Tuesday, 25 January, 2022
होमदेश'नफ़रत जीत गई'-दो महीने में 12 कार्यक्रम रद्द होने के बाद मुनव्वर फारूकी ने दिए कॉमेडी छोड़ने के संकेत

‘नफ़रत जीत गई’-दो महीने में 12 कार्यक्रम रद्द होने के बाद मुनव्वर फारूकी ने दिए कॉमेडी छोड़ने के संकेत

फारूकी इस साल की शुरुआत में इंदौर में आयोजित कार्यक्रम को लेकर विवादों के घेरे में आ गए थे जहां उन्हें हिंदू देवी -देवताओं और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पर कथित रूप से ‘अश्लील टिप्पणी’ करने के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था.

Text Size:

नई दिल्ली: स्टैंड-अप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी ने रविवार को इस बात के संकेत दिए कि वह कॉमेडी करना छोड़ सकते हैं क्योंकि पिछले दो महीने में उनके बारह कार्यक्रमों को तोड़-फोड़ की कथित धमकियों के कारण रद्द कर दिया गया है.

फारूकी इस साल की शुरुआत में इंदौर में आयोजित कार्यक्रम को लेकर विवादों के घेरे में आ गए थे जहां उन्हें हिंदू देवी -देवताओं और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर कथित रूप से ‘अश्लील टिप्पणी’ करने के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था. हालांकि फारूकी ने दावा किया है कि उन्हें इस कार्यक्रम में कभी भी अपना प्रदर्शन दिखाने का मौका ही नहीं मिला.

इस स्टैंड-अप कॉमेडियन को रविवार को बेंगलुरु के गुड शेफर्ड ऑडिटोरियम में अपनी कला का एक और प्रदर्शन करना था. मगर, बेंगलुरु पुलिस ने कानून और व्यवस्था का हवाला देते हुए आयोजकों को ‘डोंगरी टू नोव्हेयर’ शीर्षक वाले इस शो को रद्द करने के लिए कहा. पिछले दो महीनों के दौरान मुंबई और गुजरात में होने वाले कार्यक्रमों को भी दक्षिणपंथी संगठन बजरंग दल के सदस्यों की ओर से तोड़फोड़ की धमकी के कारण रद्द कर दिया गया था.

रविवार को किए गए एक इंस्टाग्राम पोस्ट में – जिसे ट्विटर पर भी साझा किया गया था-फारूकी ने अपने एक बयान में कहा, ‘मुझे लगता है कि मेरे लिए यह अंत है. मेरा नाम मुनव्वर फारुकी है और अब मेरा समय हो गया है. आप लोग अद्भुत दर्शक थे. गुड बाई! आई एम डन.’ उन्होंने इस बयान के स्क्रीनशॉट साथ एक कैप्शन भी दिया ‘नफरत जीत गई है, आर्टिस्ट हार गया. गुड बाई! आई एम डन! नाइंसाफ़ी

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने कहा कि यह काफी अनुचित बात थी कि उन्हें एक ऐसे मजाक के लिए जेल में समय बिताना पड़ा जिसे उन्होंने सुनाया हीं नहीं था और उनके उन कार्यक्रमों को भी रद्द कर दिया गया जिनमें कोई विवादित विषय वस्तु नहीं थी.

उन्होंने कहा, ‘इस शो को भारत में सभी लोगों का, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो, बहुत-बहुत प्यार मिला.’

फारूकी ने अपने पोस्ट में कहा कि बेंगलुरू में होने वाले शो के 600 से अधिक टिकट बिके थे और इस कार्यक्रम से होने वाली कमाई को दिवंगत अभिनेता पुनीत राजकुमार की चैरिटी में दान किया जाता.

फारूकी द्वारा इंस्टाग्राम पर किए गए इस पोस्ट पर कई अभिनेताओं और साथी हास्य कलाकारों ने अपनी प्रतिक्रिया दी.

अभिनेत्री रोहिणी रामनाथन ने लिखा, ‘मुझे बहुत खेद है मेरे दोस्त लेकिन डटे रहो. यह अनुचित है लेकिन न्याय होगा और यह जमकर होगा.’

संगीतकार और निर्माता मयूर जुमानी ने लिखा, ‘नहीं. आप छोड़ कर नहीं जा रहे हैं. हम आपको ऐसा नहीं करने देंगे.’

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ें: मुनव्वर फारुकी के दो और साथियों को मिली अंतरिम जमानत


 

share & View comments