scorecardresearch
Thursday, 20 June, 2024
होमदेशछत्तीसगढ़ की नर्सें नदियों को पार कर जनजातीय महिलाओं की प्रसव से पहले देखभाल में कर रहीं मदद

छत्तीसगढ़ की नर्सें नदियों को पार कर जनजातीय महिलाओं की प्रसव से पहले देखभाल में कर रहीं मदद

राज्य के आंकड़ों के अनुसार, प्रारंभिक रेफरल केंद्रों के जरिए अधिक संस्थागत जन्म हुए हैं, लेकिन नक्सल प्रभावित अबूझमाड़ में देखभाल करने वालों के लिए इलाके और कनेक्टिविटी की कमी सबसे बड़ी चुनौती है.

Text Size:

ओरछा/अबूझमाड़ : छत्तीसगढ़ के अबूझमाड़ क्षेत्र के वट्टेकल गांव में रहने वाली गोंड समुदाय की आदिवासी महिला चंद्रावली ने 2021 में अपने पहले बेटे को जन्म के पांच दिन बाद ही उसे खो दिया. प्रसव के बाद कई दिनों तक चंद्रावली का खून बहता रहा, वह इतनी कमजोर हो गई थी कि वह उठ भी नहीं सकती थी.

उसने देवी-देवताओं (देवताओं और देवियों) को प्रसन्न करने के लिए सिराह (स्थानीय ओझा, एक नीम हकीम) द्वारा बताए गए अनुष्ठानों का धार्मिक तौर से पालन किया, लेकिन उसे ठीक होने में लगभग एक साल लग गये.

अपने बच्चे को खोने का आघात अभी भी उसके दिमाग में ताजा है, वह खुशी से ज्यादा डरी हुई थी जब पिछले साल उसका मासिक साइकल बाधित हुआ और उसे एहसास हुआ कि वह फिर से गर्भवती है.

यह तब था जब एक घबराई हुई चंद्रावली ने एक प्रतिकूल रास्ते पर चलने का फैसला किया – मेडिकली सहायता प्राप्त जन्म, जिसके बारे में उसने केवल गांव में सुना था, लेकिन उसके बारे में कभी जानने की हिम्मत नहीं की क्योंकि यह उसके समुदाय में वर्जित था. वह जानती थी कि प्रतिरोध अपरिहार्य है, लेकिन वह लड़ने के लिए तैयार थी.

स्थानीय रूप से ‘अज्ञात पहाड़ियों’ के रूप में जानी जाने वाली अबूझमाढ़ के ‘नक्सल-प्रभावित’ क्षेत्र में उचित चिकित्सा देखभाल की कमी के कारण चुपचाप पीड़ा झेलने वाली चंद्रावली ही एकमात्र महिला नहीं हैं. यह चट्टानी इलाके तौर पर जाना जाता है, जो नदियों और नालों से घिरा है, और सड़क, परिवहन या मोबाइल कनेक्टिविटी बहुत कम है.

हालांकि, चिकित्सा सहायता लेना कभी भी एक विकल्प नहीं हो सकता था, यह उन काउंसलर्स और नर्सों के लिए नहीं, जो गर्भवती महिलाओं की पहचान कर और उन्हें व उनके परिवारों को संस्थागत प्रसव कराने के लिए राजी करने के लिए राज्य प्रशासन के साथ काम करती हैं, पहाड़ों पर चढ़ते, नदियों और घने जंगलों को पार करते हुए कई दिनों में अबूझमाड़ के सुदूर जंगल में पहुंचती हैं.

एक बार आश्वस्त होने के बाद, गर्भवती महिलाओं को 2020 में स्थापित प्रारंभिक रेफरल केंद्रों (ईआरसी) में लाया जाता है, जहां उन्हें निगरानी में रखा जाता है, पौष्टिक भोजन दिया जाता है और डॉक्टरों द्वारा नियमित जांच की जाती है. दो साल बाद, ये रेफरल केंद्र छत्तीसगढ़ में आदिवासी महिलाओं के बीच लोकप्रिय हो गए हैं, जहां प्रति 100,000 जन्मों पर 159 मातृ मृत्यु दर है – बिहार, असम, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बाद भारत में सबसे ज्यादा है.

Pregnant women at an early referral centre in Orchha village | Praveen Jain | ThePrint
ओरछा के प्रारंभिक रेफरल सेंटर में गर्भवती महिलाएं | प्रवीण जैन | दिप्रिंट

राज्य प्रशासन के अनुसार, चूंकि ये रेफरल केंद्र नारायणपुर जिले में स्थापित किए गए थे – जिसमें अबूझमाड़ के कुछ हिस्से शामिल हैं – अस्पतालों में पहले की तुलना में अधिक बच्चे पैदा हो रहे हैं. राज्य प्रशासन के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2020 और दिसंबर 2022 के बीच नारायणपुर में 755 से अधिक संस्थागत प्रसव दर्ज किए गए, जबकि 2017 और 2019 के बीच यह संख्या केवल 310 थी.

