scorecardresearch
Sunday, 14 July, 2024
होमदेशChandrayaan 3: Congratulations, India in! चांद के साउथ पोल पर पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

Chandrayaan 3: Congratulations, India in! चांद के साउथ पोल पर पहुंचने वाला पहला देश बना भारत

भारत ने अंतरिक्ष में इतिहास रच दिया है. चंद्रयान-3 ने चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग कर ली है.

Text Size:

नई दिल्ली: चंद्रयान-3 पर दुनियाभर की नजरें टिकी हुई थीं. जैसे जैसे चांद के साउथ पोल पर चंद्रयान के सॉफ्ट लैंडिंग का समय करीब आ रहा था पूरा देश टकटकी लगाए टीवी के सामने बैठा था..जैसे ही घड़ी में 6.04 मिनट होने को था..देश ने इतिहास रच दिया. भारत बुधवार को चंद्रमा पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करने वाला दुनिया का चौथा और इसके दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला दुनिया का पहला देश बन गया.

चांद की सतह पर भारत से पहले पूर्ववर्ती सोवियत संघ, अमेरिका और चीन ही ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ कर पाए हैं. लेकिन दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करने वाला भारत पहला देश बन गया है.

हालांकि चंद्रयान-3 की लैंडिंग को लेकर दुनिया भर में प्रार्थनाएं की जा रही थीं. विभिन्न धार्मों से जुड़े लोग चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर भारत के चंद्रयान 3 की सफल लैंडिंग के लिए लगातार पूजा-पाठ और दुआएं कर रहे थे. और उनकी दुआएं सफल रहीं और देश के वैज्ञानिकों ने इतिहास रच दिया है.

भारत का तीसरा चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-3’ बुधवार को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरा. यह एक ऐसी जगह है जहां अब तक किसी अन्य देश का अंतरिक्ष यान नहीं उतरा है. हाल में रूस का ‘लूना 25’ इस कोशिश के दौरान दुर्घटना का शिकार हो गया था.


लाइव अपडेट्स के लिए जुड़ें:



06:10 PM: चंद्रयान-3 के सफल होने पर इसरो मे पोस्ट कर कहा, बधाई हो: मैं अपनी मंजिल पर पहुंच गया और मेरे साथ आप भी.


05:56 PM: स्वचालित लैंडिंग अनुक्रम (एएलएस) शुरू होने के बाद चंद्रयान-3 लैंडर विक्रम की ऊंचाई कम हो रही है और पावर डिसेंट चरण जारी है. BRICS समिट के बाद जुड़े पीएम मोदी.


05:47 PM: यूएस, वाशिंगटन डीसी में चंद्रयान-3 मिशन के चंद्र लैंडिंग कार्यक्रम को देखने के लिए भारतीय प्रवासी लोग भारतीय दूतावास में एकत्र हुए.


05:30 PM: चंद्रयान-3 का लैंडर विक्रम आज चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा. लैंडिंग ककी काउंटडाउन हुआ शुरू.


05:10 PM: नेशनल कॉन्फ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला ने बुधवार को उम्मीद जताई कि चंद्रयान-3 चंद्रमा की अपनी यात्रा आज शाम को सफलतापूर्वक पूरी कर लेगा.

उमर अब्दुल्ला ने पार्टी कार्यालय में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि चंद्रयान-3 की यात्रा आज पूरी तरह सफल होगी. हमलोग उत्सुकता से चांद के उस हिस्से की तस्वीर और वीडियो की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जहां अब तक कोई भी देश नहीं पहुंच पाया है.”

उन्होंने कहा, ‘‘अगर चंद्रयान सफलतापूर्वक चांद पर उतर जाता है, जिसकी हमें पूरी उम्मीद है, तो हम उन गिने-चुने देशों के विशिष्ट सूची में शामिल हो जायेंगे जिन्होंने यह उपलब्धि हासिल की है.


04:35 PM: बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने चंद्रयान 3 पर बात करते हुए कहा, ”पहले सब कहते थे चांद पर दाग है, अब सब कहेंगे कि चांद पर चंद्रयान है.”


04:28 PM: चंद्रमा की खोज के भारत के तीसरे अभियान की अब तक की यात्रा के बारे में जानने के लिए पढ़ें दिप्रिंट की ये रिपोर्ट.


04:12 PM: सीएसआईआर के वरिष्ठ वैज्ञानिक सत्यनारायण ने चंद्रयान-3 की लैंडिंग पर कहा, हम चंद्रमा की सतह को छूने वाले चार (देशों) के विशिष्ट समूह में शामिल होने जा रहे हैं… असफलताएं सबक देती हैं. हमने बहुत कुछ सीखा है…उन्होंने (इसरो) चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग कराने के लिए पर्याप्त सावधानी बरती है.


03:30 PM: चंद्रयान-3 के लैंडिंग के कुछ घंटे पहले अभिनेता जेनेलिया और रितेश देशमुख ने कहा, हम भारतीय होने के नाते प्राउड फील कर रहे हैं और अपने देश का समर्थन कर रहे हैं.


03:14 PM: चंद्रयान-3 मिशन पर बेंगलुरु के नेहरू तारामंडल के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आनंद ने कहा, यह चंद्रयान-3 लैंडर का मॉडल है जो आज चंद्रमा पर उतरेगा. अवतरण के दौरान लैंडर की लैंडिंग एक कठिन प्रक्रिया है. ISRO इस मिशन के लिए पूरी तरह से तैयार है. इस मिशन में चंद्रयान-2 में आने वाली सभी तकनीकी कठिनाइयों का समाधान किया गया है.


03:03 PM: हरियाणा के स्कूलों में छात्रों को प्रेरित करने तथा उनका आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए बुधवार शाम को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के तीसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-3 की लैंडिंग का सीधा प्रसारण किया जाएगा. राज्य के शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने यह जानकारी दी.

शिक्षा मंत्री ने बताया कि राज्य के सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को बुधवार शाम पांच बजे से छह बजे तक स्कूल खोलने का निर्देश दिया गया है.


02:56 PM: ओडिशा में चंद्रयान-3 की चांद पर सफल लैंडिंग के लिए लोगों ने भुवनेश्वर की एक मस्जिद में नमाज़ अदा की.


02:44 PM: चंद्रयान 3 पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोलो, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भारत की महानता एक बार फिर पूरी दुनिया के सामने प्रदर्शित हो रही है…हम अपने वैज्ञानिकों और टीम इंडिया को बधाई देते हैं, जो इस असंभव उपलब्धि को निर्बाध रूप से संभव बनाने के लिए इसरो के नेतृत्व में जुटे हैं. हमें अपने वैज्ञानिकों और विरासत पर गर्व है…


02:44 PM: कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा, “हमें गर्व है कि इसरो के वैज्ञानिक चंद्रयान की चांद पर सफल लैंडिंग के लिए प्रयास कर रहे हैं. हम भगवान से उनकी सफलता के लिए प्रार्थना करते हैं. लेकिन अखबारों में खबरें हैं कि ऐसा करने वाले वैज्ञानिकों को 17 महीने से वेतन नहीं मिला है. प्रधानमंत्री को इस पर भी ध्यान देना चाहिए.”


02:37 PM: चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के इंतज़ार के बीच दिल्ली और पंजाब के स्कूलों के बच्चों ने रचनात्मक तरीके से Chandrayaan3 की टीम, इसरो और वैज्ञानिकों को अपनी शुभकामनाएं दी.


02:32 PM: चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के लिए केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी दिल्ली के गुरुद्वारा बंगला साहिब में विशेष अरदास में शामिल हुए.


02:24 PM: चंद्रयान-3 मिशन पर कांग्रेस सांसद राजीव शुक्ला ने कहा, “मैं चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के लिए बधाई देने के साथ ही इसके लिए प्रार्थना भी करता हूं…मैं वैज्ञानिकों को उनके काम के लिए सराहना करता हूं और बधाई देना चाहता हूं…”


02:20 PM: चंद्रयान-3 मिशन के लिए केवल कुछ ही घंटे बचे हैं, इसरो के पूर्व वैज्ञानिक मायलस्वामी अन्नादुरई ने बुधवार को कहा कि चांद के ध्रुवीय क्षेत्र पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला पहला मिशन बनकर, यह मिशन इतिहास रचने के लिए तैयार है.

