Wednesday, 5 October, 2022
होमदेशसामाजिक कार्यकर्ता, राजनेता, स्वामी अग्निवेश का 80 साल की उम्र में निधन

सामाजिक कार्यकर्ता, राजनेता, स्वामी अग्निवेश का 80 साल की उम्र में निधन

डॉक्टरों के अनुसार स्वामी लीवर सिरोसिस से पीड़ित थे और गंभीर रूप से बीमार थे. मल्टी आर्गन फेल्योर की वजह से मंगलवार से ही वेंटिलेटर पर थे.

Text Size:

नई दिल्ली: सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश का शुक्रवार को दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज अस्पताल में निधन हो गया. वह 80 साल के थे. अग्निवेश लीवर सिरोसिस से पीड़ित थे और गंभीर रूप से बीमार थे. वह मल्टी आर्गन फेल्योर की वजह से मंगलवार से ही वेंटिलेटर पर थे. डॉक्टरों ने जानकारी दी है.

डॉक्टरों ने कहा कि अग्निवेश को यकृत एवं पित्त विज्ञान संस्थान (आईएलबीएस) के आईसीयू में भर्ती कराया गया था और मंगलवार से वह जीवनरक्षक प्रणाली पर थे.

अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘वह लिवर सिरोसिस से पीड़ित थे और आज उनकी हालत बिगड़ गयी. उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया तथा शाम छह बजे हृदयाघात आने के बाद उनका निधन हो गया.’

उन्होंने कहा कि स्वामी अग्निवेश को पुन: होश में लाने की कोशिश की गयी लेकिन शाम साढ़े छह बजे उनका निधन हो गया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

जाने-माने शख्स, सामाजिक मुद्दों को जोर-शोर से उठाने वाले स्वामी अग्निवेश आंदोलनों में सक्रिय भागीदारी रखने रखते थे. उन्होंने 1970 में आर्य सभा नाम की राजनीतिक पार्टी बनाई थी. 1977 में हरियाणा से विधानसभा के लिए चुने गए. 1981 में बंधुआ मुक्ति मोर्चा संगठन बनाया और गरीब अनाथ बच्चों की मुक्ति की लड़ाई आखिरी समय तक लड़ते रहे. 2011 में जनलोकपाल की मांग वाले और भ्रष्टाचार विरोधी अन्ना हजारे के आंदोलन से जुड़े. हालांकि बाद में मतभेद होने से अलग हो गए थे.

अग्निवेश टीवी रियलिटी शो बिग बॉस में पहुंचे और तीन दिन बिताए. इससे शो काफी चर्चा का विषय बना था.

share & View comments