जिला अधिकारियों द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, ओरछा, एक प्रशासनिक ब्लॉक जो नारायणपुर जिले का हिस्सा है, में चार ऐसे केंद्र हैं, जहां बारिश नहीं होने पर हर महीने में औसतन लगभग 120 प्रसव होते हैं. स्थानीय प्रशासन ने कहा कि जब बारिश होती है, तो 4,000 वर्ग किलोमीटर में फैले अबूझमाड़ के जंगलों के गांव बाढ़ वाले जलस्रोतों, कीचड़ और घने पत्तों के कारण दुनिया से कट जाते हैं. प्रशासन के अनुसार, इस क्षेत्र में कई छोटे गांव हैं, जिनमें से कई नक्सल नेताओं और उनके प्रशिक्षण शिविरों के लिए ठिकाने के रूप में काम करते हैं.

नारायणपुर के जिला कलेक्टर अजीत वसंत ने कहा, ‘प्रारंभिक रेफरल केंद्र उन क्षेत्रों के लिए बहुत उपयोगी रहे हैं जहां स्वास्थ्य देखभाल करने वाले पेशेवर पहुंचने की दिक्कत की वजह से नहीं जा सकते थे, जैसे कि अबूझमाड़ जहां कि घने जंगलों, पहाड़ियों, नदियों के साथ ऊबड़-खाबड़ इलाके शामिल हैं. इसने आदिम जनजातियों में शिशु मृत्यु दर और मातृ मृत्यु दर में काफी कमी की है.’

जब दिप्रिंट ने पिछले सप्ताह वहां पहुंचा तो चंद्रावली, ओरछा में ऐसे ही एक प्रारंभिक रेफरल केंद्र में मच्छरदानी से ढकी एक चारपाई पर बैठी थीं.

उसने कहा, ‘पिछली बार मेरे साथ जो हुआ, मैं कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी. मैंने नहीं सोचा था कि मैं बच पाऊंगी. इसके अलावा, मैंने गांव में कई महिलाओं और नवजात शिशुओं को मरते देखा है. जब मैं इस बार गर्भवती हुई तो मैं बहुत डरी हुई थी.’

चंद्रावली ने कहा: ‘मुझे खुशी है कि मुझे दीदी (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता) मिलीं, जो आईं और मुझे अपने साथ यहां ले आईं.’ वह बात करते हुए इमली के साथ दाल-चावल (दाल-चावल) खा रही थीं.

महिलाओं को ईआरसी तक पहुंचाने के लिए, काउंसलर – आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और काउंसलरों की मदद से – गर्भवती महिलाओं की पहचान करने के लिए एक गांव से दूसरे गांव जाते हैं, वसंत ने बताया. चूंकि अक्सर महिलाओं को अपने प्रसव की संभावित तिथि का पता नहीं होता है, उन्होंने कहा, इसका पता लगाने के लिए एक बुनियादी जांच की जाती है, ताकि उन्हें दो-तीन सप्ताह पहले केंद्र में भेजा जा सके.

उबड़-खाबड़ इलाका, अंधविश्वास

गहरी लाल लेटराइट मिट्टी से बनी ओरछा जाने वाली सड़क के दोनों ओर घने जंगल हैं. यहां मोबाइल नेटवर्क कवरेज नहीं है. लौह अयस्क से भरपूर आमदई घाटी रेंज से घिरी, यहां की एक पीली इमारत ईआरसी, जिसकी दीवारें प्रसव पूर्व देखभाल के लिए हाथ से बने चार्ट और केंद्र से गांवों की दूरी के विवरण के साथ आसपास के गांवों के नाम से ढंकी हुई है.

इमारत के पास पहुंचते ही महिलाओं के हंसने-बोलने की आवाज आने लगती है. अंदर, महिलाएं चारपाई पर बैठी हैं, हिंदी में डब की गई एक मलयाली एक्शन फिल्म में तल्लीन हैं, जो उन्हें इस तथ्य के बावजूद मनोरंजक लगती है कि उनमें से कोई भी हिंदी नहीं समझती हैं. ज्यादातर महिलाएं गोंड समुदाय से हैं.

