हाथरस के नौजुरपुर गांव में घटनास्थल पर मौजूद यूपी पुलिस | विशेष प्रबंध
Text Size:

लखनऊ : हाथरस एक बार फिर खबरों में है. अपने पिता की हत्या के इंसाफ की मांग करते हुए एक लड़की का वीडियो वायरल हुआ है. आरोपी गौरव शर्मा जो कि जमानत पर जेल से छूटकर बाहर आया था, जिस पर लड़की के साथ यौन उत्पीड़न का आरोप है. उसने उसके पिता को मामला वापस न लेने पर गोली मारकर हत्या कर दी है.

वहींं यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा है.

जबकि दिप्रिंट से बात करते हुए हाथरस की डीएसपी (सदर) रुचि गुप्ता ने कन्फर्म किया कि पुलिस ने ‘आरोपी गौरव और उसके दोस्त के खिलाफ मामला दर्ज किया है. पुलिस ने उनमें से एक गिरफ्तार भी कर लिया है. लेकिन मुख्य आरोपी अभी गिरफ्त से बाहर है. पुलिस उसकी तलाश कर रही है. उन्होंने कहा कि मामले में चार लोगों पर एफआईआर आईपीसी की विभिन्न धारारओं- 302 (हत्या), 147 (फसाद) 148 (दंगा और जानलेवा हथियार के साथ) और 506 (मौत को लेकर धमकी, दंगा करने) के तहत हाथरस के सासनी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है.’

लड़की के पिता अंबरीश शर्मा (50) ने आरोपी गौरव के खिलाफ 2008 में अपनी बेटी के साथ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया था और वह जेल भी गया था, लेकिन एक महीने बाद ही वह जमानत पर रिहा हो गया था.

अंबरीश की बेटी ने प्राथमिकी में आरोप लगाया कि वह अपने पिता अंबरीश के साथ आलू के खेत में थी, जब गौरव अपने एक साथी के साथ सफेद कार में आया और अंबरीश को उसके खिलाफ मामला वापस लेने को कहने लगा.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने आरोप लगाया, ‘इससे पहले कि मेरे पिता कुछ कह पाते, उसने उन पर गोलियां चला दीं. हम उन्हें लेकर अस्पताल गये, जहां उनकी मौत हो गई.’

वहीं, हाथरस के पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल ने कहा, ‘यह घटना सोमवार दोपहर हाथरस के नोजरपुर गांव के सासनी क्षेत्र में हुई, जब अंबरीश शर्मा (50) की बेटियां मंदिर गई थीं. आरोपी गौरव शर्मा की पत्नी और एक रिश्तेदार भी वहां मौजूद थीं. इन महिलाओं के बीच बहस हो गयी और तभी आरोपी गौरव तथा लड़कियों के पिता अंबरीश भी वहां पहुंच गए.’

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गौरव और अंबरीश के बीच भी बहस हो गयी, जिसके बाद गौरव ने अपने कुछ रिश्तेदारों को बुला लिया और फिर अंबरीश को गोली मार दी.

उन्होंने बताया कि अंबरीश की बेटी की शिकायत के आधार पर भादंवि की धारा 302 (हत्या) तथा संबंधित धाराओं के तहत गौरव शर्मा, ललित शर्मा, रहितेश शर्मा, निखिल शर्मा और दो अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. इनमें से ललित को गिरफ्तार कर लिया गया है.

घटना का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए हैं और आरोपियों के खिलाफ रासुका लगाने का भी निर्देश दिया है.

वहीं यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने रोत-बिलखती लड़की वीडियो शेयर करते हुए हाथरस में एक और बेटी के पिता के न्याय मांगने पर हत्या करार देते हुए भाजपा सरकार को निशाने पर लिया है.

(दिप्रिंट के प्रशांत श्रीवास्तव और भाषा के इनपुट्स के साथ)

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here