मिशन के बारे में बात करते हुए, अन्नादुराई ने कहा, “अब तक सब अच्छा है और हमें उम्मीद है कि योजना ‘ए’ के अनुसार आज हम लैंडिंग में सक्षम होंगे. सबकी तरह, मैं भी बेसब्री से इसका इंतजार कर रहा हूं.”


02:07 PM: झारखंड के शीर्ष तकनीकी संस्थान सहित कई स्कूल युवा वैज्ञानिकों में अंतरिक्ष अन्वेषण के प्रति जुनून जगाने के लिये बुधवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के तीसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-3 की लैंडिंग का सीधा प्रसारण करेंगे.

अधिकारियों ने बताया कि धनबाद स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी-आईएसएम), मेसरा स्थित बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटी), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस्ड मैन्युफैक्चरिंग टेक्नोलॉजी (एनआईएएमटी) और अन्य संस्थानों ने तीसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-3 की लैंडिंग का सीधा प्रसारण करने की व्यवस्था की है.


01:58 PM: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने बुधवार को कहा कि पूरा देश चंद्रयान-3 की सफल सॉफ्ट लैंडिंग का इंतजार कर रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत ने तेजी से विकास किया है.

चंद्रयान-3 मिशन पर बात करते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा, “मैं अपनी शुभकामनाएं देना चाहता हूं और प्रार्थना करता हूं कि चंद्रयान-3 चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करे. पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत ने हर क्षेत्र में तेजी से प्रगति की है. मैं वैज्ञानिकों को सलाम करता हूं.”


01:50 PM: चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के लिए मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के खजराना गणेश मंदिर में बुधवार को एक विशेष ‘हवन पूजन’ किया गया.

खजराना गणेश मंदिर के पुजारी अशोक भट्ट ने बताया, “चंद्रयान 3 की सफल लैंडिंग के लिए भगवान गणेश से प्रार्थना करने के बाद यहां हवन किया गया. इससे हमारे देश का गौरव बढ़ेगा.”


01:40 PM: जय हो ISRO: चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के लिए पूरे भारत में हो रही प्रार्थनाओं और उत्साह के बीच, अंतरराष्ट्रीय सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक ने बुधवार को डेनवर, कोलोराडो में एक छोटी सी बालू की कलाकृति बनाई.

पटनायक ने चंद्रयान-3 के लिए भारत और इसरो को शुभकामनाएं देते हुए कहा, “मैं भारत में नहीं हूं क्योंकि मैं अंतरराष्ट्रीय दौरे पर हूं, हालांकि, ऐसे ऐतिहासिक दिन पर यह कलाकृति बनाना मेरे लिए सम्मान की बात है.”

पटनायक ने कहा, “मैं भारत को अपनी शुभकामनाएं देता हूं.”


01:34 PM: चंद्रयान-3 की लैंडिंग को लेकर देश भर के स्कूलों में बच्चों ने भी इसके सफल होने के लिए प्रार्थना की. भुवनेश्वर में स्कूली छात्र चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के लिए प्रार्थना की, तो जम्मू के स्कूली छात्रों ने ‘हम होंगे कामयाब’ गाना गाया.


01:24 PM: चंद्रयान-3 मिशन की लैंडिंग को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा, “यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है और मैं वैज्ञानिकों को अग्रिम बधाई देना चाहता हूं…हम चाहते हैं कि चंद्रयान-3 सफलतापूर्वक लैंड हो…”


01:06 PM: चंद्रमा पर लैंडिंग के प्रयास से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि “देश आज इतिहास लिखने को तैयार है”.


01:02 PM: आरएसएस ने बुधवार को चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग की कामना करते हुए कहा कि यह देश के लिए ‘‘बेहद महत्वपूर्ण’’ है.


01:00 PM: चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग के लिए उल्टी गिनती शुरू, ISRO ने इसके लिए नई तस्वीरें जारी की. इसरो ने एक्स पर पोस्ट कर बताया, ‘लैंडिंग अनुक्रम (एएलएस) शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है. लगभग 05:44 बजे निर्धारित समय पर लैंडर मॉड्यूल के पहुंचने का इंतज़ार किया जा रहा है.


