chopra Nick Jonas
निक जोनस के साथ प्रियंका चोपड़ा | गेट्टी
Text Size:

प्रियंका चोपड़ा ने कुछ ऐसा किया है जो कोई भी भारतीय नहीं कर पाया है – बॉलीवुड या हॉलीवुड में अपने स्टारडम को त्यागे बिना उन्होंने दोनो फ़िल्मी जगतों में अपना प्रभाव बनाए रखा।

निकयंका!

वास्तव में, कॉज़्मोपोलिटन? प्रियंका चोपड़ा-निक जोनस की जोड़ी पहले ही ब्रेन्जेलिना स्टेटस हासिल कर चुकी है? विरुष्का जरूर अप्रसन्न होंगे। उन्हें अपना संयुक्त नाम कमाने के लिए अपने रोमांस पर बहुत कठिन मेहनत करनी पड़ी थी।

निक जोनस और प्रियंका चोपड़ा के 2018 की गर्मियों के रोमांस, जो एक ही साल में शून्य से शिखर तक गया, के बारे में काज़्मो की निश्चित टाइमलाइन भी एक अति महत्वपूर्ण सर्वेक्षण के साथ आती है।

यदि प्रियंका और निक का ब्रेक-अप हो जाये तो आप को कोई दिक्कत नहीं होगी?

बर्फ। माफ़ कीजिए, मेरा मतलब बर्फी!

यह सब प्रियंका चोपड़ा की माँ द्वारा अमेरिकी गायक, जिसे उनकी बेटी घर ले आ चुकी है, के बारे में एक उचित राय बना पाने से बहुत पहले है। यह भारत है । माताएं मायने रखती हैं। मधु चोपड़ा ने कहा है: “”मैंने पहली बार उनसे मुलाकात की है, इसलिए एक राय बनाने में यह बहुत जल्दी है।”

लेकिन हममें से बाकी लोगों को ऐसी कोई समस्या नहीं है।

यह जोड़ा मुंबई में उसी झोंके की तरह आया जैसे मुंबई में मान्सून एक झोंके की तरह आता है । और कवरेज की बाढ़ ने हमें उनकी यात्रा में हर एक महत्वपूर्ण कदम से अवगत कराया है।

निश्चित रूप हवाई अड्डे के रास्ते पर स्वतंत्र फोटोग्राफरों से बचने के लिए वहां अनिवार्य रूप से पर्दे खिंचे गए थे, लेकिन हमारे यह जान पाने से पहले नहीं कि निक गुलाबी टी-शर्ट और नीली डेनिम जैकेट में थे और पीसी एक काली ड्रेस में थीं।
परिवार और दोस्तों के साथ एक “भोज” का आनंद लिया गया, जो कि बांद्रा-कुर्ला काम्प्लेक्स में याऊचा में माँ और दस अन्य लोगों के साथ एक मानसूनी रात्रिभोज था।

गोवा में अपनी चचेरी बहन परिणीती चोपड़ा के साथ कैमरे के लिए किया गया ‘टिप टिप बरसा पानी’ डांस बचकाना था।
असल में, अपने खुद के वीआईपी तरीके से, यह सब लगभग सामान्य लग रहा था, जैसे युवा लोग अपने दोस्तों, परिवार, प्रेमी जनों और इन्स्टाग्राम के साथ एक अच्छा समय बिता रहे हों। लेकिन हमारी सेलेब्रिटी की दीवानी दुनिया में, हम उन्हें स्वच्छंद जीवन जीने का मौका नहीं देते है । हमने इसे निकयंका युक्त बना दिया है।

मीडिया को परिणीति चोपड़ा के साथ “विशेष” साक्षात्कारों के आधार सभी लेख तैयार करने हैं जो सनसनीखेज जानकारी देती हैं जैसे: यह एक फैमिली ट्रिप की तरह था और हमारे साथ दोस्त भी थे। इसलिए हकीक़त में यह एक फ्रेंड्स और फैमिली वाली ट्रिप थी। यह छोटी और प्यारी थी। मैं 24 घंटे वहां थी और मैंने अच्छा समय बिताया। यह एक बहुत बढ़िया ट्रिप थी।” उस व्यक्ति को सलाम जिसने इसके इर्द-गिर्द एक कहानी बनाई।

क्वांटिको स्टार के काफी करीबी सूत्र ने बताया कि वे जुलाई या अगस्त की शुरूआत में एक बंधन में बंधने के लिए तैयार हैं। यह इंस्टाग्राम पर होने वाली बातचीत के साथ सभी मेलजोल के अतिरिक्त है, जहाँ पर हमने इस जोड़े को इंस्टाग्राम फ्लर्टिंग के माध्यम से अपने रिश्ते को अगले पायदान पर ले जाते देखा है।

यहाँ पर कुछ ऐसे लेख और टिप्पणियों का प्रयोग किया गया जिनमें विशेषज्ञों ने “क्या उम्र का अंतर एक रिश्ते में कुछ मायने रखता है” से संबंधित विषयों पर भी ध्यान दिया है। याद कीजिए कि इसी तरह के लेख सैफ अली खान और करीना कपूर (उम्र का अंतर 10 साल) और शाहिद कपूर तथा मीरा राजपूत (उम्र का अंतर 14 साल) के बारे में भी लिखे गए थे।

यह सभी बातें बिना किसी संदेह के निश्चित रूप से एक बात तो साबित करती हैं। हमें एक सामूहिक जीवन प्राप्त करने की आवश्यकता है। और इसका मतलब निक जोन्स और प्रियंका चोपड़ा की जिंदगी से बाहर निकलना है।

