scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमदेशभारत-पाकिस्तान वर्ल्ड कप से पहले धमकी भरे कॉल करने के आरोप में आतंकी गुरपतवंत पन्नून के खिलाफ FIR दर्ज

भारत-पाकिस्तान वर्ल्ड कप से पहले धमकी भरे कॉल करने के आरोप में आतंकी गुरपतवंत पन्नून के खिलाफ FIR दर्ज

भारत में कई लोगों को यूके के एक फोन नंबर +44 7418 343648 से कॉल आया, जिसमें पहले से रिकॉर्ड किया गया ऑडियो संदेश चलाया गया.

Text Size:

नई दिल्ली: गुजरात पुलिस ने 14 अक्टूबर को भारत-पाकिस्तान आईसीसी विश्व कप मैच से पहले “माहौल खराब करने” की कोशिश के लिए नामित आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया.

पन्नून पर गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत धाराओं के अलावा, युद्ध छेड़ने का प्रयास करने, उकसाने, एक वर्ग या समुदाय को उकसाने और आपत्तिजनक जानकारी भेजने का आरोप लगाया गया है.

अहमदाबाद के पुलिस उपायुक्त, साइबर अपराध, अजीत राजियान ने बताया, “विभिन्न सोशल मीडिया हैंडल पर पहले से रिकॉर्ड किए गए धमकी भरे संदेश भेजे गए और माहौल खराब करने का प्रयास किया गया.”

अमेरिका स्थित वकील, पन्नून भारत में एक नामित आतंकवादी है और प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) का संस्थापक है.

कथित तौर पर खालिस्तानी समर्थक पन्नून द्वारा की गई एक धमकी भरी कॉल के बारे में गुरुवार को रिपोर्टें सामने आईं.

भारत में कई लोगों को यूके के एक फोन नंबर +44 7418 343648 से कॉल आया, जिसमें पहले से रिकॉर्ड किया गया ऑडियो संदेश चलाया गया.

5 अक्टूबर से शुरू होने वाली 10 देशों की आईसीसी एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए धमकी दी जा रही है

कहा गया है, “5 अक्टूबर को याद रखें, यह विश्व क्रिकेट कप नहीं होगा, यह विश्व आतंक कप की शुरुआत होगी… यह संदेश एसएफजे के जनरल काउंसिल गुरपतवंत सिंह पन्नून का है.” इसे 28 जून को कनाडा स्थित आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के जवाब में जोड़ा गया.

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा इसे भारतीय एजेंटों से जोड़ने के बाद निज्जर की हत्या कनाडा और भारत के बीच बड़े राजनयिक टकराव के केंद्र में है. भारत ने इस आरोप को “बेतुका और प्रेरित” बताते हुए इनकार किया है.

क्लिप में आगे कहा गया, “भारत और मोदी शासन ने प्रधानमंत्री ट्रूडो का अपमान किया है. मोदी शासन को यह सलाह दी जाती है कि आप ओटावा में अपना दूतावास बंद कर दें और अपने राजदूत (संजय कुमार) वर्मा को वापस लाएं. यह सलाह कनाडाई लोगों की है और यह सलाह एसएफजे जनरल काउंसिल गुरपतवंत सिंह पन्नून की है. हम प्रधानमंत्री ट्रूडो का अनादर करने के लिए मोदी और राजदूत वर्मा को जिम्मेदार ठहराएंगे.

पन्नून का एक और वायरल वीडियो पिछले हफ्ते सामने आया था, जिसमें उसने कनाडा में हिंदुओं से “भारत वापस जाने” के लिए कहा था.

23 सितंबर को, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अमृतसर और चंडीगढ़ में पन्नून की संपत्तियों को जब्त कर लिया था.


यह भी पढ़ें: ‘राजनीतिक बदला’, शरद पवार के पोते ने उनकी कंपनी के खिलाफ हुई कार्रवाई के लिए शिंदे सरकार की आलोचना की


 

share & View comments