इनमें से अधिकांश महिलाओं के लिए, जो अबूझमाढ़ क्षेत्र के विभिन्न गांवों से ताल्लुक रखती हैं, केंद्र तक पहुंचना एक संघर्ष होता है. जहां कुछ महिलाओं को खुद को समझाने की जरूरत थी, वहीं अन्य को प्रसव पूर्व देखभाल सुनिश्चित करने के लिए अपने परिवारों से संघर्ष करना पड़ा. नारायणपुर के धनोरा सेक्टर में ईआरसी की काउंसलर माधवी यादव ने कहा, लेकिन यह सुनिश्चित करना सबसे बड़ी चुनौती थी कि इन महिलाओं की प्रसव पूर्व देखभाल तक पहुंच हो.

Madhavi Yadav, the counsellor at ERC in Dhanora sector | Praveen Jain | ThePrint
धनोरा सेक्टर के ईआरसी में काउंसलर माधवी यादव | प्रवीण जैन | दिप्रिंट

उन्होंने कहा, अबूझमाड़ में अधिकांश बस्तियों में आने और जाने का एकमात्र कच्चा रास्ता है, जिनमें से कुछ पर मोटरसाइकिल या बड़े वाहन का इस्तेमाल किया जा सकता है, जबकि बाकी बस्तियों तक केवल पैदल ही पहुंचा जा सकता है. कई गांव जंगलों के भीतर, पहाड़ियों और नदियों के पार स्थित हैं. इन गांवों तक पहुंचने के लिए 70-90 किलोमीटर की दूरी पैदल तय करनी पड़ती है.

यादव ने कहा, ‘इलाका बहुत ही चुनौतीपूर्ण है. एक गांव है जहां हम पिछले तीन सालों से पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि वहां पहुंचने के लिए हमें तीन पहाड़ों और दो नदियों को पार करना होगा. फिर 40 किलोमीटर से अधिक की लंबी पैदल यात्रा करनी होगी.’

सरकार संचालित इन केंद्रों को मदद के लिए साथी एनजीओ के साथ काम करने वाले प्रमोद पोटाई ने कहा, ‘यह अबूझमाड़ है, एक ऐसी जगह जहां का इलाका बहुत ही मुश्किल भरा है और इसलिए, इस जगह पर संस्थागत प्रसव कराना बेहद चुनौतीपूर्ण है. सड़कें नहीं हैं और सभी गांव कट हुए हैं. हमारे पास एक मोटरबाइक एम्बुलेंस है, जो गर्भवती महिलाओं को लेने के लिए जंगल के अंदर जाती है, लेकिन कई मामलों में, ऐसी जगहें हैं जहां बाइक भी नहीं जा सकती, क्योंकि रास्ते में नदी पार करने की जरूरत होती है.

A motorbike ambulance parked at an early referral centre in Orchha | Praveen Jain | ThePrint
एक मोटरबाइक एंबुलेंस ओरछा के प्रारंभिक रेफरल सेंटर में पार्क की गई | प्रवीण जैन | दिप्रिंट

पहले से ही जटिल स्थिति है, जहां जिले में कॉमोरबिडिटी के तौर पर लोगों की मलेरिया से जान जाती है, प्रशासन ने कहा, महिलाओं में एनीमिया का हाई लेवल और गर्भधारण और प्रसव के दौरान अन्य जटिलताएं होती हैं.

जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि, यहां कई गर्भवती महिलाओं को अपना आखिरी मासिक धर्म (एलएमपी) याद नहीं रहता है, जिससे प्रसव की तारीख का अनुमान लगाने में त्रुटियां होती हैं.

अक्सर आदिवासी महिलाएं अंधविश्वास के कारण अपने गर्भधारण के बारे में परामर्शदाताओं को नहीं बताती हैं, जिससे प्रसवपूर्व देखभाल प्रदान करने में और भी चुनौतियां पैदा होती हैं. यादव ने कहा, ‘अस्पतालों, डॉक्टरों और चिकित्सा के बारे में उनकी अपनी पहले तय धारणाएं हैं. उनका मानना है कि अगर महिला अस्पताल जाती है, तो इससे उनके देवता नाराज हो सकते हैं और गर्भपात या मां की मृत्यु हो सकती है.’

यादव की बातों को कुंजेकल गांव निवासी देसरी के अनुभव से बल मिलता है. देसरी ने ओरछा ईआरसी में दिप्रिंट को बताया, ‘मेरा परिवार डरा हुआ था. उन्होंने सोचा कि मशीनें (अल्ट्रासाउंड) बच्चे को मार सकती हैं. या हो सकता है कि डॉक्टर ऑपरेशन करके मेरे शरीर को काट दें. लेकिन जो सिस्टर्स या नर्सें आईं, उन्होंने मेरे परिवार को समझाने में मदद की.’

