Wednesday, 25 May, 2022
होमलास्ट लाफक्या UP चुनाव से पहले जाग जाएगा सोया हाथी, कन्हैया ने उमर खालिद के सवाल से काटी कन्नी

क्या UP चुनाव से पहले जाग जाएगा सोया हाथी, कन्हैया ने उमर खालिद के सवाल से काटी कन्नी

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के फीचर्ड कार्टून में आलोक निरंतर ने बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती की यूपी विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव प्रचार से अनुपस्थिति पर प्रकाश डालते हैं. निरंतर में बसपा के चुनाव चिह्न हाथी की सूंड में सोई हुई मायावती को भाजपा के योगी आदित्यनाथ, सपा के अखिलेश यादव और कांग्रेस की प्रियंका गांधी वाड्रा की तुलना में पीछे दिखाया है.

ईपी उन्नी। इंडियन एक्सप्रेस

ईपी उन्नी ने 2019 में जम्मू और कश्मीर में मोदी सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को खत्म करने को परिसीमन आयोग के मसौदा प्रस्ताव के साथ जोड़ा, जिसमें जम्मू क्षेत्र में छह नई विधानसभा सीटों और कश्मीर में केवल एक को जोड़ने का सुझाव दिया गया था. कार्टूनिस्ट कश्मीर की पौराणिक स्थिति को ‘धरती पर स्वर्ग’ के रूप में चित्रित करते हैं और जॉन मिल्टन के ‘पैराडाइज़ लॉस्ट’ और इसके सीक्वल ‘पैराडाइज़ रिगेन्ड’ से तुलना कर कटाक्ष करते हैं.

साजिथ कुमार | डेक्कन हेराल्ड

2021 में भारतीय रुपये के एशिया में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली मुद्रा के रूप में समाप्त होने की उम्मीद है. साजिथ कुमार एक सांसद को दूसरे को बताते हुए दिखाते हैं कि यह ‘व्हाटबाउटरी’ की तैयारी के लिए एक आदर्श समय है – अपरिहार्य आरोपों का मुकाबला करने के लिए एक आसान उपकरण है.

 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सतीश आचार्य। Twitter

सतीश आचार्य ने कांग्रेस नेता और पूर्व छात्र कार्यकर्ता कन्हैया कुमार को जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद के बारे में सवालों पर अनदेखी को दर्शाया है. रिपोर्टर ने कहा था कि खालिद अतीत में उसका दोस्त रहा है तो कुमार ने जवाब दिया, ‘आपको ऐसा किसने बताया?’

कीर्तिश भट्ट | बीबीसी समाचार हिंदी

कीर्तीश भट्ट दर्शाते हैं कि ओमीक्रॉन के डर के बीच डब्ल्यूएचओ ने पैसेंजर्स की छुट्टियों को कम करने की अपील की हैं क्या वे राजनेताओं की रैलियों पर प्रतिबंध लगाने की हिम्मत कर सकतें हैं.

(लास्ट लाफ को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments