scorecardresearch
Saturday, 15 June, 2024
होमदेशकोविड-19 लॉकडाउन के बीच रामानंद सागर की ‘रामायण’ का फिर से प्रसारण करेगा दूरदर्शन

कोविड-19 लॉकडाउन के बीच रामानंद सागर की ‘रामायण’ का फिर से प्रसारण करेगा दूरदर्शन

भगवान राम के जीवन पर आधारित 'रामायण' का पहली बार दूरदर्शन पर 1987 में प्रसारण किया गया था और इसे बेहद लोकप्रियता मिली थी.

Text Size:

नई दिल्ली: पौराणिक धारावाहिक रामायण का दूरदर्शन पर शनिवार को एक बार फिर से प्रसारण किया जाएगा. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘जनता की मांग पर कल शनिवार 28 मार्च से ‘रामायण’ का प्रसारण पुनः दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर शुरू होगा. पहला एपिसोड सुबह 9.00 बजे और दूसरा एपिसोड रात 9.00 बजे होगा.’

जावड़ेकर ने अपने इस ट्वीट के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पीआईबी इंडिया और डीडी नेशनल को टैग किया.

सोशल मीडिया पर कई उपयोगकर्ताओं ने 21 दिन के देशव्यापी बंद के दौरान रामानंद सागर के निर्देशन में बनी ‘रामायण’ और बी.आर चोपड़ा द्वारा निर्देशित ‘महाभारत’ के प्रसारण की मांग की थी और दो दिन पहले प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने कहा था कि वे इसपर काम कर रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

प्रसार भारती के सीईओ ने एक के बाद एक ट्वीट कर जावड़ेकर और सागर परिवार का शुक्रिया अदा किया.

शेखर ने कहा, ‘इस वक्त यह संभव कर पाने के लिए सर आपके मार्गदर्शन और सहयोग के लिए आपका शुक्रिया.’

उन्होंने कहा, ‘डीडी अधिकारियों की कार्यनिष्ठ टीम ने इसे संभव करने के लिए कल पूरे दिन और रात काम किया जबकि वे अपने घर और परिवारों से दूर रहे. पूरी टीम की तारीफ करनी चाहिए जिन्होंने महाकाव्य देखने की दर्शकों की मांग पर प्रतिक्रिया देते हुए युद्धस्तर पर काम किया.’

अन्य ट्वीट में सीईओ ने कहा, ‘इस वक्त में राष्ट्र की इस सेवा के लिए सागर परिवार का तहे दिल से शुक्रिया जिसने मुंबई में डीडी नेशनल की टीम के लिए कंटेंट उपलब्ध कराने में तथा अपने संसाधन जुटाने के लिए अत्यधिक प्रयास किए.’

भगवान राम के जीवन पर आधारित ‘रामायण’ का पहली बार दूरदर्शन पर 1987 में प्रसारण किया गया था और इसे बेहद लोकप्रियता मिली थी.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)

share & View comments