प्रतीकात्म तस्वीर/ भारतीय शादी/ Pexels
Text Size:

नई दिल्ली: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मंगलवार को अपने फैसले में कहा कि विशेष विवाह अधिनियम 1954 के अंतर्गत अब शादी करने वाले जोड़े यह तय कर सकते हैं कि वो 30 दिन वाले नोटिस को प्रकाशित करावाएंगे या नहीं, जो कानून के तहत निर्धारित है.

जस्टिस विवेक चौधरी ने पाया कि अगर नोटिस छपवाने का प्रावधान बरकरार रहता है तो ये ‘मौलिक अधिकारों और निजता के अधिकार में हस्तक्षेप होगा’.

1954 का अधिनियम अंतर-जातीय और अंतर-धार्मिक विवाह से संबंधित है, और लोगों को अपने धर्म को त्यागने के बिना शादी करने की अनुमति देता है.

न्यायमूर्ति चौधरी ने हालांकि, विवाह अधिकारी को किसी भी विवाह की पुष्टि करने के लिए जोड़े की पहचान, उम्र और वैध सहमति को सत्यापित करने के लिए रास्ता खुला रखा है.

अदालत अभिषेक कुमार पांडे द्वारा दायर एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उसकी पत्नी के पिता ने उसे उसके साथ रहने से रोक दिया है. उनकी पत्नी ने पांडे से शादी करने के लिए इस्लाम धर्म से हिंदू धर्म अपना लिया था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

जब महिला और उसके पिता ने शादी को स्वीकार करने के बाद मामला सुलझा लिया था, दंपति ने अदालत को सूचित किया कि 30-दिन की नोटिस अवधि के कारण उनकी निजता का अतिक्रमण हो रहा है और इससे उनकी शादी के संबंध में ‘उनके सामाजिक चयन में अनावश्यक सामाजिक दबाव/ हस्तक्षेप’ पैदा होगा.

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा है कि भारत में विवाह व्यक्तिगत कानूनों के तहत किए जा सकते हैं, जिसमें किसी विवाह के खिलाफ किसी नोटिस या आपत्ति के प्रकाशन की आवश्यकता नहीं होती है.

अदालत ने कहा, ‘बदली हुई सामाजिक परिस्थितियों और कानूनों में प्रगति के मद्देनज़र… यह वर्तमान पीढ़ी को मजबूर करने के लिए क्रूर और अनैतिक होगा… अपनी सामाजिक आवश्यकताओं और परिस्थितियों के लिए लगभग 150 साल पहले रहने वाली पीढ़ी द्वारा अपनाई गई रीति-रिवाजों और परंपराओं का पालन करना, जो मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है.’

(अपूर्वा मंधानी के इनपुट के साथ)


यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने 48,000 करोड़ रुपये की लागत से 83 तेजस विमान खरीदने की मंजूरी दी


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here