scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमदेशअर्थजगतमोदी ने ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख उद्योगपतियों से मुलाकात कर भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया

मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख उद्योगपतियों से मुलाकात कर भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया

फॉरेस्ट ने कहा कि उन्होंने और प्रधानमंत्री ने स्वीकार किया कि जीवाश्म ईंधन क्षेत्र के पास अब सीमित समय है और इसकी जगह ऐसे ईंधन का इस्तेमाल करना चाहिए, जो पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता है.

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हैं. नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया की प्रमुख कंपनियों के उद्योगपतियों से मुलाकात कर उन्होंने प्रौद्योगिकी, कौशल और स्वच्छ ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में भारतीय उद्योग के साथ सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया.

मोदी अपने तीन देशों के दौरे के अंतिम चरण के तहत सोमवार को सिडनी पहुंचे थें. इस दौरान वह अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष एंथनी अल्बनीज के साथ बातचीत करेंगे. इसके अलावा वह भारतीय प्रवासियों के एक सामुदायिक कार्यक्रम में भी भाग लेंगे.

श्रोडर के साथ बैठक में मोदी ने कहा कि भारत दुनिया में विदेशी निवेश के लिए सबसे पसंदीदा अर्थव्यवस्थाओं में एक है. उन्होंने ऑस्ट्रेलियनसुपर को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया.

भारतीय प्रधानमंत्री ऑस्ट्रेलियाई सरकार के अतिथि के रूप में यह दौरा कर रहे हैं.

मोदी ने उद्योगपतियों की बैठक के दौरान हैनकॉक प्रॉस्पेक्टिंग की कार्यकारी चेयरमैन जीना राइनहार्ट, फोर्टेस्क्यू फ्यूचर इंडस्ट्री के कार्यकारी चेयरमैन एंड्रयू फॉरेस्ट और ऑस्ट्रेलियनसुपर के सीईओ पॉल श्रोडर के साथ द्विपक्षीय बैठकें कीं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि राइनहार्ट के साथ अपनी बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने भारत में किए जा रहे सुधारों और पहलों पर प्रकाश डाला. मोदी ने उन्हें खनन क्षेत्र में प्रौद्योगिकी, निवेश और कौशल में भागीदार बनाने के लिए आमंत्रित किया.

इसी तरह फॉरेस्ट के साथ बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने हरित हाइड्रोजन के क्षेत्र में भारतीय कंपनियों के साथ काम करने की समूह की योजनाओं का स्वागत किया. इस दौरान उन्होंने हरित हाइड्रोजन मिशन जैसी पहलों का उल्लेख किया.

फॉरेस्ट ने भारत में फोर्टेस्क्यू फ्यूचर इंडस्ट्रीज की परियोजनाओं के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी.

बैठक के बाद श्रोडर ने कहा कि ऑस्ट्रेलियनसुपर भारत में और विशेष रूप से भारतीय राष्ट्रीय अवसंरचना कोष में निवेश करता है.

उन्होंने कहा, ”भारत में निवेश करने का हमारा अनुभव बहुत अच्छा रहा है.”

फॉरेस्ट ने कहा कि उन्होंने और प्रधानमंत्री ने स्वीकार किया कि जीवाश्म ईंधन क्षेत्र के पास अब सीमित समय है और इसकी जगह ऐसे ईंधन का इस्तेमाल करना चाहिए, जो पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता है.

राइनहार्ट ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच व्यापार के बड़े अवसर हैं.

प्रधानमंत्री मोदी का ऑस्ट्रेलिया में भारतीय समुदाय के लोगों ने भी भव्य स्वागत किया और उन्होंने “भारत माता की जय” और “वंदे मातरम” के नारे लगाए.


यह भी पढ़ें: इमरान की फिर बढ़ी मुश्किलें, लाहौर के घर के लिए मिला 14 लाख पाकिस्तानी रुपये का टैक्स नोटिस


share & View comments