12.40 PM: ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन से लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका तक चंद्रयान-3 की सफलता की कामना के लिए विशेष अनुष्ठान, प्रार्थनाएं और समारोह आयोजित किए जा रहे हैं.


12.28 PM: अंतरिक्ष विभाग के राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने ट्वीट किया, “चांद को छूने की उलटी गिनती शुरू! प्रक्षेपण से लेकर चंद्रमा की सतह तक की उल्लेखनीय यात्रा का पता लगाने वाली कहानी, जो भारत को ब्रह्मांड में ले जाती है. ”


स्कूल में होगा सीधा प्रसारण

केंद्र सरकार ने सभी विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों से चंद्रमा पर चंद्रयान-3 की लैंडिंग का सीधा प्रसारण दिखाने के लिए विशेष सभाएं आयोजित करने को कहा है.

उच्च शिक्षा सचिव के संजय मूर्ति ने सभी शिक्षण संस्थानों के प्रमुखों को लिखे एक पत्र में कहा है, “भारत के चंद्रयान-3 की लैंडिंग एक यादगार अवसर है, जो न केवल जिज्ञासा को बढ़ावा देगा, बल्कि हमारे युवाओं के मन में अन्वेषण के लिए जुनून भी जगाएगा. इससे गर्व और एकता की गहरी भावना पैदा होगी, क्योंकि हम सामूहिक रूप से भारतीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी की ताकत का जश्न मनाएंगे.”

उन्होंने कहा, “यह वैज्ञानिक अन्वेषण और नवाचार के माहौल को बढ़ावा देने में योगदान देगा.”

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने भी इसी तरह का निर्देश जारी कर शिक्षण संस्थानों से बुधवार को भारत के तीसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-3 की लैंडिंग का लाइव प्रसारण दिखाने के लिए विशेष सभाएं आयोजित करने को कहा है.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, चंद्रयान-3 के बुधवार शाम लगभग छह बजकर चार मिनट पर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर “सॉफ्ट लैंडिंग” करने की संभावना है.

मूर्ति ने पत्र में कहा, “उच्च शिक्षण संस्थानों से अनुरोध है कि वे शाम 5.30 बजे से 6.30 बजे तक विशेष सभाएं आयोजित करें और चंद्रमा पर चंद्रयान-3 की लैंडिंग का सीधा प्रसारण दिखाकर इस महत्वपूर्ण पल के गवाह बनें.”

तीन चंद्रयान भेजे गए

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने 15 साल में तीन चंद्र अभियान भेजे हैं. ऐसा प्रतीत होता है कि मानो चंद्रमा इसरो को अपने यहां बार-बार आमंत्रित करता है. और ऐसा क्यों न हो? वैज्ञानिकों को 2009 में चंद्रयान-1 से मिले डेटा का पहली बार इस्तेमाल कर चंद्रमा के ध्रुवीय क्षेत्रों में अंधकार वाले और सबसे अधिक ठंडे हिस्सों में बर्फ के अंश का पता चला था.

चंद्रयान-1 भारत का पहला चंद्र अभियान था. इसका प्रक्षेपण 22 अक्टूबर, 2008 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से हुआ था. यान में भारत, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, स्वीडन और बुल्गारिया निर्मित 11 वैज्ञानिक उपकरण थे जिसने चंद्रमा के रासायनिक, खनिज विज्ञान और फोटो-भूगर्भीय मानचित्रण के लिए उसकी सतह से 100 किलोमीटर की ऊंचाई पर चारों ओर परिक्रमा की थी.

अभियान के सभी अहम पहलुओं के सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद मई 2009 में कक्षा का दायरा बढ़ाकर 200 किलोमीटर कर दिया गया. उपग्रह ने चंद्रमा के आस पास 3,400 से अधिक कक्षाएं बनाईं.


यह भी पढ़ें: साउथ पोल ही क्यों, तमाम मुश्किलों के बावजूद भी भारत क्यों उसी एरिया में भेज रहा चंद्रयान-3


 

share & View comments