scorecardresearch
Sunday, 26 November, 2023
होमदेशपूरी तरह पेपरलेस होगा दिल्ली AIIMS, डिजिटल पेमेंट के लिए पेश किया स्मार्ट कार्ड

पूरी तरह पेपरलेस होगा दिल्ली AIIMS, डिजिटल पेमेंट के लिए पेश किया स्मार्ट कार्ड

एम्स नई दिल्ली ने एक बयान में कहा कि मरीजों के लिए सभी काउंटरों पर स्मार्ट कार्ड पेश किया गया है और 1 अप्रैल, 2023 से यूपीआई और कार्ड भुगतान के अलावा सभी भुगतान पूरी तरह से डिजिटल हो जाएंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: डिजिटल इंडिया पहल को बढ़ावा देने के लिए, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली अप्रैल 2023 से सभी काउंटरों पर सभी डिजिटल भुगतान शुरू करने जा रहा है. संस्थान ने ने एक बयान में यह कहा है.

एम्स नई दिल्ली ने एक बयान में कहा कि मरीजों के लिए सभी काउंटरों पर स्मार्ट कार्ड पेश किया गया है और 1 अप्रैल, 2023 से यूपीआई और कार्ड भुगतान के अलावा सभी भुगतान पूरी तरह से डिजिटल हो जाएंगे. इसके अलावा एम्स दिल्ली ने डॉक्टरों और मरीजों की सुविधा के लिए ई-प्रिस्क्रिप्शन सिस्टम भी शुरू किया है.

एम्स, दिल्ली के नई ओपीडी प्रभारी डॉ विकास ने कहा, ‘हमने अपने ईएचएस सिस्टम के लिए ई-प्रिस्क्रिप्शन की एक व्यवस्था शुरू की है. यह पूरी तरह पेपरलेस है. जब कोई मरीज डॉक्टर के पास आता है, तो डॉक्टर सिस्टम पर लिख सकता है और ऑटोमेटिकली डिटेल्स फार्मासिस्ट के पास चली जाएगी, ताकि वह इसे तैयार रख सके. और आने पर ईएचएस लाभार्थी को इसे दिया जा सकेगा. इसलिए, मूलरूप से, हम सुविधा को आसान बनाने और बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं.’

एएनआई से एम्स, दिल्ली के निदेशक डॉ एम श्रीनिवास ने संस्थान की भविष्य की योजनाओं पर कहा, ‘हम रोगी को सीखने, बताने, रिसर्च, सुशासन और प्रशासन को बढ़ाने जैसे सभी डोमेन में काम करेंगे. हमारा ध्यान रोगी के देखभाल पर है, समन्वय प्रणाली पर है. डैशबोर्ड आपातकालीन बिस्तरों और भरे हुए बिस्तरों की उपलब्धता शो करेगा. सीटी स्कैन एमआरआई 24X7 भी चलती है और ऑपरेशन डेटा डैशबोर्ड भी कुछ दिनों में शुरू हो जाएगा और पारदर्शिता भी होगी.’

डॉ श्रीनिवास ने कहा, ‘हम समय, दक्षता और पारदर्शिता की रक्षा के लिए एम्स ई-हॉस्पिटल को पूरी तरह से पेपरलेस बना रहे हैं.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एम्स, नई दिल्ली ने अपने बयान में यह भी बताया कि सुचारू आवागमन की सुविधा के लिए मरीजों और डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स जैसे कर्मचारियों के लिए बैटरी से चलने वाली बस सेवाएं भी शुरू की गई हैं.


यह भी पढ़ें: COP27: विकासशील देश बोले- क्लाइमेट लॉस और डैमेज फंड पर EU के प्रस्ताव में ‘नैतिक प्रतिबद्धता की कमी’


 

share & View comments