Saturday, 25 June, 2022
होमदेशओडिशा के क्योंझर जिले में रामनवमी रैली को लेकर झड़प, इंटरनेट सेवाएं निलंबित

ओडिशा के क्योंझर जिले में रामनवमी रैली को लेकर झड़प, इंटरनेट सेवाएं निलंबित

कानून व्यवस्था को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस की 17 प्लाटून तैनात की गई है. हर प्लाटून में 30 कर्मी होते हैं.

Text Size:

क्योंझर: मंगलवार को ओडिशा के क्योंझर जिले में एक दिन पहले राम नवमी की रैली को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प के बाद इंटरनेट सेवाएं सस्पेंड कर दी गईं हैं.

खबरों के मुताबिक रामनवमी के मौके पर अखाड़ा जुलूस निकालने वाले एक ग्रुप ने मंदिर में धार्मिक झंडे ले जाने की इजाजत मांगी थी. पहले तो पुलिस ने अनुमति देने से मना कर दिया था फिर बाद में पांच लोगों को इसकी इजाजत दे दी जिसके बाद झड़प हो गई.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन ने जोड़ा शहर में निषेधाज्ञा अगले 24 घंटे के लिए बढ़ा दी है जहां दो समुदायों के बीच संघर्ष हुआ था.

जिले के अधिकारी ने बताया, ‘झड़प के मद्देनजर पहले सोमवार को मंगलवार सुबह दस बजे तक के लिए अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई गई. उसे बाद में लोगों के जमावड़े से निपटने के लिए अगले 24 घंटे के लिए बढ़ा दिया गया. इस बीच, अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं.’

निषेधाज्ञा बढ़ाए जाने के कारण सभी बैंकों में कामकाज और खनिजों की ढुलाई थम गई और सड़कों पर ट्रकों की लंबी कतारें लग गईं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अधिकारी ने बताया कि क्योंझर के पुलिस अधीक्षक समेत वरिष्ठ अधिकारियों ने सुबह दोनों समुदायों के साथ शांति कायम करने के प्रयास के तहत बैठक की.

कानून व्यवस्था को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस की 17 प्लाटून तैनात की गई है. हर प्लाटून में 30 कर्मी होते हैं.

शहर में सोमवार को स्थानीय पुलिस से अनुमति नहीं मिलने के बाद भी कुछ लोगों ने रामनवमी का जुलूस निकाला था. बीच में उसे अन्य समुदाय के लोगों ने रोक दिया जिसके बाद दोनों के बीच झड़प हुई और आठ लोग घायल हो गए. इस संघर्ष में कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गई.


यह भी पढ़ें : शिवसेना दफ्तर के बाहर लगे पोस्टर में MNS का दावा, बालासाहेब के ‘सच्चे वारिस’ हैं राज ठाकरे


share & View comments