Saturday, 2 July, 2022
होमदेश2 दिन में 160 FIRs दर्ज, 97 गिरफ्तारियां, चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर दिल्ली पुलिस की कार्रवाई

2 दिन में 160 FIRs दर्ज, 97 गिरफ्तारियां, चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर दिल्ली पुलिस की कार्रवाई

ऑपरेशन ‘मासूम’ कही जाने वाली ये कार्रवाई, राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड्स ब्यूरो से मिली जानकारी पर आधारित है जिसका ऐसी सामग्री के मामले में एक अमेरिकी ग़ैर-मुनाफा संस्था के साथ क़रार है.

Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने पिछले दो दिन में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई करते हुए 97 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस कार्रवाई को ‘मासूम’ नाम दिया गया है. यह एक उर्दू शब्द है जिसका अर्थ होता है ‘बेगुनाह’ और यह ‘मिटिगेशन ऑफ एडोलिसेंट सेक्सुअली ऑफेंसिव ऑनलाइन मटीरियल’ का लघु रूप भी है.

दिप्रिंट को पता चला है कि बुधवार को ऑपरेशन लॉन्च किए जाने के बाद से राष्ट्रीय राजधानी के अलग अलग पुलिस थानों में 160 मुक़दमे दर्ज किए गए हैं.

डीसीपी आईएफएसओ केपीएस मल्होत्रा ने कहा, ‘ये कार्रवाई पूरी दिल्ली में की जा रही है जिसका संचालन इंटेलिजेंस फ्यूज़न एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) कर रही है. ऑपरेशन मासूम का कोर्डिनेशन स्पेशल सेल की आईएफएसओ यूनिट ने किया जिसमें सभी ज़िलों ने उसे प्रवर्तन सफलता बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. राष्ट्रीय राजधानी के तमाम पुलिस थानों में मुक़दमे दर्ज किए गए हैं’.

पुलिस के अनुसार चाइल्ड पोर्नोग्राफी सामग्री से जुड़े मामलों में उल्लंघनों का विवरण, आईएफएसओ को राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी) से प्राप्त होता है.


यह भी पढ़ें: पिछले साल हर दो मिनट में एक बच्चा HIV से संक्रमित और 5 मिनट में एक बच्चे की मौतः UNICEF


US संस्था भेजती है भारत को आंकड़े

एनसीआरबी ने एक अमेरिका स्थित नेशनल सेंटर फॉर मिसिंग एंड एक्सप्लॉयटेड चिल्ड्रन (एनसीएमईसी) से क़रार किया हुआ है जो एक निजी और ग़ैर-मुनाफा संस्था है जिसे अमेरिकी कांग्रेस ने 1984 में स्थापित किया था. एनसीएमईसी ने फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे मीडिया प्लेटफॉर्म्स के साथ समझौता किया हुआ है जिसके तहत वो उनकी सामग्री को छानती है और जब भी कोई उल्लंघन होता है तो उसे संबंधित अथॉरिटीज़ के संज्ञान में लाती है. एनसीएमईसी ऐसे यूज़र्स का आईपी पता भी खोजती है जो इस तरह की सामग्री अपलोड करते हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एनसीएमईसी भारत में बच्चों के खिलाफ आपत्तिजनक यौन सामग्री के बारे में जानकारी और साइबरटिपलाइन शिकायतें, एनसीआरबी को मुहैया कराती है. साइबर टिपलाइन एक अमेरिकी पहल है जो बच्चों के ऑनलाइन यौन शोषण पर निगाह रखती है.

एनसीएमईसी की ओर से ये शिकायतें ऐसी आपत्तिजनक यौन सामग्री अपलोड करने वाले व्यक्ति के विवरण के साथ एनसीआरबी को भेज दी जाती हैं जो उन्हें फिर राज्य की नोडल एजेंसियों के साथ साझा करती हैं.

चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर कार्रवाई के लिए दिल्ली पुलिस की आईएफएसओ शहर की नोडल एजेंसी है.

डीसीपी मल्होत्रा ने कहा, ‘आईएफएसओ यूनिट में एनसीआरबी से मिले विवरण का किसी संगठित रैकेट की पहचान के लिए विश्लेषण किया जाता है. आईएफएसओ यूनिट तमाम इनपुट्स का विश्लेषण करती है और संदिग्धों की पहचान करती है. उसके बाद आगे की क़ानूनी कार्रवाई के लिए उस सारी जानकारी को संबंधित अधिकारियों में फैला दिया जाता है’.

आईएफएसओ ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी के खिलाफ अभियान 2019 में शुरू किया था और उस समय भी उसे एनसीएमईसी और एनसीआरबी से जानकारियां हासिल हुई थीं.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: भारत में 33 लाख से अधिक बच्चे कुपोषित, इनमें से 17.7 लाख अत्यंत कुपोषित: सरकारी आंकड़े


 

share & View comments