Thursday, 30 June, 2022
होमदेशदेश के अलग-अलग राज्यों में फसे मजदूरों को वापस घर भेजने के लिए गृह मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

देश के अलग-अलग राज्यों में फसे मजदूरों को वापस घर भेजने के लिए गृह मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

गृह मंत्रालय ने कहा कि यदि फंसे हुए लोगों का एक समूह एक राज्य से दूसरे राज्य में जाना चाहता है, तो राज्य एक-दूसरे से परामर्श कर सकते हैं.

Text Size:

नई दिल्ली : देशव्यापी लॉकडाउन के कारण देश में कई लोग अनेक जगहों पर फसे हुए हैं. गृह मंत्रालय ने फसे हुए लोगों के लिए नई गाइडलाइन जारी की है. इन लोगों में प्रवासी मजदूर, तीर्थयात्री, पर्यटक और छात्र शामिल है.

मंत्रालय ने कहा कि नोडल अधिकारी अपने राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों में फंसे व्यक्तियों को पंजीकृत करेंगे.

मंत्रालय से नए दिशानिर्देश में कहा है कि ऐसे सभी लोगों को स्रोत और गंतव्य पर चिकित्सकीय रूप से जांचा जाएगा और आगमन पर घर या संस्था क्वारंटाइन में रखा जाएगा. उन्हें समय-समय पर स्वास्थ्य जांच के साथ रखा जाएगा और इस कारण से गृह मंत्रालय ने उन्हें आरोग्य सेतु ऐप का उपयोग करने की सलाह दी. जिसके माध्यम से ‘उनकी स्वास्थ्य स्थिति की निगरानी और पता लगाया जा सकता है.’

नए दिशा दिशानिर्देश में यह भी कहा गया है कि बसों का उपयोग ऐसे लोगों के समूहों के परिवहन के लिए किया जाएगा. इन बसों को सैनिटाइज किया जाएगा और बैठने में सोशल डिस्टैन्सिंग के मानदंडों का पालन करना होगा. मार्ग पर पड़ने वाले राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ऐसे लोगों को पारित करने की अनुमति देंगे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

गृह मंत्रालय ने कहा कि यदि फसे हुए लोगों का एक समूह एक राज्य से दूसरे राज्य में जाना चाहता है, तो राज्य एक-दूसरे से परामर्श कर सकते हैं.

आपको बता दें, कोरोनावायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी. 24 मार्च को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषणा की गई थी. इसे 14 अप्रैल को फिर से बढ़ा दिया गया था जो कि की 3 मई को समाप्त होने वाला है.

share & View comments

5 टिप्पणी

  1. ,,,,,,,,, करबा,,, है,, लेकिन,, सच्च,,, हैं,,
    मै दुबई से 10,3,2020 को मुंबई आया हूं और Lok dawn,, Ke bajh se Mai mumbai,,,me gas Gaya hu ,,our baree dukh ki bat hai ki
    So all दिष्टेश ka koe मतलब नहीं है। कोई मीडिया बला जाकर ए नहीं देख रहा है कि क्या सही हो रहा है कि नहीं ,, मुबंई वडाला,, थाना पर मै , वहा कम से कम 4 दिन से डेली बहुत भीड़ लग रहा है 2 महिना होने वाले हैं सब कोग लोग दौण से सब बंद है लेकिन सरकार को सिर्फ आदेश करे देने से न होता है कि थाना पर जा कर फोम भार्र देने से नहीं होगा सरकार इतना पर्याष कर रही है तो उस मिशन को भी सूचना लेना हर अधिकारी का फ़र्ज़ बनता है 🙏🙏🙏🙏🇮🇳🇮🇳🇮🇳 जय हिन्द जय भारत 👮👮👮

Comments are closed.