मंजुल । फर्स्टपोस्ट
Text Size:

चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के विशेष रुप से प्रदर्शित कार्टून में मंजुल दिल्ली उच्च न्यायालय के उस फैसले पर कटाक्ष कर रहे हैं जिसमें कहा गया है कि वाहन चलाते वक्त मास्क पहनना अनिवार्य होगा, भले ही सिर्फ एक व्यक्ति वाहन चला रहा हो, भले ही राजनेता चुनाव वाले राज्यों में रैलियों के दौरान कोविड नियमों का उल्लंघन कर रहे हों.

Sandeep Adhwaryu | Times of India
संदीप अध्वर्यु । टाइम्स ऑफ इंडिया

संदीप अध्वर्यु लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया पर व्यंग्य कर रहे हैं

R. Prasad | Economic Times
आर प्रसाद । इकोनॉमिक टाइम्स

आर प्रसाद कोविड के बढ़ते हुए मामलों और मौतों को लेकर मोदी सरकार के प्लान ऑफ ऐक्शन पर कटाक्ष कर रहे हैं.

Mahamud | Twitter
महमूद । ट्विटर

जहां देश एक तरफ कोविड के बढ़ते मामलों की वजह से संघर्ष कर रहा है वहीं पश्चिम बंगाल में सीएम ममता बनर्जी पर ‘दीदी ओ दीदी’ कहकर तंज कसने पर व्यंग्य कर रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

Kirtish Bhat | BBC Hindi
किर्टिश भट्ट । बीबीसी हिन्दी

किर्टिश भट्ट बढ़ते कोविड मामलों के बीच हरिद्वार में कुंभ मेले के लिए उमड़ते श्रद्धालुओं, जिनमें से कुछ ने मास्क भी नहीं पहना है, के बारे में बता रहे हैं.

 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS