scorecardresearch
Tuesday, 25 June, 2024
होमदेशG-20 में बोले PM Modi- भारत लालफीताशही से लाल कालीन की ओर बढ़ा, बनेगा दुनिया की तीसरी अर्थव्यवस्था

G-20 में बोले PM Modi- भारत लालफीताशही से लाल कालीन की ओर बढ़ा, बनेगा दुनिया की तीसरी अर्थव्यवस्था

G20 व्यापार और निवेश मंत्रिस्तरीय बैठक के एक वर्चुअल संबोधन में, पीएम मोदी ने सदस्य देशों से 'एक लचीला' और 'समावेशी वैश्विक मूल्य चेन बनाने का आह्वान किया जो भविष्य के झटकों का सामना कर सके.'

Text Size:

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत ‘लालफीताशाही’ से ‘लाल कालीन’ की ओर बढ़ गया है और पिछले 9 वर्षों में बिना किसी बाधा के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) सक्षम बनाया है.

गुरुवार को G20 व्यापार और निवेश मंत्रिस्तरीय बैठक के एक वर्चुअल संबोधन में, पीएम मोदी ने G20 सदस्य देशों से ‘एक लचीला’ और ‘समावेशी वैश्विक मूल्य चेन बनाने का आह्वान किया जो भविष्य के झटकों का सामना कर सके.’

पीएम मोदी ने कहा, “हम लालफीताशाही से लाल कालीन की तरफ आ गए हैं और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्रवाह को उदार बनाया है. ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ जैसी पहल ने विनिर्माण को बढ़ावा दिया है. सबसे बढ़कर, हम नीतिगत स्थिरता लाए हैं. हम अगले कुछ वर्षों में भारत को तीसरी सबसे बड़ी वैश्विक अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.”

उन्होंने कहा कि मौजूदा वैश्विक चुनौतियों – महामारी से लेकर ‘भूराजनीतिक तनाव’ तक – ने जी20 में विश्व अर्थव्यवस्था को परखा है.

जयपुर में उपस्थित लोगों का गर्मजोशी से स्वागत करते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि इस शहर की विशेषता इसके गतिशील और उद्यमशील लोग हैं.

पीएम मोदी ने कहा, ‘पूरे इतिहास में, व्यापार ने विचारों, संस्कृतियों और प्रौद्योगिकी के आदान-प्रदान को बढ़ावा दिया है. इसने लोगों को करीब लाया है.’

उन्होंने कहा कि व्यापार और वैश्वीकरण ने करोड़ों लोगों को अति गरीबी से बाहर निकाला है.

पीएम मोदी ने अपने वर्चुअल संबोधन में कहा, “आज हम भारतीय अर्थव्यवस्था में वैश्विक आशावाद और आत्मविश्वास देख रहे हैं. भारत को खुलेपन, अवसरों और विकल्पों के संयोजन के रूप में देखा जाता है.”

उन्होंने कहा कि केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार के पिछले 9 वर्षों में भारत 5वीं सबसे बड़ी वैश्विक अर्थव्यवस्था बन गया है.

उन्होंने कहा, “यह हमारे निरंतर प्रयासों का परिणाम है. हमने 2014 में सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन की यात्रा शुरू की. हमने कंपीटिशन और पारदर्शिता बढ़ाई है.”

पीएम मोदी ने कहा, “हमने डिजिटलीकरण का विस्तार किया है और इनोवेशन को बढ़ाया है. हमने फिट कॉरिडोर स्थापित किए हैं और औद्योगिक क्षेत्र बनाए हैं.”

उन्होंने जी20 प्रतिनिधियों से अंतरराष्ट्रीय व्यापार और निवेश में विश्वास बहाल करने का भी आह्वान किया.

पीएम मोदी ने कहा, “हमें लचीली और समावेशी वैश्विक मूल्य श्रृंखलाएं बनानी चाहिए जो भविष्य के झटकों का सामना कर सकें. इस संदर्भ में, वैश्विक मूल्य चेन की मैपिंग के लिए एक जेनरिक ढांचा बनाने का भारत का प्रस्ताव अहम है.”

उन्होंने कहा, इस ढांचे का लक्ष्य कमजोरियों का आकलन करना, जोखिमों को कम करना और लचीलापन बढ़ाना है.

अपने संबोधन को समाप्त करते हुए, पीएम मोदी ने कहा, “व्यापार में टेक्नोलॉजी की परिवर्तनकारी ताकत नकारी नहीं जा सकती. भारत का अंतर-राज्य व्यापार को बढ़ावा देने वाले एकल आंतरिक बाजार बनाने में ऑनलाइन सिंगल डायरेक्ट टैक्स, माल और सेवा कर (जीएसटी) में बदलाव मदद करने वाला है.”


यह भी पढ़ें : चंद्रयान-3 के लैंडर से बाहर निकला रोवर प्रज्ञान- चांद की मिट्टी से रसायन, खनिज की जुटाएगा जानकारी


 

share & View comments