Thursday, 30 June, 2022
होमएजुकेशनकोविड काल में आईआईटी गांधीनगर को प्लेसमेंट 20% बढ़ने की उम्मीद, बाकी छात्रों के लिए डिप्लोमा-फेलोशिप लॉन्च

कोविड काल में आईआईटी गांधीनगर को प्लेसमेंट 20% बढ़ने की उम्मीद, बाकी छात्रों के लिए डिप्लोमा-फेलोशिप लॉन्च

आईआईटी गांधीनगर के निदेशक डॉक्टर सुधीर के जैन ने दिप्रिंट से कहा, 'प्लेटमेंट पर कोविड का असर तो होगा. इसकी वजह से जिन्हें नौकरी मिलेगी उनके ज्वाइनिंग में देर हो सकती है और कुछ की नौकरियां जा भी सकती हैं.'

Text Size:

नई दिल्ली: कोरोनावायरस की वजह से बाजार में नौकरियों की भारी कमी हो सकती है. इसके कारण एक ओर जहां कई आईआईटी के छात्रों के भविष्य पर बुरा असर पड़ने की आशंका है वहीं ख़बर यह भी है कि लॉकडाउन के बाद भी 10 से अधिक कंपनियों ने आईआईटी गांधीनगर के छात्रों को इंटर्नशिप से लेकर फुल टाइम नौकरी दी है.

आईआईटी गांधीनगर के निदेशक को उम्मीद है कि जारी सत्र के दौरान प्लेसमेंट में 20 फीसदी तक की वृद्धि होगी. हालांकि समय की मांग के अनुरूप आईआईटी गांधीनगर ने छात्रों के लिए पीजी डिप्लोमा कोर्स भी शुरू किया है.


यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में वर्क फ्रॉम होम, ऑनलाइन क्लास और टीवी देखने ने पैदा की एक ‘नई बीमारी’


बीते दिनों कुछ आईआईटी और आईआईएम के छात्रों को मिली हुई नौकरी और इंटर्नशिप से हाथ धोने की भी ख़बरें आई थीं.

कोविड 19 की वजह से छात्रों की योजनाओं पर पानी फिरने को ध्यान में रखते हुए संस्थान ने कई तरह के डिप्लोमा शुरू किए हैं. 2020-21 के अकादमिक साल के लिए जारी किए गए इन डिप्लोमा की अवधि एक साल की होगी. ये उन बच्चों के लिए होगा जो इस साल ग्रैजुएट हो रहे हैं.

संस्थान द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि ऐसे प्रोग्राम को शुरू करने का कारण कोरोना महामारी का प्रभाव है. बयान में कहा गया है, ‘इन प्रोग्रामों का उद्देश्य ऐसे छात्रों की मदद करना है जिनकी नौकरी और उच्च शिक्षा की योजनाओं को धक्का लगा है.’ ये भी कहा गया है कि ये डिप्लोमा उन छात्रों के लिए कारगर होंगे जो फुल टाइम मास्टर प्रोग्राम में रुचि नहीं रखते.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

इंडस्ट्रियल सेक्टर और प्लेसमेंट

नए डिप्लोमा कोर्स और प्लेसमेंट के बारे में आईआईटी गांधीनगर के निदेशक डॉक्टर सुधीर के जैन ने दिप्रिंट से कहा, ‘प्लेसटमेंट पर कोविड का असर तो होगा. इसकी वजह से जिन्हें नौकरी मिलेगी उनके ज्वाइनिंग में देर हो सकती है और कुछ की नौकरियां जा भी सकती हैं.’ उनका मानना है कि ये सारी बातें इस पर निर्भर करेंगी की आने वाले दिनों में इंडस्ट्रियल सेक्टर कैसा करता है.


यह भी पढ़ें: अमेरिकी कंपनी ने आईआईटी-आईआईएम के छात्रों से वापस लिए जॉब ऑफर, हर परिस्थिति से निपटने को तैयार संस्थान


डॉक्टर जैन ने कहा, ‘हम इस साल भी पूरे सत्र में प्लेसमेंट कराने की तैयारी में है और उम्मीद है कि पहले की तुलना में 20 प्रतिशत ज़्यादा प्लेसमेंट होगा.’ उन्होंने जानकारी दी कि लॉकडाउन के बाद से अभी तक 10 संस्थानों ने उनके छात्रों को इंटर्नशिप से लेकर फुल टाइम नौकरी दी है.

हालांकि, उम्मीद ये भी है कि अभी की स्थिति की वजह से वर्तमान अकादमिक सत्र बहुत ज़्यादा प्रभावित नहीं होगा. संस्थान द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक प्लेसमेंट को किसी ख़ास समय पर कराने के बजाए आईआईटी गांधीनगर इसे पूरे अकादमिक सत्र के दौरान कराने में भरोसा रखता है और इस साल भी ऐसा ही किया जा रहा है.

पिछले सत्र के दौरान प्लेसमेंट की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि इसके अंत तक ग्रैजुएशन के 75 प्रतिशत छात्रों के हाथ में कम से कम एक ऑफ़र था. उनका दावा है कि इस साल फिलहाल उनके यहां ज़रूरत से 30 प्रतिशत ज़्यादा नौकरी के ऑफ़र आए हैं और उम्मीद है कि सत्र के अंत तक ये संख्या बेहतर होती चली जाएगी.
2020-21 के सत्र के लिए संस्थान ने लीडरशिप के क्षेत्र में 10 फेलोशिप भी देने की घोषणा की है. आईआईटी गांधीनगर के बीटेक, एमएससी और एमए के छात्र इस ‘साबरमती ब्रिज फेलोशिप’ का हिस्सा बन सकते हैं. इसमें उनके पास संस्थान के प्रोफेसरों के साथ काम करके प्रतिष्ठित जर्नलों में छपने का मौका होगा.
share & View comments