scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमदेशमणिपुर के मुख्यमंत्री ने इस्तीफे की खबरों का खंडन किया, मीडिया से अफवाह न फैलाने को कहा

मणिपुर के मुख्यमंत्री ने इस्तीफे की खबरों का खंडन किया, मीडिया से अफवाह न फैलाने को कहा

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मणिपुर मुश्किल दौर से गुज़र रहा है. ऐसे नाजुक समय में मणिपुर के नेता कमजोर नहीं पड़ सकते. हमें अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा है.’’

Text Size:

नई दिल्ली: मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने सोमवार को अपने इस्तीफे की खबरों को निराधार बताया और मीडिया से अफवाह न फैलाने को कहा.

सिंह ने दावा किया कि यह उनके कुछ राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों की कोशिश है, जो राज्य में मौजूदा स्थिति का फायदा उठाना चाहते हैं.

मणिपुर मई 2023 से हिंसा की चपेट में है.

एक मीडिया संस्थान द्वारा मुख्यमंत्री के जल्द इस्तीफा देने की संभावना संबंधी खबर चलाए जाने के तीन दिन बाद सिंह का यह बयान आया है.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मणिपुर मुश्किल दौर से गुज़र रहा है. ऐसे नाजुक समय में मणिपुर के नेता कमजोर नहीं पड़ सकते. हमें अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा है.’’

देश भर में तीन नये आपराधिक कानूनों के प्रभावी होने पर इंफाल में आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि मणिपुर मुद्दे को हल करना ज्यादा महत्वपूर्ण है.

उन्होंने कहा, ‘‘(इस्तीफे की) अफवाहें संभवतः उन लोगों द्वारा फैलाई जा रही हैं, जो मुख्यमंत्री और मंत्री बनना चाहते हैं. साथ ही विपक्ष भी इसमें शामिल है.’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि मणिपुर की स्थिति पर उनकी सरकार प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ नियमित रूप से बातचीत करती आ रही है.

मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार की अगुवाई कर रहे सिंह ने कहा, ‘‘अगर हम चले गए तो जनता की अगुवाई कौन करेगा? और अधिक अराजकता पैदा होगी. हमें लोगों को सही राह दिखानी होगी.’’

सिंह ने मीडिया संस्थानों से निराधार खबरें प्रकाशित नहीं करने का भी आह्वान किया.

उन्होंने कहा, ‘‘अगर बिना पुष्टि के अटकलें लगाई जाने वाली खबरें प्रकाशित की जाएंगी तो दहशत का माहौल बन सकता है. ऐसी निराधार खबरें प्रकाशित करने से कुछ लोगों को ही खुशी मिल सकती है. हालांकि, संभावना है कि राज्य के 90 प्रतिशत लोग घबरा जाएंगे.’’

उन्होंने मीडिया से मणिपुर आने और वास्तविक स्थिति का जायजा लेने के लिए कहा ताकि राज्य में शांति बहाल करने में मदद मिल सके.


यह भी पढ़ें: ‘2024 के जनादेश ने मोदी के अहंकार को तोड़ दिया’ — संसद में बरसे खरगे, मणिपुर और नीट का भी ज़िक्र


 

share & View comments