Sunday, 26 June, 2022
होमदेशकेरल में बाढ़ से 11 लोगों की मौत, मृतक के परिवारों को 4 लाख का मुआवजा देगी राज्य सरकार

केरल में बाढ़ से 11 लोगों की मौत, मृतक के परिवारों को 4 लाख का मुआवजा देगी राज्य सरकार

भारी बारिश की वजह से आई बाढ़ और भूस्खलन में अब तक 11 लोगों की मौत हो गई है. राज्य सरकार ने मृतकों के परिवार को 4 लाख रुपए का मुआवज़ा देने का ऐलान किया है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन से केरल में 11 लोगों की मौत हो गई है. कोट्टायम, इडुक्की और पठानमथिट्टा के पहाड़ी इलाकों पर बाढ़ का ज्यादा असर देखने को मिल रहा है.

सेना, नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ), पुलिस और अग्निशमन बल के साथ ही स्थानीय लोगों ने रविवार सुबह कूट्टीकल और कोक्कायार पंचायत इलाकों में बचाव अभियान शुरू किया जहां शनिवार से भारी बारिश के साथ कई भूस्खलन होने की वजह से कई लोग लापता हैं.

उधर, रविवार को मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने देश के उत्तर पश्चिमी क्षेत्र में 19 अक्टूबर तक, पूर्वी क्षेत्र में 20 अक्टूबर और पूर्वोत्तर क्षेत्र में 18-21 अक्टूबर के दौरान भारी बारिश होने की संभावना जताई है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

आईएमडी ने केरल के 11 जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया. इनमें कोल्लम, तिरुवनंतपुरम, कोट्टायम, अलाप्पुझा, एर्नाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर समेत अन्य जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है.

वहीं, राजस्व मंत्री के. राजन ने भूस्खलन, बारिश और बाढ़ में मारे गए लोगों के परिवारों को तत्काल 4 लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा की है. उन्होंने बताया कि सरकारी एजेंसियां यह भी जांच कर रही हैं कि क्या मलबे में और लोग फंसे हुए हैं.


यह भी पढ़ें: भारत में अंतिम ब्रिटिश सेना प्रमुख रॉय बुचर कौन थे, जिनके ‘J&K पर गहन विचारों’ को गोपनीय रखा गया है


एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि कोट्टयम पहुंचे सेना के एक दल ने मलबे में लापता लोगों की तलाश के लिए अभियान शुरू कर दिया है. उन्होंने बताया, ‘स्थानीय सूत्रों के अनुसार कुछ लोग अब भी फंसे हुए हैं. अभी भारी बारिश का कोई अनुमान नहीं है. पैंगोड सैन्य स्टेशन की मद्रास रेजीमेंट ने कूट्टीकल से चार किलोमीटर दूर कवाली गांव में बचाव अभियान शुरू किया.’

कोच्चि में नौसेना का एक हेलीकॉप्टर राहत सामग्री के साथ पहले ही बारिश से प्रभावित इलाकों के लिए उड़ान भर चुका है. वायु सेना के दो एमआई-17 हेलीकॉप्टर पहुंच चुके हैं और एक हेलीकॉप्टर को तिरुवनंतपुरम में तैयार रखा गया है.

केरल के राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकारियों ने बताया कि उत्तर केरल-कर्नाटक के तटों पर पूर्वी मध्य अरब सागर से सटे दक्षिणपूर्व में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है और उन्होंने अगले 24 घंटों में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने और कुछ जगहों पर भारी बारिश का अनुमान जताया है.

मुख्यमंत्री पिनराय विजयन ने फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा कि आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत शिविर खोल दिए गए हैं. उन्होंने संबंधित प्राधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि शिविरों में कोविड-19 संबंधी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन किया जाए.

इस बीच, इडुक्की जिले के कोक्कायार में सात लापता लोगों की तलाश चल रही है. राजन ने बताया, ‘इलाके तक जाने वाली सड़कें तबाह हो गई हैं. बड़ी मुश्किलों से पंचायत अध्यक्ष और ग्राम अधिकारी रात में अपने आप वहां पहुंचे. कल रात ही सड़क संपर्क बहाल किया गया. तलाश चल रही है लेकिन अभी तक कोई मिला नहीं है.’

एनडीआरएफ के दलों ने सुबह पथानमथित्ता जिले में जलभराव वाले इलाकों में फंसे करीब 80 लोगों को बचाया. मौसम अधिकारियों ने बताया कि इडुक्की जिले के पीरमेड में शनिवार शाम साढ़े पांच बजे तक 24 सेंटीमीटर तक बारिश हुई.


यह भी पढ़ें: सर्दियों की दस्तक के साथ ही पाकिस्तान ने बदली LOC की रणनीति, लॉन्च पैड आतंकियों से भरे लेकिन संघर्ष विराम जारी


केंद्र से मदद

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि केंद्र भारी बारिश और बाढ़ से प्रभावित केरल के लोगों को हर संभव सहायता मुहैया कराएगा.

उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि सरकार ‘भारी बारिश और बाढ़ के मद्देनजर केरल के कुछ हिस्सों की स्थिति पर लगातार नजर रख रही है. केंद्र सरकार जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए हर संभव सहायता मुहैया कराएगी. एनडीआरएफ की टीम पहले ही बचाव अभियान में मदद के लिए भेजी जा चुकी है. सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं.’

एनडीआरएफ ने तलाश, बचाव और राहत अभियान के लिए राज्य में 11 टीमों को तैनात किया है.


यह भी पढ़ें: जनरल बिपिन रावत की रूस और अमेरिका यात्रा बताती है भारत की मिलिट्री डिप्लोमेसी में कुछ बदल रहा है


 

share & View comments