यह खबर नहीं है कि प्रियंका चोपड़ा अपने परिवार से मिलवाने के लिए एक जवान गोरे लड़के को घर लाई हैं। या कम से कम यह जमीन हिला देने वाली खबर नहीं है जो वह अपने करियर में पहले ही कर चुकी हैं।

वह मिस वर्ल्ड रह चुकी हैं। उन्होंने हॉलीवुड में काम किया है। उन्होंने एक अमेरिकी टेलीविजन सीरीज में अभिनय किया है, जिसमें उन्होंने भेजे गए 26 कथानकों में से क्वांटिको को चुना। 2017 में उनको फोर्ब्स द्वारा दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में शामिल किया गया था। उन्होंने एक दशक से भी अधिक समय के लिए यूनिसेफ के साथ काम किया है। उन्हें यूनिसेफ गुडविल एंबेसडर नियुक्त किया जा चुका है। उनकी अपनी एक उत्पादन कंपनी है। वह लॉस एंजिल्स में क्रिएटिव आर्टिस्ट्स एजेंसी द्वारा हस्ताक्षरित पहली बॉलीवुड स्टार हैं। उन्होंने गाने रिकार्ड किए हैं और पिटबुल के साथ एक गाना रिलीज भी किया है। एक डिज्नी फिल्म के लिए वह आवाज कलाकार रह चुकी हैं और स्पष्ट है कि वह एबीसी के लिए अपना खुद का सिटकॉम विकसित कर रही हैं। उन्होंने कामयाबी की सीढ़ियाँ चढ़ते हुए खुद को एक असली अंतर्राष्ट्रीय स्टार के रूप में स्थापित कर लिया है। वह मैनहैटन बिलबोर्ड पर एक भारतीय चेहरा हैं। उनके पास उनकी कई हिट और फ्लॉफ फिल्में थीं लेकिन उन्होंने कुछ ऐसा किया जो कोई अन्य भारतीय कलाकार करने में सक्षम नहीं था, फिर चाहे बॉलीवुड हो या हॉलीवुड अपने स्टारडम से समझौता किए बिना ही उन सबको पार लगा दिया।

निश्चित रूप से, जब उन्होंने क्वांटिको को ब्रा-बर्निंग नारीवादी नहीं लेकिन महिला शसक्तीकरण से संबंधित बताया था तब नारीवाद पर इनके पहले और एकल बयान को लेकर कुछ लोग नाराज हो गए थे। लेकिन उसी इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि, “मैं याद रखने लायक काम करना चाहती हूँ।“

फिर भी निक जोनस के साथ भारत आना कुछ ऐसा मामला है जो हमको बावलेपन में धकेलता है?

निक जोनस अपने स्वयं के अधिकार में बिलबोर्ड 100 स्टार हैं, एक डिज्नी सनसनीखेज और पीपुल मैग्जीन के सेक्सिएस्ट मैन एलाइव की सूची के सदस्य हैं, लेकिन प्रियंका चोपड़ा की तुलना में और उन बाधाओं के मामले में जहाँ पर प्रियंका चोपड़ा हैं वहाँ पर निक की हालत ऐसी है कि कोई उनसे पूछ सकता है ’कौन निक ’। अरे वही (निक) जिसकी किस्मत चमक गई है।

लेकिन इस पूरे मामले में एक अच्छी बात सामने आई है। यह बहुत पुरानी बात नहीं है कि यूनिसेफ गुडविल एंबेसडर के रूप में रोहिंग्या शरणार्थी शिविर में जाने और बच्चों की दुर्दशा देखकर परेशान हो जाने के कारण प्रियंका को ट्रोल किया जा रहा था। क्वांटिको के एक एपिसोड में “हिन्दू आतंकवाद” को चित्रित कर लोगों की भावनाओं को आहत करने और एक “गर्वित भारतीय” के रूप में अपनी स्थिति को स्पष्ट करने के लिए प्रियंका ने माफी मांगी थी। गोवा हवाईअड्डे पर जाते हुए प्रियंका और निक की पीछे से ली गई तस्वीरों द्वारा अब सब कुछ भुला दिया गया है। निक जोनस कम से कम कुछ पुताई करने (कुछ विवादित मामलों को शांत करने) के लिए ही काम आए।

निश्चित रूप से, इसमें कोई संदेह नहीं है कुछ ट्रोल दोगुना नाराज हुए होगें कि प्रियंका ने “गर्वपूर्ण भारतीय” विरोध के बावजूद एक उपयुक्त भारतीय लड़के की बजाय खुद के लिए एक श्वेत आदमी ढूंढकर उनके जले पर नमक लगाया है।और सबसे बुरी बात यह है कि वह शर्मीलेपन के साथ इससे थोड़ा सा खुश दिखती हैं और हम अपने सितारों से उम्मीद करते हैं कि वह थोड़ा बनावटी हों जब वे अपने “अफवाह” डेटिंग चरण में हों। ट्रोल करने वालों के लिए कोई सात खून माफ नहीं है लेकिन प्रियंका को इसकी परवाह नहीं करनी चाहिए।

यह सच है कि क्वांटिको रद्द कर दिया गया है और बेवाच को गोल्डन रास्पबेरी पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। लेकिन मुझे यह पहचानने के लिए भी प्रियंका का प्रशंसक होने की जरूरत नहीं है कि प्रियंका अभी अपने सफलता के शिखर पर पहुंती ही हैं। और यह निक जोनास की वजह से नहीं है। वह सिर्फ एक जरिया हैं।

बेशक, क्या इसका मतलब है कि बॉलीवुड में सबसे ज्यादा भुगतान किए जाने वाले पुरुष सितारों के जितना उन्हें भी भुगतान किया जाएगा?

संदीप रॉय एक पत्रकार, टिप्पणीकार और लेखक हैं

Read in English : Nick Jonas lucked out with Priyanka Chopra — not the other way around


Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here