scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमदेशकोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या 10 हजार के पार पहुंचने में भारत को 74 दिन लगे जो यूएस और यूके से काफी कम

कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या 10 हजार के पार पहुंचने में भारत को 74 दिन लगे जो यूएस और यूके से काफी कम

भारत के आंकड़े दक्षिण कोरिया, आयरलैंड और स्वीडन के करीब है वहीं अमेरिका 5 लाख 80 हजार संक्रमित मामलों के साथ सबसे आगे हैं और स्पेन 1 लाख 70 हजार के साथ दूसरे स्थान पर.

Text Size:

बेंगलुरु: भारत में आधिकारिक तौर पर कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 10 हजार के पार हो चुकी है. इस आंकड़े को पार करने वाला भारत दुनिया का अब तक का 22वां देश है.

भारत के कोविड-19 के आंकड़े दक्षिण कोरिया, आयरलैंड और स्वीडन के करीब है वहीं अमेरिका 5 लाख 80 हजार संक्रमित मामलों के साथ सबसे आगे है और स्पेन 1 लाख 70 हजार के साथ दूसरे स्थान पर है.

दिप्रिंट इस बात की पड़ताल कर रहा है कि इनमें से प्रत्येक देश 10 हजार के आंकड़े तक कैसे पहुंचा, और भारत उनकी तुलना में कहां है. डेटा 14 अप्रैल की शाम 6 बजे तक के हैं, जब दुनिया भर में संक्रमित मामलों की संख्या 1.92 मिलियन हो चुकी थी.

10 हजार मामले पहुंचने तक कितना समय लगा

कोविड-19 का पहला मामला चीन में नवंबर 2019 के करीब आया था और जिन 41 मामलों की पुष्टि वहां हुई थी उनमें से 13 लोगों का वुहान के वेट मार्केट से कोई संबंध नहीं था जिसे इस महामारी का केंद्र माना जा रहा है.

चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को 31 दिसंबर को नोवेल कोरोनावायरस के बारे में बताया और डब्ल्यूएचओ ने 12 जनवरी को इसकी पुष्टि की. उसी दिन से पूरी दुनिया को इस वायरस के बारे में पता चला.

भारत में 30 जनवरी को कोरोनावायरस का पहला मामला दर्ज किया गया और ये 13 अप्रैल यानि कि इसके 74 दिन बाद 10 हजार मामलों को पार कर गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का एलान किया था जिसके बाद 24-25 मार्च की आधीरात से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगा दिया गया.

भारत की प्रगति उन देशों की तुलना में है, जिन्होंने इस बीमारी को अच्छी तरह से प्रबंधित किया है, जैसे कि दक्षिण कोरिया, जिसने 10,000 मामलों तक पहुंचने में 74 दिन का समय लिया. चीन, भी, लगभग समान समय अवधि (73 दिनों) में संख्या तक पहुंचा, अगर नवंबर में होने वाले पहले मामले के बारे में रिपोर्ट पर विश्वास किया जाए. स्वीडन ने लगभग उतना ही समय लिया, करीब 72 दिन.


यह भी पढ़ें: लॉकडाउन 2.0 में इंडस्ट्री और खेती को मिली छूट, मास्क हुआ अनिवार्य और थूकने पर देना होगा जुर्माना


सभी देशों के आंकडों का कर्व फ्लैट हुआ है. हालांकि, अन्य देश 10,000 मामले तक बहुत तेजी से पहुंच गए, खासकर जहां रोकथाम के उपायों में देर किया गया.

53 दिनों में अमेरिका 10,000 मामलों तक पहुंच गया, जबकि ब्रिटेन 55 दिनों में ही इस आंकड़े तक पहुंच गया. इन देशों में संक्रमितों की संख्या बहुत अधिक है, जिसमें अमेरिका 5,87,173 मामलों के साथ दुनिया में सबसे आगे है, और यूके में ये संख्या 88,621 है. स्पेन, दूसरा सबसे अधिक मामलों वाला देश है यहां 46 दिनों में 10 हजार तक मामला पहुंच गया, जबकि इटली ने केवल 40 दिनों में इस आंकड़े को छू लिया.

10 हजार मामलों में मरने वालों की संख्या

भारत में कोविड-19 से 10 हजार संक्रमित मामलों में से 358 लोगों की मौत हुई है. वहीं दक्षिण कोरिया में 174 लोगों की मौत हुई है.

प्रतिरक्षा प्राप्त करने के लिए ब्रिटेन ने रोग मुक्त रहने की अपनी प्रारंभिक योजना के साथ, 578 मौतें देखीं और स्पेन में यहां तक पहुंचते हुए 553 मौतें हुईं. इटली, उम्मीद है, इसकी बड़ी उम्र की आबादी के कारण 631 में एक उच्च मृत्यु संख्या थी.

