Wednesday, 1 February, 2023
होमलास्ट लाफवो पायलट जो हमेशा मिराज उड़ाता है और क्यों मोदी ही बता सकते हैं शिंदे का भविष्य

वो पायलट जो हमेशा मिराज उड़ाता है और क्यों मोदी ही बता सकते हैं शिंदे का भविष्य

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के प्रदर्शित कार्टून में, संदीप अध्वर्यु अशोक गहलोत की टिप्पणी जिससे राजस्थान कांग्रेस में शुरू हुई अंदरूनी कलह की एक नई लड़ाई को चित्रित करते हैं कि वह सचिन पायलट को कभी भी मुख्यमंत्री नहीं बनने देंगे. गहलोत ने आरोप लगाया कि पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने सितंबर में पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की कोशिश की, जिसके कारण कांग्रेस विधायकों ने विद्रोह का प्रयास किया.

Alok Nirantar | Twitter/@caricatured

आलोक निरंतर, यह बताते हुए कि कैसे भाजपा महाराष्ट्र में शिवसेना के टूटे हुए गुट के साथ गठबंधन कर सत्ता में आई, वह मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे पर नासिक में एक अंकशास्त्री और ज्योतिषी, कैप्टन अशोक खरात के यहां जाने का मज़ाक उड़ाते हैं.
Sajith Kumar | Twitter
साजिथ कुमार भारतीय खिलाड़ियों की तुलना जर्मन फुटबॉल टीम के सदस्यों से करते हैं जिन्होंने मौजूदा फीफा विश्व कप के दौरान ग्रुप फोटो में अपना मुंह ढंक लिया था, जो मेजबान देश कतर की मांग ‘वनलव‘ आर्मबैंड पर फुटबॉल संघ के प्रतिबंध का विरोध करने के लिए था. मांग थी कि कतर, LGBTQ को शामिल किए जाने को स्वीकार करे, पर वहां समलैंगिक संबंध अवैध है.
Nala Ponnappa | Twitter/@PonnappaCartoon

नाला पोनप्पा ने फीफा विश्व कप 2022 पर अपनी राय देते हुए इस बात पर प्रकाश डाला कि कैसे भारतीय उपमहाद्वीप में क्रिकेट को काफी ज्यादा देखा जाता है.

Kirtish Bhatt | Twitter/@Kirtishbhat | BBC Hindi

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कीर्तिश भट्ट भारत के चुनाव आयोग में सदस्यों की नियुक्ति की प्रक्रिया में सुधार की सिफारिश करने वाली याचिकाओं के एक समूह की सुनवाई करने वाले सुप्रीम कोर्ट के पांच-न्यायाधीशों की पीठ को दर्शाते हैं. उदाहरण में, अदालत परिसर में बैठा एक आदमी दूसरे से कहता है: ‘जो लोग चुनाव कराते हैं, उनके चुनाव की चर्चा चल रही है.’

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments