Wednesday, 25 May, 2022
होमदेशअपराधरेप की धमकी, मुस्लिमों को गालियां देने वाले क्लबहाउस यूजर्स ने कहा-‘ये सिर्फ मजे और फ्रस्ट्रेशन दूर करने के लिए किया’

रेप की धमकी, मुस्लिमों को गालियां देने वाले क्लबहाउस यूजर्स ने कहा-‘ये सिर्फ मजे और फ्रस्ट्रेशन दूर करने के लिए किया’

‘रेप भी एक कला है’ जैसी टिप्पणी करने वाले यूजर्स को जल्द गिरफ्तार किए जाने की संभावना है. दिप्रिंट ने न केवल इसकी रिकॉर्डिंग हासिल की और इन लोगों से बात की है बल्कि उन यूजर्स से भी संपर्क किया है जिनके लिए ये सब बातें कही गई थीं.

Text Size:

नई दिल्ली: सोशल मीडिया ऐप क्लबहाउस पर मुस्लिम महिलाओं के बारे में अपमानजनक और सेक्सुअली रिमार्क करने वाले कई युवक-युवतियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जा सकता है. दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. दिप्रिंट ने क्लबहाउस चैट की डिटेल रिकॉर्डिंग हासिल की है और इस संबंध में कुछ यूजर्स से बात भी की है, जिनका कहना है कि वे तो सिर्फ ‘मजे’ के लिए बलात्कार की धमकी, गाली-गलौच और सांप्रदायिक भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे.

दिल्ली पुलिस ने इन यूजर्स पर शिकंजा कस दिया है. पुलिस के एक सूत्र ने दिप्रिंट से कहा, ‘ज्यादातर नाम और आईडी फर्जी हैं जिन्हें निष्क्रिय किया जा चुका है. लेकिन तकनीकी सहायता से हम फिर से सामने लाकर उन्हें खंगाल रहे हैं. हमारे पास खुफिया जानकारी है कि मुख्य अपराधी दिल्ली के आसपास के इलाकों के हैं. उन्हें जल्द ही पूछताछ के लिए गिरफ्त में लिया जाएगा.’ साथ ही जोड़ा कि बुधवार शाम तक किसी को हिरासत में नहीं लिया गया था. पुलिस यह भी पता लगा रही है कि क्या कुछ यूजर्स ने अपनी आवाज में डिजिटली कुछ बदलाव किया था.

गौरतलब है कि सोमवार रात एक क्लबहाउस चैट रूम की एक स्क्रीन रिकॉर्डिंग वायरल हो गई थी जिसमें इस पर चर्चा हो रही थी कि ‘हिंदू लड़कियों की तुलना में मुस्लिम लड़कियां अधिक सुंदर होती हैं.’ इस बातचीत में किसी मुस्लिम महिला के साथ सेक्स की तुलना ‘सात मंदिरों के निर्माण’ और ‘बाबरी मस्जिद को ध्वस्त करने’ के बराबर होने जैसी टिप्पणियां की गई थीं.

अगले दिन दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दिल्ली पुलिस को ‘मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ अश्लील टिप्पणी’ करने वाले यूजर्स के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए एक नोटिस जारी किया था. कुछ ही घंटों के भीतर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कर ली. इसमें 153ए (विभिन्न समूहों के बीच वैमनस्य फैलाना), 295ए (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के इरादे से जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों को अंजाम देना), और 354ए (यौन उत्पीड़न) शामिल हैं.

हालांकि, यह एकमात्र क्लबहाउस चैट रूम नहीं था जिसमें सोमवार को घृणास्पद, स्त्री विरोधी टिप्पणियां की गईं. दिप्रिंट के पास एक अन्य चर्चा की रिकॉर्डिंग भी है जो एक दूसरे चैट रूम में ‘लड़कियों को ऊंची जाति के लड़कों से शादी करने का विशेषाधिकार न होने’ के विषय पर केंद्रित थी. पहली बातचीत सोमवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे हुई और दूसरी बातचीत शाम करीब साढ़े सात बजे हुई यानी पहली बातचीत की एक क्लिप वायरल होने से कुछ ही देर पहले.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने कहा, ‘हमने दोनों ग्रुप के मामलों पर संज्ञान लिया है. जिन लोगों—महिलाएं और पुरुष दोनों—की आवाज सुनी जा सकती है, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर ट्रैक किया जा रहा है.’

दिप्रिंट दोनों चैट रूम में कुछ अज्ञात यूजर्स से बात करने में सफल रहा जिनका कहना था कि वह सांप्रदायिक टिप्पणियों के साथ रेप फैंटसी पर चर्चा करके दरअसल अपना ‘फ्रस्ट्रेशन निकाल रहे’ थे. दिप्रिंट ने क्लबहाउस पर भड़काऊ चर्चा करने वाले और अपमानजनक सामग्री साझा करने वाले कुछ अन्य ग्रुप के स्क्रीनशॉट भी जुटाए हैं. उदाहरण के तौर पर ‘कश्मीरी आतंकवादी केवल एक चीज खाते हैं (किसी महिला के ऑनलाइन हैंडल का नाम).’


यह भी पढ़ें: बुली बाई ऐप और मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फैलाने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते भारत के शिक्षित युवा


‘डार्क ह्यूमर के लिए समूह में शामिल’

दिप्रिंट ने काइरा एक्सडी नाम के एक यूजर से बात की, जो पहले समूह में मॉडरेटर के तौर पर नजर आ रहा था और दूसरे समूह में भी एक्टिव दिखा. दिप्रिंट ने पहले चैट रूम से 20 मिनट की रिकॉर्डिंग हासिल की है और दूसरे चैट रूम की दो मिनट की क्लिप भी सुनी है.

काइरा एक्सडी ने दिप्रिंट को बताया कि वह करनाल का रहने वाला 18 साल का युवक है और उसने इस चर्चा में अपनी भूमिका दरकिनार करने की कोशिश भी की. उसने कहा, ‘मैं मुसलमानों से नफरत नहीं करता, यह सब सिर्फ मनोरंजन के लिए है. मैं दूसरा या तीसरा मॉडरेटर हूं, पहला तो बिस्मिल्लाह (एक अन्य यूजर) था जिसने ग्रुप बनाया. इस सबके पीछे भी एक कहानी है…यह फ्रस्ट्रेशन दूर करने का एक तरीका है.’ दूसरी चैट की रिकॉर्डिंग में काइरा को रेप को लेकर भद्दे कमेंट करते सुना जा सकता है.

‘बिस्मिल्लाह’ की क्लब हाउस प्रोफ़ाइल, यह विवादास्पद चैट में प्रमुख आवाज़ों में से एक है.

पहले समूह में शामिल होने वाले एक अन्य यूजर ने बताया कि वह बी.कॉम का 21 वर्षीय छात्र है और ‘डार्क ह्यूमर’ के लिए इससे जुड़ा था.

उसने कहा, ‘मैं वहां सिर्फ दो मिनट के लिए था. मुझे बात करने का मौका नहीं मिला. मैंने अपने जीवन में बहुत कुछ देखा है और इसीलिए मैं ऐसा हूं लेकिन मैंने इस चैट रूम में कुछ नहीं कहा.’

सेक्स और मुस्लिम महिलाओं के निजी अंगों के इर्द-गिर्द घूमती बातचीत की इस क्लिपिंग में एक महिला की आवाज भी शामिल है.

यह आवाज कथित तौर पर रोमा मक्कड़ की है जिसका कहना है वह योग में खासी रुचि रखने वाली एक नारीवादी हैं. उसने दिप्रिंट से बातचीत में कहा कि वह ‘इसे चर्चा के लिए एक ओपेन प्लेस समझकर’ ग्रुप में शामिल हो गई थी.

उसने कहा, ‘मैं एक नारीवादी हूं, मेरे तमाम मुस्लिम दोस्त हैं. मैंने बिस्मिल्लाह जैसे नाम देखे थे! लेकिन जब वे बाबरी मस्जिद के बारे में बात करने लगे तो मैंने चैट रूम छोड़ दिया. मैं उनकी कही किसी भी बात का समर्थन नहीं करती. अगर पुलिस मुझसे संपर्क करेगी तो मैं पूरा सहयोग करूंगी लेकिन मैं उनमें से किसी को भी व्यक्तिगत तौर पर नहीं जानती हूं.’

20 मिनट की इस क्लिप में मक्कड़ को यह कहते सुना जा सकता है कि भारत में 70 प्रतिशत मुसलमान कैसे धर्मांतरित होते हैं. कैसे हलाल न केवल मांस काटने के बारे में बल्कि शुद्धता के बारे में भी है. रिकॉर्डिंग में कुछ यूजर बार-बार मक्कड़ को टोकते सुनाई देते हैं और बिस्मिल्लाह उससे पूछता है कि क्या वह पाकिस्तान से है.

मक्कड़ एक और चर्चा का हिस्सा थीं जो जाहिर तौर पर ओडिपस कॉम्प्लेक्स पर केंद्रित थी जिसे फ्रायड की शब्दावली में एक लड़के की अपनी मां के प्रति यौन इच्छा के संदर्भ में इस्तेमाल किया जाता है. इस बातचीत के दौरान एक व्यक्ति ने खुद को हिंदू ब्राह्मण पिता और मुस्लिम मां की संतान बताया और साथ ही दावा किया कि उसे अपनी मां के निजी अंगों को लेकर ‘क्रश’ हो गया था. मक्कड़ अंततः यह कहते हुए चैट रूम से बाहर हो गई कि वह इसमें केवल इसलिए शामिल हुई थी क्योंकि लगा था कि यह इस्लाम पर चर्चा है लेकिन ‘कोई कुछ नहीं जानता’ है.


यह भी पढ़ें: 7 पुरुषों के खिलाफ बलात्कार के 7 केस दर्ज कराने वाली DU की छात्रा जबरन वसूली के आरोप में गिरफ्तार


‘वे रेप को एक कला बताते हैं, फोटो में छेड़छाड़ करते हैं, नंबर पोर्न साइट पर अपलोड करते हैं’

दिप्रिंट ने उन तीन युवतियों से भी बात की जो दूसरे समूह का हिस्सा थीं और इस विषय पर चर्चा कर रही थीं कि ‘लड़कियों को ऊंची जाति के लड़कों से शादी करने का विशेषाधिकार नहीं है.’

तीनों ने बताया कि वे जून-जुलाई 2021 से क्लबहाउस का इस्तेमाल कर रही हैं और उन्हें 18 से 22 वर्ष के बीच उम्र वाले युवकों के एक ग्रुप का सामना करना पड़ा जिन्होंने रेप की धमकी थी और सांप्रदायिक टिप्पणियां कीं.

एक युवती ने बताया कि वह 21 साल की है और हिंदू है. उसका आरोप है कि क्लबहाउस पर पुरुषों का एक ‘गिरोह’ सक्रिय है जो महिलाओं को निशाना बनाता है. युवती के मुताबिक, ‘वे कहते हैं कि रेप एक कला है. वही सात या आठ लोग एक जैसे ग्रुप बनाते रहते हैं. ऐसा लगता है कि इन लोगों ने महिला विरोधी और ‘धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली बातें’ करने के लिए ही हाथ मिला रखा है.

दो अन्य युवतियों, जिसमें एक 24 वर्षीय मुस्लिम वेब डेवलपर और दूसरी स्कूल में पढ़ने वाली एक 16 वर्षीय सिख है, ने भी कहा कि उन्हें रेप की धमकी और सांप्रदायिक रूप से अपमान का सामना करना पड़ा है.

21 वर्षीय युवती ने आरोप लगाया कि पुरुषों ने महिलाओं को परेशान करने के अपने अभियान को और भी तेज कर दिया है. उसने दावा किया, ‘वे हमारी प्रोफाइल फोटो लेते हैं, हमारे नंबरों का पता लगाते हैं और फिर हमें कॉल करके धमकाते हैं.’

उसने आगे कहा, ‘उन्होंने कई महिलाओं की फोटो बदल दी है, लड़कियों की आईडी के आगे अपमानजनक नामों का इस्तेमाल करके चैट रूम बनाए हैं…हम क्लबहाउस की तरफ से कार्रवाई का इंतजार ही कर रहे हैं.’

दिप्रिंट को ई-मेल पर दिए गए जवाब में क्लबहाउस प्रवक्ता ने कहा कि जब भी कम्युनिटी गाइडलाइन के उल्लंघन की जानकारी सामने आई और उसकी पुष्टि हुई तो हमने यूजर को सस्पेंड करके या हटाकर ‘त्वरित तेज कार्रवाई’ की है. प्रवक्ता के मुताबिक, ‘इस मामले में भी चैट रूम के बारे में सूचना मिली थी और इसका आयोजन करने वालों पर तुरंत कार्रवाई की गई. हम कभी यह अनुमान नहीं लगा सकते कि लोग क्या बातें करेंगे लेकिन गाइडलाइन के उल्लंघन पर हम तुरंत कार्रवाई जरूर कर सकते हैं.’

क्लबहाउस की घटना ऐसे समय पर सामने आई है जबकि हाल ही में बुल्ली बाई मोबाइल ऐप मामला सामने आया था जिसमें सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं के नाम ‘नीलामी’ के लिए डाल दिए गए थे.

(इस ख़बर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: बुली बाई ‘मास्टरमाइंड’ एक ‘पोर्न-एडिक्ट, लैपटॉप में मिला सेक्सुअल कंटेंट, पहली बार 16 की उम्र में हैक की थी वेबसाइट’


share & View comments