2021 में जब देसरी को पहला बच्चा हो रहा था, तो वह अपने ससुराल वालों की जिद पर अस्पताल नहीं गईं. उन्होंने बताया, ‘मैं कई दिनों से मेहनत-मजदूरी में लगी थी और मुझे लगा कि मैं मर जाऊंगी. मैं फिर से उस स्थिति से नहीं गुजरना चाहती थी और डॉक्टरों के समझाने के बाद कि मेरी देखभाल की जाएगी, मैंने अपने पति को मना लिया (मुझे ईआरसी में आने देने के लिए).’ यह उनकी दूसरी प्रेग्नेंसी है.

गर्भवती माताओं के परिवारों को समझाने के लिए, परामर्शदाताओं को अक्सर सिरहा की सहायता लेनी पड़ती है, क्योंकि अधिकांश आदिवासी उनके पास इलाज के लिए जाते हैं.

यादव ने दिप्रिंट को बताया, ‘हमें इन लोगों को बोर्ड पर ले जाना है, जिनमें बुजुर्ग भी शामिल हैं. हम उनसे परिवारों को समझाने में हमारी मदद करने के लिए कहते हैं. कभी-कभी वे मदद करते हैं, कभी-कभी नहीं. हम परिवारों को बच्चे के जन्म की कठिनाइयों के बारे में शिक्षित करने की कोशिश करते हैं और बताते हैं कि यह कैसे मां और बच्चे दोनों के लिए घातक हो सकता है.’

उन्होंने कहा, काउंसलर्स ने परिवारों को समझाया है कि एक ट्रेंड मेडिकल टीम की निगरानी में स्वच्छ वातावरण में प्रसव होना चाहिए. यादव ने कहा, ‘हम उन्हें उन जटिलताओं के बारे में बताते हैं जो जन्म के दौरान हो सकती हैं. हम उन्हें उन महिलाओं का जीवंत उदाहरण भी देते हैं जो उनके पड़ोस में पीड़ित हैं, इसलिए वे हमारी बातों से रिलेट करते हैं और बेहतर समझते हैं.’

काउंसलर्स परिवारों को यह भी बताते हैं कि प्रसव से पहले एक महिला को केंद्र में आवश्यक पोषण और देखभाल कैसे प्रदान की जाएगी.

‘हम घर पर होते तो काम कर रहे होते’

ओरछा में ईआरसी में गर्भावस्था के दौरान उचित स्वास्थ्य देखभाल प्राप्त करने के अलावा आदिवासी महिलाओं के लिए, केंद्र नए दोस्त बनाने की जगह भी है.

इलाके के एदलनार गांव के निवासी लक्ष्मी ने कहा, ‘अगर हम घर पर होते, तो हम खूब काम कर रहे होते. साफ-सफाई से लेकर खाना बनाने और अन्य चीजों तक. यहां हम बातें करते हैं, फिल्में देखते हैं, साथ खाते हैं, सोते हैं और घूमने भी जाते हैं. यह बहुत अच्छा है.’

ईआरसी में उनके रहने के दौरान, महिलाओं की हर दिन जांच की जाती है और केंद्र से सिर्फ 500 मीटर की दूरी पर, बगल के अस्पताल से आने वाले डॉक्टर द्वारा सप्ताह में एक बार विस्तृत जांच की जाती है.

Pregnant women at the early referral centre in Orchha | Praveen Jain | ThePrint
ओरछा के प्रारंभिरक रेफरल सेंटर में गर्भवती महिलाएं | प्रवीण जैन | दिप्रिंट

डॉ. अशोक कुमार ने कहा, ‘हम यहां नियमित जांच के लिए आते हैं. हम उनके विटल्स की जांच करते हैं और प्रसव पूर्व देखभाल के लिए सभी आवश्यक टेस्ट किए जाते हैं. सोनोग्राफी सहित अन्य जांचों के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था कर जिला अस्पताल ले जाते हैं.

केंद्र की महिलाओं में से एक सुखदाई – ओरछा से 17 किलोमीटर दूर रोहताद गांव की निवासी – अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए आई हैं. उनकी डिलीवरी की तारीख सिर्फ एक सप्ताह दूर है, वह खुश है कि वह जल्द ही घर लौट जाएंगी, लेकिन दुखी हैं कि वह ईआरसी में उनके सभी दोस्तों का साथ छूट जाएगा.

गोंडी में बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं अपने बच्चे के साथ जल्द ही घर जाऊंगी. लेकिन मैं उन सभी को याद करूंगी.’ वह उस महिला का हाथ पकड़ती हैं जो ईआरसी में उसके बगल में बिस्तर पर सोती है.

(इस ख़बर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments