Boeing-737-Max
बोईंग 737-मैक्स/ब्लूमबर्ग
Text Size:
  • 24
    Shares

नई दिल्ली: भारतीय विमानन निगरानी डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सभी बोइंग 737 मैक्स 8 विमानों को बुधवार शाम 4 बजे तक भारत में उतार लिया जाएगा. भारत ने यह निर्णय इथोपियन एयरलाइंस के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद से देश में उड़ान भर रही सभी बोइंग 737 मैक्स 8 विमान को प्रतिबंधित कर दिया है. विश्व के कई देशों ने भी यह कदम उठाया है. रविवार को इथोपियन एयरलाइंस के विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ जिसमें 157 लोगों की मौत हो गई थी जिसमें चार भारतीय भी शामिल थे.

डीजीसीए ने अपने बयान में कहा है कि सभी बोइंग 737 मैक्स विमानों को बुधवार शाम चार बजे तक उतार लिया जाएगा. इस प्रतिबंध का सीधा असर दूसरी फ्लाइट पर भी पड़ने की संभावना है. स्पाइस जेट के पास करीब 12 ऐसे विमान हैं, जबकि जेट एयरवेज के पास ऐसे पांच विमान हैं. जिनकी उड़ानों पर पहले से ही रोक लगा दी गई है.

स्पाइसजेट ने बयान जारी कर कहा कि डीजीसीए के आदेश के तुरंत अपने 12-13 बी737 मैक्स विमानों की उड़ान पर रोक लगा दी है.

बता दें कि अबी तक करीब 13 देशों ने बोइंग 737 मैक्स 8 विमानों पर रोक लगा चुके हैं. वहीं खबर यह भी है कि कुछ ने अपने एयरस्पेस में इन विमानों के उड़ान पर प्रतिबंध लगा दिया है. डीजीसीए ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि बोइंग 737-मैक्स विमानों के उड़ान भरने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया गया है. अब ये विमान तब तक उड़ान नहीं भरेंगे, जब तक सुरक्षा उपाय नहीं कर लिए जाते.

वहीं अमेरिका के संघीय विमानन प्रशासन (एफएए) ने कहा है कि बोइंग 737 मैक्स विमानों का परिचालन रोकने का कोई आधार नहीं है. हाल ही में इस श्रृंखला के दो विमानों के दुर्घटनाग्रस्तहोने के बावजूद एफएए का यह बयान सामने आया है.

बयान के अनुसार, ‘अब तक की हमारी समीक्षा के दौरान कोई प्रणालीगत खामी और विमान को संचालन से बाहर करने का आदेश देने का कोई आधार नहीं दिखता है और न ही अन्य नागरिक उड्डयन अधिकारियों ने हमें कोई ऐसा डेटा प्रदान किया है जिसके आधार पर कार्रवाई की जरूरत हो.’

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, यह बयान पांच महीने की अवधि में दो बोइंग 737 मैक्स 8 विमानों के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद बढ़ी सुरक्षा चिंताओं के बीच आया है.

अदीस अबाबा से नैरोबी जा रहा इथोपियन एयरलाइंस का विमान रविवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें सवार सभी 157 लोग मारे गए. वहीं, पिछले साल अक्टूबर में इंडोनेशिया में लॉयन एयर का विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था जिसमें विमान में सवार सभी 189 लोगों की मौत हुई थी.

कई देशों की एयरलाइंस इस मॉडल के संचालन को रोक रही हैं जबकि अमेरिकी सांसद, विशेषज्ञ और उद्योग संघ अमेरिका में इसकी सेवा रोकने के लिए कह रहे हैं.

(आईएएनएस के इनपुट्स के साथ)


  • 24
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here