scorecardresearch
Sunday, 21 July, 2024
होमखेलवनडे में कोहली के 50 शतक पूरे, ‘महान’ सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा, अब ODI में सबसे अधिक शतक

वनडे में कोहली के 50 शतक पूरे, ‘महान’ सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा, अब ODI में सबसे अधिक शतक

कोहली ने इसके साथ ही विश्व कप के एक सत्र में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी तेंदुलकर (2003 में 673 रन) के रिकॉर्ड को पीछे छोड दिया.

Text Size:

नई दिल्ली: विराट कोहली बुधवार को यहां न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप सेमीफाइनल के दौरान अपने आदर्श सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ते हुए खेल के इतिहास में 50 एकदिवसीय शतक बनाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए.

कोहली ने तेज गेंदबाज लॉकी फर्ग्यूसन की गेंद को स्क्वायर लेग पर खेल कर दो रन के साथ 106 गेंद में अपना शतक पूरा किया. उन्होंने करियर की 279 वीं पारी में शतकों का अर्धशतक पूरा किया.

कोहली ने वानखेड़े स्टेडियम में महान तेंदुलकर की मौजूदगी में यह उपलब्धि हासिल की.

खास बात यह है कि तेंदुलकर ने इसी मैदान पर 15 नवंबर (2013) को ही आखिरी बार भारत के लिए बल्लेबाजी की थी. यह टेस्ट मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला गया था.

कोहली ने इसके साथ ही विश्व कप के एक सत्र में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी तेंदुलकर (2003 में 673 रन) के रिकॉर्ड को पीछे छोड दिया.

कोहली इस दौरान मौजूदा विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका के क्विंटन डी कॉक (591) को पीछे छोड़ते हुए इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी भी बन गए. इन दोनों के बाद न्यूजीलैंड के रचिन रवींद्र (565) हैं.

वह वनडे में सबसे ज्यादा रन बनाने के बाद मामले में ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग को पीछे छोड़कर तीसरे स्थान पर पहुंच गये.

तेंदुलकर 18,426 रनों के साथ इस सूची में शीर्ष पर हैं, उनके बाद कुमार संगकारा (14,234) हैं. कोहली ने रिकी पोंटिंग (13,704) को पछाड़कर तीसरा स्थान हासिल किया.

कोहली ने 5 नवंबर को अपना 35 वां जन्मदिन मनाया साथ ही उन्होंने रविवार को कोलकाता में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 101 रन बनाकर तेंदुलकर के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली थी.

कोहली ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा,‘‘मैं हमेशा अपनी भावनाओं और संवेदनाओं को काबू में रखना चाहता हूं. यह मेरे खेल का अहम हिस्सा है. इसलिए मैच से पहले मैं इसको लेकर सावधान और सचेत रहता हूं.’’

सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट कर विराट कोहली के लिए कहा, “जब मैं पहली बार आपसे भारतीय ड्रेसिंग रूम में मिला था, तो टीम के अन्य साथियों ने आपके साथ मेरे पैर छूने का मज़ाक उड़ाया था. मैं उस दिन अपनी हंसी नहीं रोक सका. लेकिन जल्द ही, आपने अपने जुनून और कौशल से मेरे दिल को छू लिया. मैं बहुत खुश हूं कि वह युवा लड़का एक ‘विराट’ खिलाड़ी बन गया है.’

मुझे इससे ज्यादा खुशी नहीं हो सकती कि एक भारतीय ने मेरा रिकॉर्ड तोड़ा. और इसे सबसे बड़े मंच पर – विश्व कप सेमीफाइनल में – और अपने घरेलू मैदान पर करना सोने पर सुहागा है.”


यह भी पढ़ें: मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर MP चुनाव में BJP के प्रचार से बाहर


share & View comments