Wednesday, 25 May, 2022
होमलास्ट लाफयोगी ने कृष्ण पूजा शुरू की और भारत की सोशल मीडिया पीढ़ी को कौन खा रहा है

योगी ने कृष्ण पूजा शुरू की और भारत की सोशल मीडिया पीढ़ी को कौन खा रहा है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के फीचर कार्टून में मंजुल अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए धार्मिक प्रतिस्पर्धी राजनीति को दिखाने की कोशिश कर रहे हैं. वह दिखा रहे हैं कि अब जब ज्यादातर राजनेता राम के नाम का ‘जप’ रहे हैं तो ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कृष्ण का नाम लेना शुरू कर दिया है, वो मथुरा को ‘वापस हासिल’ करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं.

आर प्रसाद | Economic Times

आर प्रसाद ने उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू द्वारा सोमवार को केरल के मन्नानम में आयोजित एक कार्यक्रम में अन्य धर्मों के खिलाफ अभद्र भाषा की निंदा करने की तरफ इशारा कर रहे हैं और जिसमें उन्होंने ईसाई समुदाय पर हाल के हमलों की निंदा की जिसपर दर्शकों की तरफ से मजाक बनाया गया.

आलोक निरंतर | Twitter/@caricatured

आलोक निरंतर संदेश दे रहे हैं कि मुंबई पुलिस ने बुल्ली बाई’ ऐप केस में बेंगलुरु से एक 21 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र और उत्तराखंड में एक 18 वर्षीय महिला और दिल्ली से एक 20 वर्षीय लड़के को गिरफ्तार कर लिया है. ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की सहमति के बिना उनकी मॉर्फ्ड तस्वीरें अपलोड करके उन्हें निशाना बनाया गया था और ‘नीलामी’ की गई थी.

साजिथ कुमार | Deccan Heraldसाजिथ कुमार भी बुल्ली बाई ऐप मामले में इंजीनियरिंग छात्र की गिरफ्तारी पर भी तंज कस रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

ई.पी. उन्नी | The Indian Express

ई.पी. उन्नी लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में अपने बेटे के मुख्य आरोपी होने के बावजूद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल ने सोमवार को 14 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया जिसके बाद विपक्ष ने उनकी बर्खास्तगी की मांग की.

कीर्तिश भट्ट | BBC Hindi

कीर्तीश भट्ट ने ओमीक्रॉन वैरिएंट तेजी से बढ़ते मामलों के बावजूद चुनावी राज्यों में अपनी रैलियों को जारी रखने वाले राजनीतिक दलों पर तीखा हमला किया है. वो एक राजनेता को जनता को भीड़ की चिंता न करने की घोषणा करते हुए दिखा रहे हैं क्योंकि पार्टी ‘अफवाह फैलाएगी’ कि रैली में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया था.

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments