जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण
Text Size:

नई दिल्ली: पेट्रोलियम उत्पादों को फिलहाल जीएसटी के अंतर्गत नहीं लाया जाएगा. जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि काउंसिल के सदस्यों को लगता है कि पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के अंतर्गत लाने का अभी सही समय नहीं है.

जीएसटी काउंसिल की बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए. काउंसिल ने कोविड उपचार में उपयोग होने वाली दवाओं पर रियायती जीएसटी दरों को 31 दिसंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है.

वित्त मंत्री ने कहा, ‘कोरोना से संबंधित दवाओं पर जीएसटी दरों में छूट दी गई थी जो 30 सितंबर तक लागू थी. अब इस छूट को 31 दिसंबर 2021 तक बढ़ाया गया है. जीएसटी दरों में ये छूट सिर्फ दवाइयों में दी जाएगी, पहले जो लिस्ट जारी की गई थी उसमें कई तरह के दूसरे उपकरण भी शामिल थे.’

सीतारमण ने कहा, ‘कुछ जीवन रक्षक दवाएं जो बहुत महंगी हैं, जो बच्चों के लिए ज़्यादा इस्तेमाल की जाती हैं, ये कोरोना से संबंधित नहीं हैं. ऐसी ड्रग्स को जीएसटी से छूट दी गई है. इस पर अब जीएसटी नहीं लगेगा. ज़ोलगेन्स्मा और विल्टेप्सो ऐसी ही 2 महत्वपूर्ण ड्रग्स हैं.’

वित्त मंत्री ने बताया कि एम्फोटेरिसिन-बी और टोसीलिज़ुमैब पर जीएसटी नहीं लगेगा. उन्होंने कहा कि रेमडिसिविर और हेपरिन पर 5% जीएसटी लगेगा. ये छूट 31 दिसंबर 2021 तक जारी रहेगी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कैंसर के इलाज में उपयोग होने वाली दवाओं पर लगने वाली जीएसटी की दर को भी कम कर दिया गया है. सीतारमण ने कहा, ‘कैंसर संबंधी ड्रग्स जैसे कीट्रूडा पर जीएसटी की दर 12% से घटाकर 5% की गई है.’

इसके अलावा डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्यूटिकल्स द्वारा सुझाए गई सात दवाइयों पर लगने वाली जीएसटी दरों को भी कम कर दिया गया है.

वित्त मंत्री ने बताया कि बायोडीजल पर जीएसटी की दर 12 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दी गई है.

उन्होंने कहा, ‘स्विगी और जोमैटो जैसी ई-वाणिज्य इकाइयां उनके जरिये आपूर्ति की जाने वाली रेस्तरां सेवा पर जीएसटी का भुगतान करेंगी. टैक्स डिलिवरी बिंदु पर वसूला जाएगा.’

वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों के मंत्रियों का एक समूह दरों को तर्कसंगत बनाये जाने संबंधी मुद्दों पर गौर करेगा और दो माह में अपनी सिफारिशें देगा.


यह भी पढ़ें: गधा कहकर पुकारने के अगले दिन तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख ने कहा ‘थरूर का बेहद सम्मान करता हूं’


पेट्रोल-डीजल जीएसटी के अंतर्गत नहीं आएंगे

पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के अंतर्गत लाने पर वित्त मंत्री ने कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों को लेकर मीडिया में काफी अटकलें लगाई जा रही थी. उन्होंने कहा, ‘मैं इस बात को स्पष्ट कर दूं कि ये मुद्दा आज के एजेंडा में शामिल किया गया क्योंकि केरल हाई कोर्ट ने ऐसा करने का सुझाव दिया था.’

उन्होंने कहा, ‘जीएसटी काउंसिल के सदस्यों ने इस बात पर सहमति जताई की पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के अंतर्गत लाने का अभी समय नहीं है.’

‘ये निर्णय लिया गया है कि हम केरल हाई कोर्ट को बताएंगे कि इस मामले पर चर्चा की गई और काउंसिल को लगता है कि इसे अभी जीएसटी के अंतर्गत लाने का सही समय नहीं है.’

बीते कई दिनों से ये चर्चा चल रही थी कि पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के अंतर्गत लाने को लेकर इस बैठक में कोई निर्णय लिया जा सकता है.

इसके अलावा रेलवे पार्ट्स और लोकोमोटिव्स पर लगने वाली जीएसटी की दर को 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 प्रतिशत करने का फैसला किया गया है.

सीतारमण ने कहा कि जीएसटी परिषद ने माल ढुलाई वाहनों के परिचालन के लिये राज्यों द्वारा वसूले जाने वाले राष्ट्रीय परमिट शुल्क से छूट दी है. वहीं कलम पर 18 प्रतिशत की एकल दर से जीएसटी लगेगा, वहीं विशिष्ट नवीकरणीय ऊर्जा उपकरणों पर 12 प्रतिशत माल एवं सेवा कर लगेगा.

जीएसटी परिषद ने जूता-चप्पल और कपड़ों पर एक जनवरी, 2022 से उल्टा शुल्क ढांचे को ठीक करने को लेकर सहमति जतायी.


यह भी पढ़ें: टेलीकॉम संकट खत्म हुआ, अब निजी क्षेत्र को मजबूत करने के लिए प्रतिस्पर्द्धा को बढ़ावा दे सरकार


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS