News on pakistan
हाफिज मोहम्मद सईद | यूट्यूब
Text Size:
  • 3
    Shares

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुग्राम में करोड़ों की संपत्ति जब्त की है. दिप्रिंट को पता चला है कि कथित रूप से संपत्ति आतंकी समूह लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद की है. वह 2008 के मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड है.

एजेंसी के एक सूत्र के अनुसार संपत्ति (विला) सईद के कथित फाइनेंसर कश्मीर स्थित व्यवसायी ज़हूर अहमद शाह वटाली के द्वारा खरीदी गई थी. वटाली को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पिछले साल अगस्त में एक आतंकी फंडिंग मामले में गिरफ्तार किया था.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का यह भी मानना है कि सईद द्वारा चलाए जा रहे पाकिस्तान स्थित ट्रस्ट फलाह-ए-इन्सानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) के फंड से विला खरीदा गया था. जांच एजेंसियों का मानना है कि विला को भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए हवाला चैनलों के जरिए यूएई से पैसे लेकर खरीदा गया था.

ईडी ने इस मामले में अपनी जांच के हिस्से के रूप में विला को जब्त किया है. उसने फरवरी में फलाह-ए-इन्सानियत (एफआईएफ) के खिलाफ मनी लॉन्डरिंग के तहत मामला दर्ज किया था.

ईडी मामले को एनआईए द्वारा सितंबर 2018 के एक मामले में जांच के लिए अनुबोधन किया गया था, जिसमें कथित तौर पर पाया गया था कि सलमान को भारत में आतंकी गतिविधियों के लिए पाकिस्तान और यूएई से फंड मिला था.

एजेंसी के एक सूत्र ने कहा ‘एनआईए द्वारा जांच की जा रही है और इस मामले के संबंध में कुर्की भी की जा रही है. गहन जांच के बाद हम मनी ट्रेल को स्थापित करने में सक्षम हुए हैं, जिसमें पैसा कहाँ से आया और इन संपत्तियों को खरीदने के लिए कैसे निवेश किया गया था. इसलिए हम अपराध के खिलाफ कार्यवाही को स्थापित करने में सक्षम हैं, इन संपत्तियों में महलनुमा बंगले, विला और हाई-एंड अपार्टमेंट शामिल भी हैं.

विभिन्न नामों पर हैं 24 सम्पतियां

सूत्र के अनुसार एजेंसी की ऐसी 24 संपत्तियों पर नजर है जो कथित रूप से सईद के स्वामित्व में हैं. उन्होंने यह भी कहा ‘हमने पहचान की है और 24 से अधिक संपत्तियों की सूची बनाई है जो विभिन्न नामों में सईद के स्वामित्व में हैं और जिन्हें जल्द ही जब्त किया जाएगा. इन संपत्तियों को खरीदने का पैसा यूएई के माध्यम से भेजा गया था.

सूत्र ने कहा, ‘मनी ट्रेल की स्थापना करते हुए हमने पाया कि इन संपत्तियों को खरीदने का पैसा दुबई से आया था और फिर वटाली के माध्यम से विभिन्न नामों से निवेश किया गया था. हम और भी रिकॉर्ड स्थापित कर चुके हैं, जिसमें बैंक खाते भी शामिल हैं.


  • 3
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here