scorecardresearch
Tuesday, 18 June, 2024
होमदेश'UP में का बा' गाने पर नेहा सिंह राठौर को पुलिस नोटिस के बाद उनके पति को 'नौकरी छोड़ने' को कहा गया

‘UP में का बा’ गाने पर नेहा सिंह राठौर को पुलिस नोटिस के बाद उनके पति को ‘नौकरी छोड़ने’ को कहा गया

नेहा के पति ने कहा कि मुझेसे इस्तीफा जिस समय मांगा गया वो टाइमिंग काफी कुछ कह रही है. नेहा की घटना के बाद ये चीज़ अगर हो रही है तो कोइंसीडेंस नहीं है.

Text Size:

नई दिल्ली: लोक गायिक नेहा सिंह राठौड़ को उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा मिले नोटिस के कुछ दिन बाद ही उनके पति हिमांशु को दृष्टि आईएएस से इस्तीफा देने को कहा गया.

गुरुवार को मुखर्जी नगर स्थित अपने आवास पर राठौड़ के पति हिमांशु ने दिप्रिंट से इस बात की पुष्टि की. उन्होंने कहा, दृष्टि आईएएस से पहले से कुछ मुद्दे चल रहे थे लेकिन नेहा के साथ हुई घटना के बाद मुझे इस्तीफा देने को कहा गया.

हाथों में पैन दिखाते हुए हिमांशु ने कहा, ‘मैं इस्तीफा ही लिख रहा हूं. इसके बाद मैं इस्तीफा सौंप दूंगा.’ उन्होंने कहा कि इस्तीफा जिस समय मांगा गया वो टाइमिंग काफी कुछ कह रही है. नेहा की घटना के बाद ये चीज़ अगर हो रही है तो कोइंसीडेंस नहीं है.

दृष्टि आईएएस में काम करने वाले एक पूर्व कर्मचारी ने दिप्रिंट को बताया कि सिंह कंपनी की सोशल मीडिया टीम से जुड़े थे.

दिप्रिंट ने दृष्टि आईएएस के फाउंडर-डायरेक्टर विकास दिव्यकीर्ति से फोन पर संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका. हालांकि, दिव्यकीर्ति का जवाब आने के बाद इस खबर को अपडेट कर दिया जाएगा.

प्रसिद्ध लोक गायिका नेहा सिंह राठौड़ ने हाल ही में यूपी में का बा पार्ट 2 गाया था जिसे उन्होंने 16 फरवरी को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था. इस वीडियो में उन्होंने कानपुर देहात में हाल ही में दो महिलाओं के आग लगने से हुई मृत्यु को लेकर योगी सरकार पर तीखे सवाल उठाए थे.


यह भी पढ़ें: कुचले हुए सपने, धमकियां, ‘सुरक्षा के लिए’ शादी – हाइली एजुकेटेड अफगान महिलाओं की कैसी है ज़िंदगी


किसके बारे में है गाना

बता दें कि 13 फरवरी को कानपुर देहात के मैथा तहसील में प्रशासन ने अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया था जिस दौरान पीड़ित परिवार की मां-बेटी की जलकर मौत हो गई थी. मामले की जांच के लिए दो एसआईटी की टीम का गठन किया गया है.

नेहा ने दिप्रिंट से खास बातचीत में कहा, कानपुर देहात में पुलिस-प्रशासन की असंवेदनशीलता के चलते मां-बेटी की आग में जलकर मौत हो गई. इस घटना के बात मुझे लगा कि इस पर मुझे लिखना और बोलना चाहिए, इसलिए मैंने यूपी में का बा पार्ट 2 निकाला जिस पर यूपी पुलिस को आपत्ति हो गई. उन्हें लगा कि मेरा गीत समाज में तनाव बढ़ा रहा है, इसलिए मुझे नोटिस भेजा गया.

उन्होंने कहा, पुलिस मेरे साथ क्रिमिनल की तरह ट्रीट कर रही थी.

नोटिस मिलने के बाद राठौर ने ट्वीट कर कहा, “हम आह भी भरते हैं तो पा जाते हैं नोटिस/वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता..!”

दिप्रिंट ने फोन पर कानपुर देहात के पुलिस अधीक्षक बी.बी.मूर्ति से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन वे आईजी के साथ एक हाई-लेवल मीटिंग में व्यस्त थे.

समर्थन में उतरे लोग

राठौर ने कहा, “इन लोगों को लगता है कि मेरे गाने का प्रभाव लोगों पर इतना न पड़ जाए कि इनके बार में नेगेटिव परसेप्शन बना लें. मैं एक लोक कलाकार हूं. मैं सरकार के सामने क्या हूं लेकिन फिर भी इन्हें एक आवाज नहीं चाहिए. इनको अपनी राह में कोई भी नहीं चाहिए, और जो भी इसकी राह में आएगा उसको ये लोग हटा देंगे.”

हाथों में संविधान पकड़े हुए राठौर ने कहा, “जो जनता की समस्या है, वही मेरे गीतों में सामने आते हैं. मैं संविधान के दायरे में रहकर अपने अधिकार का सदुपयोग कर रही हूं. जब तक भारत का संविधान मेरे हाथ में है, आप कुछ भी नहीं कर पाओगे. ये मुझे बहुत कुछ करने का आजादी देता है. इसलिए मैं इसी के हिसाब से काम करूंगी.”

सोशल मीडिया पर नेहा के समर्थन में काफी लोग उतरे हैं. यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समेत दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया है. सिसोदिया ने कहा, ‘एक लोकगायिका की आवाज़ से इतना डर गई बीजेपी?’

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: यूक्रेन लौटने को मजबूर भारतीय मेडिकल छात्र, सायरन के बीच क्लास- ‘युद्ध के हालात’ में रहने के आदी बने


share & View comments