Saturday, 4 December, 2021
होमलास्ट लाफभारत की भूख की समस्या को ठीक करने के लिए एक और 'NCB', कैबिनेट मंत्रियों की चुप्पी की वजह

भारत की भूख की समस्या को ठीक करने के लिए एक और ‘NCB’, कैबिनेट मंत्रियों की चुप्पी की वजह

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून

आज के अपने विशेष प्रदर्शित कार्टून में, संदीप अध्वर्यु ने ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत के नीचे जाने का उल्लेख किया है, जो कि गुरुवार को जारी की गई थी, अधर्व्यु कार्टून में आश्चर्य जताते हैं कि क्या नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की तरह ‘निजी जांचकर्ताओं‘ के साथ एक पोषण अभियान ब्यूरो होना ठीक होगा, जिस पर आरोप है कि वह आर्यन खान ड्रग भंडाफोड़ मामले के लिए लगाई गई है.

इंडियन एक्सप्रेस में ई.पी. उन्नी ने केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के हालिया बयान की ओर इशारा किया, जिसमें अमेरिकी यात्रा के दौरान उन्होंने लखीमपुर खीरी हिंसा की निंदा की है, जब​​​​कि उनके बाकी कैबिनेट सहयोगी भी इस मुद्दे पर चुप रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

जैसे-जैसे ईंधन की कीमतें बढ़ रही हैं, नाला पोनप्पा ने एक पेट्रोल पंप को एक वैकल्पिक व्यवसाय की तलाश करते हुए दर्शाया है – किराए पर साइकिल देना.

मंसूर नकवी ने दो खबरें एक साथ बुनते हैं – हाल ही में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि महात्मा गांधी ने वीर सावरकर को अंग्रेजों को दया याचिका लिखने की सलाह दी थी, और भाजपा सांसद वरुण गांधी की किसानों के मुद्दों और लखीमपुर खीरी कांड पर उनकी पार्टी के खिलाफ ‘विद्रोह’ – एक भाजपा कार्यकर्ता की यह चिल्लाहट दिखाता है कि एक और ‘गांधी’ पार्टी को माफी मांगने की सलाह दे रहा है.

बीबीसी हिंदी में कीर्तिश भट्ट अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के नवीनतम अनुमानों पर प्रतिक्रिया देेते हुए कि 2021 में भारत की अर्थव्यवस्था 9.5 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी, भट्ट के कार्टून में आम लोग की फिक्र के को लेकर दिखाते हैं कि क्या कोई ऐसा संगठन है जो आटा, दाल, तेल की कीमतों और रसोई गैस के बारे में भी बता सकता है.

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments