Saturday, 2 July, 2022
होमदेशवर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने मंकीपॉक्स बीमारी को घोषित किया पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी

वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क ने मंकीपॉक्स बीमारी को घोषित किया पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी

एक दिन पहले वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख इस बात की घोषणा की थी कि इंटरनेशनल हेल्थ रेग्युलेशन इमरजेंसी कमेटी को 32 गैर-महामारी वाले देशों में मंकीपॉक्स के फैलने की वजह से आयोजित की गई थी.

Text Size:

नई दिल्लीः कोविड-19 के खतरे के खिलाफ बने वैज्ञानिकों के एक संगठन ने मंकीपॉक्स बीमारी को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया है.

एक दिन पहले वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख इस बात की घोषणा की थी कि इंटरनेशनल हेल्थ रेग्युलेशन इमरजेंसी कमेटी को 32 गैर-महामारी वाले देशों में मंकीपॉक्स के फैलने की वजह से आयोजित की गई थी.

एक्सपर्ट्स 23 जून को मिलेंगे ताकि यह पता लगाया जा सके कि यह महामारी अतर्राष्ट्रीय स्तर की पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी है या नहीं जो कि अभी तक सिर्फ पोलियो और कोविड-19 है.

विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क द्वारा मंकी पॉक्स को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया जाना दिखाता है कि यह महामारी सिर्फ एक देश या क्षेत्र तक सीमित नहीं है और इसके कम्युनिटी ट्रांसमिशन के स्तर तक पहुंचने के पहले इसका हल ढूंढना जरूरी है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

डब्ल्यूएचएन ने कहा, ‘वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क मंकीपॉक्स आउटब्रेक को वैश्विक स्तर की पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित करता है, जिससे पता चलता है कि यह बीमारी किसी एक देश या क्षेत्र तक सीमित नहीं है और इसलिए जहां कहीं भी कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है वहां इसे रोकने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए.’

लगभग 58 देशों में मंकीपॉक्स के मामले बढ़ रहे हैं और इसकी दर हफ्ते दर हफ्ते बढ़ रही है. इस बीमारी की वजह से तेज दर्द, चकत्ते, अंधापन और मौत तक हो सकती है जो कि मंकीपॉक्स के मामलों में देखा गया है.

बच्चों में इसके काफी गंभीर लक्षण देखने को मिल सकते हैं. इसके अलावा जंगली जीवों जैसे चूहों, गिलहरी, पालतू पशु इसके वाहक बन सकते हैं.


यह भी पढ़ेंः मंकीपॉक्स महामारी कैसे फैल सकती है, चार परिदृश्य से समझाने की कोशिश


 

share & View comments