Tuesday, 18 January, 2022
होमदेशगंगा दशहरा पर स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के लोकसभा क्षेत्र में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

गंगा दशहरा पर स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के लोकसभा क्षेत्र में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

बक्सर ज़िला मजिस्ट्रेट अमन समीर का कहना है कि गृह मंत्रालय की गाइडलाइन के मुताबकि तो धार्मिक स्थल 8 जून से खुलने हैं. लेकिन कंफ्यूजन की वजह से लोग गंगा दशहरा मनाने पहुंच गए होंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के लोकसभा क्षेत्र बक्सर में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की धज्जियां उड़ने का मामला सामने आया है. गंगा दशहरा के मौके पर यहां सैंकड़ों की संख्या में भीड़ गांग नदी के तमाम घाटों पर उमड़ी. स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक सबसे ज़्यादा भीड़ रामरेखा घाट पर उमड़ी.

लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद करने वाले यहां के एक समाजसेवी रामजी ने बताया, ‘पिछले ढाई महीने से पूजा स्थल बंद होने के कारण लोग अपनी धार्मिक मान्यताओं और आस्था के केंद्रों तक नहीं जा पा रहे थे. लॉकडाउन खुलने के साथ ही गंगा दशहरा के अवसर पर एक साथ भारी भीड़ गंगा घाटों पर उमड़ पड़ी.’

इस पर्व को लेकर मान्यता है कि इसी दिन गंगा धरती पर प्रकट हुई थीं. ऐसे में भारी संख्या में लोग गंगा में डुबकी लगाकर दान पुण्य का काम करती हैं. स्वास्थ्य राज्य मंत्री चौबे के लोकसभा क्षेत्र से आई तस्वीरों से साफ़ है कि ना सिर्फ़ यहां सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ी हैं बल्कि ज़्यादातर लोगों ना तो मास्क पहना था, ना मुंह ढ़ंका था.

तस्वीर: विशेष प्रबंध

रामजी ने कहा कि लोगों को अपने विवेक का परिचय देते हुए यह समझना पड़ेगा कि संकट अभी टला नहीं है और सार्वजनिक स्थानों पर जितनी भीड़ लगाएंगे कोरोना का संकट उतना ही विकराल होता चला जाएगा. ऐसे में अपने घर के अंदर ही पूजा-पाठ करें तभी इस ख़तरे को दूर रखा जा सकता है क्योंकि वायरस की कोई धार्मिक आस्था नहीं होती.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

मामले पर दिप्रिंट से फ़ोन पर हुई बातचीत में बक्सर ज़िला मजिस्ट्रेट अमन समीर ने कहा, ‘गृह मंत्रालय की गाइडलाइन के मुताबकि तो धार्मिक स्थल 8 जून से खुलने हैं. लेकिन आदेश को लेकर कंफ्यूजन की वजह से लोग गंगा दशहरा मनाने पहुंच गए होंगे.’

समीर का कहना है कि लॉकडाउन के हर फ़ेज़ में लोगों में गाइडलाइन को लेकर थोड़ी कंफ्यूजन रही है. उन्होंने कहा, ‘इस विषय पर हमने स्थानीय मीडिया को ब्रीफ़ किया है. सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) को भीड़ हटाने और लोगों को गाइडलाइन ठीक से समझाने से जुड़े आदेश दिए हैं.’

तस्वीर: विशेष प्रबंध

चौबे के लोकसभा क्षेत्र में हुए लॉकडाउन के ऐसे उल्लंघन के मामले में दिप्रिंट ने उनके ऑफ़िस से संपर्क किया लेकिन उन्होंने इस विषय पर कोई कमेंट करने से मना कर दिया. आपको बता दें कि महर्षी विश्वामित्र की नगरी कहे जाने वाले बक्सर को लेकर मान्यता है कि राम ने यहीं राक्षसी ताड़का का वध किया था.

ऐसी और भी कई धार्मिक मान्यताएं इस शहर से जुड़ी हुई हैं. इन्हीं वजहों से ये शहर बिहार समेत देश भर से धर्म में आस्था रखने वालों को आपनी ओर आकर्षित करता है. लेकिन फिलहाल शहर में नेतृत्व का संकट नज़र आता है. गंगा दशहरा पर भीड़ के मामले का संज्ञान लेने के मामले में सिर्फ़ सांसद नहीं बल्कि विधायक भी नदारद हैं.

कांग्रेस पार्टी के नेता मुन्ना तिवारी यहां के विधायक हैं. शराबबंदी वाले बिहार में हाल ही में उनकी गाड़ी से विदेश शराब मिलने का मामला सामने आया था. मामले में पुलिस ने विधायक समेत सात लोगों पर एफ़आईआर दर्ज करके जांच शुरू कर दी है. इस बारे में जब दिप्रिंट ने मुन्ना तिवारी से बात करने की कोशिश लेकिन उनका फ़ोन ऑफ़ जा रहा है.

आपको बता दें कि गृहमंत्रालय द्वारा जारी की गई लॉकडाउन 5.0 को अनलॉक 1.0 नाम दिया गया है. नई गाइडलाइन के मुताबिक 8 जून से धार्मिक स्थलों का खुलना शुरू होगा. लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय इसके लिए अलग से निर्देश जारी करेगा और यहां पर सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क अनिवार्य होगा.

share & View comments