scorecardresearch
Tuesday, 18 June, 2024
होमदेशऑपरेशन गंगा- यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए 80 उड़ानें, 24 मंत्री जुटे

ऑपरेशन गंगा- यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए 80 उड़ानें, 24 मंत्री जुटे

सूत्रों ने गुरुवार को एएनआई को बताया कि सरकार ने बिना किसी गड़बड़ी के निकासी मिशन की निगरानी के लिए दो दर्जन से ज्यादा मंत्रियों को भी इस का में लगाया है.

Text Size:

नई दिल्ली: निकासी प्रयासों को और तेज करने के लिए, सरकार ने यूक्रेन से फंसे भारतीयों को निकालने के लिए ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत 80 उड़ानें लगाई हैं.

सूत्रों ने गुरुवार को एएनआई को बताया कि सरकार ने बिना किसी गड़बड़ी के निकासी मिशन की निगरानी के लिए दो दर्जन से ज्यादा मंत्रियों को भी इस का में लगाया है.

80 उड़ानों को लगाया गया

सूत्रों ने एएनआई को बताया कि सरकार ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों के लिए निकासी योजना में तेजी लाई है. ज्यादा से ज्यादा भारतीयों को लाने के लिए कुल फ्लाइट फेरा बढ़ा दिया गया है. 10 मार्च तक, फंसे हुए भारतीयों को निकालने के लिए कुल 80 उड़ानों को सेवा में लगाया जाएगा. ये उड़ानें एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्सप्रेस, इंडिगो, स्पाइस जेट, विस्तारा, गो एयर और वायु सेना के विमानों के बेड़े से जुड़ी हैं.

सूत्रों ने एएनआई को यह भी बताया कि रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से 35 निकासी की योजना बनाई गई है, जिसमें एयर इंडिया की 14 उड़ानें, एयर इंडिया एक्सप्रेस की आठ, इंडिगो की सात, स्पाइस जेट की एक, विस्तारा की तीन और भारतीय वायु सेना की दो उड़ानें शामिल हैं..

हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट से कुल 28 उड़ानें उड़ान लगाई गई हैं.

इन 28 में से 15 उड़ानें गो एयर से, 9 इंडिगो से, 2 एयर इंडिया से, 1 भारतीय वायु सेना से और 1 स्पाइस जेट की हैं. पोलैंड के रेज़ज़ो के लिए कुल नौ उड़ानें निर्धारित हैं, जिसमें इंडिगो से आठ और भारतीय वायु सेना से 1 उड़ानें शामिल हैं, जबकि पांच उड़ानें सुसेवा, रोमानिया से और 3 उड़ानें कोसिसे, स्लोवाकिया से उड़ान भरेंगी.

सूत्रों ने यह भी कहा कि लगभग 17,000 फंसे हुए भारतीयों को इन 80 उड़ानों से यूक्रेन से निकाला जाएगा, जो बुडापेस्ट, बुखारेस्ट, और रेज़ज़ो, सुसेवा और कोसिसे से उड़ान भरने के लिए निर्धारित हैं.

‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत 2 मार्च तक कुल 24 उड़ानें भरी जा चुकी हैं. यूक्रेन से फंसे भारतीयों को निकालने के लिए सरकार ने 26 फरवरी को ‘ऑपरेशन गंगा’ शुरू किया था.

भारतीयों को लेकर पहली उड़ान 26 फरवरी को मुंबई में उतरी थी, जिसे वाणिज्य और उद्योग, कपड़ा, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने रिसीव किया था.

प्रधानमंत्री ने 4 मंत्रियों ज्योतिरादित्य सिंधिया, हरदीप सिंह पुरी, किरण रिजिजु और वीके सिंह को हंगरी, रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड भारतीय को निकासी अभियान की निगरानी के लिए भेजा है.

मोदी सरकार ने सुचारू निकासी की निगरानी और ऑपरेशन गंगा के तहत हंगरी, रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड से आने वाले भारतीयों को दिल्ली और मुंबई हवाई अड्डे पर रिसीव करने के लिए भी मंत्रियों को लगाया है.

ये मंत्री कर रहे रिसीव और निगरानी

मंत्री जितेंद्र सिंह, मुख्तार अब्बास नकवी, राव इंद्रजीत सिंह, नारायण राणे, जी किशन रेड्डी, कैलाश चौधरी, पुरुषोत्तम रूपाला, भगवंत खुबा, वीरेंद्र कुमार, मीनाक्षी लेखी, वी. मुरलीधरन, भागवत कराड, निसिथ प्रमाणिक, शांतनु ठाकुर, राव साहब दानवे , दर्शन जरदोश, देवुसिंह चौहान, भारती प्रवीण पवार, साध्वी निरंजन ज्योति, भानु प्रताप सिंह वर्मा, सुभाष सरकार, कपिल पाटिल को यूक्रेन के पड़ोसी देशों से भारतीयों को लेकर आने वाली उड़ानें को रिसीव करने का काम सौंपा है.


यह भी पढ़ें: भारत में EU प्रतिनिधि का बयान, रूस-यूक्रेन युद्ध इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के लिए खतरनाक नजीर पेश कर रहा


 

share & View comments