अमेरिका में 309 मौतें हुई हैं जबकि चीन में 259 लोगों की मौत हुई है.

सभी देशों में सबसे प्रभावशाली आंकड़ा जर्मनी का था, जिसने 10,000 मामलों को पार करने के दौरान केवल 28 मौतों की सूचना दी थी.

हालांकि, पहले 10 हजार मामलों के लिए स्वीडन की मृत्यु का आंकड़ा 887 था. देश, जिसे महामारी के लिए सबसे अच्छे में से एक माना जाता है, अभी भी वहां पूर्ण लॉकडाउन लागू नहीं किया गया है. जिसने विशेषज्ञों को तत्काल कार्रवाई की सिफारिश करने के लिए कहा.

जो कदम उठाए गए

भारत में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाया गया था जिसके दो दिन बाद राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगा दिया गया. लॉकडाउन पहला मामला आने के 54 दिन के बाद लगाया गया था. यूके में भी 52 दिन बाद लॉकडाउन लगाया गया था लेकिन वहां ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.


यह भी पढ़ें: कहते हैं नाम में क्या रखा है पर यूपी का यह गांव जानता है ‘कोरौना’ होने का दर्द


स्पेन और इटली में कोविड का पहला मामला आने के बाद 44 दिन और 37 दिन के बाद लॉकडाउन लागू किया गया था. वहीं आयरलैंड में पहला मामला आने के 15 दिन के बाद ही शटडाउन लागू कर दिया गया था. आयरलैंड में लोग खुद से ही सार्वजनिक जगहों पर जाना बंद करने लगे और शटडाउन के पहले ही घरों में ही रहने लगे.

कई देशों ने अभी तक हालांकि पूरी तरह लॉकडाउन नहीं किया है जिसमें नीदरलैंड्स, स्वीडन समेत यूएस भी है जहां संक्रमितों की संख्या सबसे ज्यादा है.

देश के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ एंथनी फौसी ने कहा था कि अमेरिका इससे ज्यादा जीवन बचा सकता था अगर उसने पहले ही सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों को लागू किया होता. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की आलोचना भी की गई, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, उनकी धीमी प्रतिक्रिया के लिए और विशेषज्ञ की सलाह पर ध्यान न देने के लिए.

दक्षिण कोरिया भी आंशिक रूप से लॉकडाउन के तहत है, जो पहले पता लगाए गए मामले के एक महीने बाद शुरू हुआ. हालांकि, देश को ताइवान, वियतनाम और सिंगापुर के साथ, कोविड-19 संकट के लिए सबसे कुशल प्रतिक्रियाओं करने वालों में कहा जा रहा है. दक्षिण कोरिया ने आक्रामक तौर पर परीक्षण किया, जिसमें ड्राइव-थ्रू परीक्षण, कठोर संपर्क अनुरेखण, त्वरित यात्रा प्रतिबंध, कुशल निगरानी और संगरोध, और आंदोलन की निगरानी के लिए प्रौद्योगिकी का तेजी से उपयोग शामिल है.

देश ने यहां तक इस संकट के कारण चुनावों को भी स्थगित कर दिया है और हेल्थ के कड़े प्रोटोकॉल लागू किया है.

दक्षिण कोरिया उन कुछ देशों में से एक है जिसने वास्तव में वक्र को समतल कर दिया है, जो 2015 की मर्स के प्रकोप से सीखे गए कठिन पाठों की बदौलत महामारी से संबंधित है.

चीन ने भी इसी तरह के कड़े कदम उठाए और वायरस के प्रभाव को रोका. नवंबर में मामला आने के बाद ही पूरी तरह लॉकडाउन कर सफलतापूर्वक वायरस के फैलाव को रोक लिया गया. तकनीक के सहारे व्यक्तिगत तौर पर लोगों की निगरानी की गई और यहां तक की ड्रोन का भी इस्तेमाल किया गया.


यह भी पढ़ें: तबलीगी जमात और वीएचपी अपनी-अपनी कौमों को एक करने में लगी है, तो दोनों में आखिर क्या फर्क है


हालांकि पाबंदियां हटने के बाद चीन में एक बार फिर से संक्रमण के मामले सामने आने लगे.

जिन दूसरे देशों ने 10 हजार कोविड-19 संक्रमित मामलों के आंकड़ों को पार किया है उसमें फ्रांस, ईरान, तुर्की, बेल्जियम, नीदरलैंड्स, स्विट्जरलैंड, कनाडा, ब्राजील, रुस, पुर्तगाल, ऑस्ट्रिया और इजरायल शामिल है.

(मोहना बासु के इनपुट के साथ)

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments