scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमदेशएक मृत, 3 घायल, एंबुलेंस मुस्तैद: मणिपुर के चूड़ाचांदपुर में एक और हिंसक रात

एक मृत, 3 घायल, एंबुलेंस मुस्तैद: मणिपुर के चूड़ाचांदपुर में एक और हिंसक रात

मणिपुर के चूड़ाचांदपुर में कुकी ग्रामीण पड़ोसी मैतेइ से लड़ रहे हैं, जातीय हिंसा में मारे गए लोगों के शवों को रखने के लिए जिला अस्पताल में जगह नहीं बची है.

Text Size:

चूड़ाचांदपुर: मणिपुर के एक गांव में कुछ मीटर की दूरी पर शनिवार को जैकब जमखोथांग तौथांग की जान लेने वाले दो छोटे छेद एक उनकी पीठ के निचले हिस्से में और दूसरा छाती के बीच में नज़र आ रहे थे. वे चूड़ाचांदपुर जिले में अपने टी. चवांगफाई गांव को जलने से बचाने के संघर्ष में सबसे आगे थे, जब गोली, सबसे अधिक संभावना कि एक स्नाइपर की थी, उनके शरीर के आर-पार हो गई, लेकिन तौथांग, एक कुकी, धान के खेत में खून से लथपथ पड़ा था, उसके साथी उसे तुरंत अस्पताल नहीं ले जा सके.

हर तरफ से गोलियां चल रही थीं और उनके देसी बम और एक बैरल शॉटगन का कोई मुकाबला नहीं था. अंधेरा होने के बाद ही वे उसे एंबुलेंस में खींच कर चूड़ाचांदपुर जिला अस्पताल ले जा सके, पर तब तक बहुत देर हो चुकी थी.

शनिवार रात 41-वर्षीय जैकब का शव जिस अस्पताल में लाया गया वहां, ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ज़म लियान मंग हत्ज़ाव ने कहा, “प्रवेश और निकास दोनों छेद जिससे गोली गुज़री, बहुत छोटे हैं. इससे पता चलता है कि गोली संभवत: नज़दीक से मारी गई है. हो सकता है कि गोली दिल में लगी हो और पीठ के आर-पार निकल गई हो.”

Kin of Jacob Zamkhothang Touthang mourning his death | Suraj Singh Bisht | ThePrint
चूड़ाचांदपुर में जैकब जमखोथांग तौथांग के निधन पर शोक मनाता परिवार | सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

पूरी रात लहूलुहान चलता रहा. बाद में तीन और एंबुलेंस आ गईं. प्रत्येक व्यक्ति को चूड़ाचांदपुर और बिष्णुपुर जिलों के बीच की सीमा से लगे इलाके से लाया जा रहा है, जो गोली लगने से घायल हो गये, जो कि तोरबुंग-क्वाकटा-कंगवई क्षेत्र में हिंसा का केंद्र है.

5 मई को चूड़ाचांदपुर में जातीय कुकी आदिवासियों द्वारा गैर-आदिवासी मैतेइ को अनुसूचित जनजाति (एसटी) का दर्जा दिए जाने की संभावना के खिलाफ आयोजित एक एकजुटता मार्च के बाद इस क्षेत्र में हिंसा भड़क उठी. मैतेइ और कूकी गांवों के नज़दीक होने के कारण, इस क्षेत्र ने हाल के दिनों में मणिपुर में कुछ सबसे हिंसक झड़पें देखी हैं.

मार्च में मणिपुर हाईकोर्ट ने एक फैसले में राज्य सरकार को राज्य की एसटी सूची में मैतेइ को शामिल करने पर विचार करने का निर्देश दिया था, जबकि फैसले के खिलाफ अपील दायर की गई है, सुप्रीम कोर्ट ने फैसले को “तथ्यात्मक रूप से गलत” करार दिया है.


यह भी पढ़ेंः MOS से मिलने के लिए दो घंटे रुकने के बाद कुकी नेताओं ने कहा, ‘हम अंतहीन इंतज़ार नहीं कर सकते’


‘हम पैदाइशी योद्धा हैं’

25 दिनों के लिए तोरबुंग-क्वाकटा-कंगवई क्षेत्र के कुकी गांव किले में बदल गए हैं. मैदानी इलाकों के निर्बाध दृश्य वाले स्पॉट अब चेक-पॉइंट में तब्दील हो गए हैं. पुरुष बारी-बारी से सैंडबैग के पीछे वॉकी-टॉकी और छुरे लेकर बैठते हैं और मैदानों से अपने गांवों की ओर फेंके गए बमों या गोलियों की तलाश करते हैं.

मैदानी इलाकों में इनमें से कई गांव मैतेइ लोगों के घर हैं.

रात में लैम्प पोस्ट बंद कर दिए जाते हैं और एंबुलेंस तैयार रहती है.

Some Kuki villagers stand guard Saturday | Suraj Singh Bisht | ThePrint
कुछ कुकी ग्रामीण शनिवार को पहरा देते हुए | सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

घरों के प्रवेश द्वार पर भरी हुई बंदूकें, माचिस और प्लास्टिक की बोतलों में भरा पेट्रोल तैयार रखा जाता है. रात की आड़ में बंदूकधारी झाड़ियों के पीछे पोजीशन ले लेते हैं और मैदानी इलाकों से चली गोलियों पर नज़र रखते हैं.

शुक्रवार की रात दिप्रिंट ने बताया कि कैसे ममंग लीकाई गांव में कम से कम दो मैतेइयों के घरों को जला दिया गया और कैसे चूड़ाचांदपुर-बिष्णुपुर सीमा पर लड़ाई में दो कुकी पुरुषों को गोली लगी. इसके बाद से मुठभेड़ तेज हो गई है.

जैसे ही लड़ाई की बात फैली, आसपास के इलाकों के नौजवान ट्रक भरकर मिट्टी के तेल की बोतलें, गुलेल, चाकू और बंदूकें लेकर संघर्ष स्थल की ओर बढ़ गए. चूड़ाचांदपुर को प्रभावित गांवों से जोड़ने वाली मिट्टी की सड़क उनका नया मार्ग है.

जैसे ही वे मरने के लिए तैयार हुए, भावनाओं का ज्वार उमड़ पड़ा. लड़ाई देख रहे कुकी समुदाय के एक पुरुष ने कहा, “हम जन्मजात योद्धा हैं. युद्ध हमारे खून में है. मैतेइ सोचते हैं कि वे हमें मिटा सकते हैं, लेकिन ताकत संख्या में नहीं, हमारे दिलों में है.”

लड़ाई वरिष्ठ केंद्रीय नेताओं और सेना के अधिकारियों के दौरे के साथ शुरू हुई. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की 29 मई से शुरू होने वाली तीन दिवसीय यात्रा से पहले, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री (MoS) नित्यानंद राय और राज्य के प्रभारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता संबित पात्रा ने शनिवार को आदिवासी नेताओं से मुलाकात की.

कानून व्यवस्था की समीक्षा के लिए शनिवार को सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे भी मणिपुर पहुंचे. उनके साथ पूर्वी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल राणा प्रताप कलिता भी दो दिवसीय दौरे पर थे.


यह भी पढ़ेंः मणिपुर की ताजा हिंसा के बाद बिष्णुपुर की महिलाओं ने सुरक्षा बलों का रास्ता रोका, बोलीं- मूक दर्शक है RAF


लमका अब चूड़ाचांदपुर नहीं है

चूड़ाचांदपुर से ठीक पहले बिष्णुपुर जिले के करीब आते ही इंफाल से सड़क बदल जाती है. सड़क के दोनों किनारों पर जले हुए घर हैं और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान पहरा दे रहे हैं.

एंग्लो-कुकी युद्ध मेहराब के तल पर उत्कीर्ण पत्थर, जहां सोलिडेरिटी मार्च के दिन जले हुए टायर रखे गए थे, अभी भी जले हुए हैं.

चूड़ाचांदपुर के प्रवेश द्वार पर, महिला स्वयंसेवक लकड़ी की बेंचों के साथ सड़क को अवरुद्ध कर रही हैं और सभी वाहनों को यह देखने के लिए रोक देती हैं कि कौन उधर से गुज़र रहा है.

चूड़ाचांदपुर का नाम मैतेइ राजा चूड़ाचंद के नाम पर रखा गया है. चूंकि जिले में कुकियों का वर्चस्व है, इसलिए वे मैतेइ से सभी तरह के संबंधों को खत्म करना चाहते हैं. कस्बे के अंदर मणिपुर सरकार और मैतेइ के प्रति अविश्वास हर तरफ काले रंग से रंगा हुआ है.

Board of government office vandalised | Suraj Singh Bisht | ThePrint
सरकारी दफ्तर के बोर्ड में तोड़फोड़ | सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

“चूड़ाचांदपुर” और “मणिपुर सरकार” अस्पतालों, सरकारी कार्यालयों, दुकानों और सड़क के चिन्ह पर कालीख पोती गई है. दीवारों पर पोस्टर जलते हुए घरों के दृश्य दिखा रहे हैं और हर जगह “अलगाव: केवल समाधान” के बैनर चस्पा किए गए हैं.

चूड़ाचांदपुर मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन इस साल की शुरुआत में अमित शाह और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने किया था. शिलान्यास के पत्थर पर सिंह के नाम पर काला पेंट किया गया है.

चूड़ाचांदपुर के एक राहत कार्यकर्ता ने दिप्रिंट को बताया, “यह अब लमका है, चूड़ाचांदपुर नहीं. चुराचंद सिंह कभी हमारे राजा नहीं थे. मणिपुर सरकार ने हमें यही नाम दिया है, जिसे अब हम स्वीकार नहीं करते. यह हमारी सरकार नहीं है.”

Plaque outside Churachandpur Medical College vandalised | Suraj Singh Bisht | ThePrint
चूड़ाचांदपुर मेडिकल कॉलेज के बाहर लगे बोर्ड में तोड़फोड़ | सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

शहीद संख्या 64

इंटरनेट बंद होने और कर्फ्यू के बावजूद शहर के आसपास के गांवों के युवक और युवतियां चूड़ाचांदपुर जिला अस्पताल के अंदर खुले पार्किंग क्षेत्र में बड़ी संख्या में शनिवार रात इकट्ठा हुए, जब हिंसा की खबर फैल गई थी.

एक घायल व्यक्ति की जांघ के पास से एक गोली निकली थी और दो अन्य लोगों के लिए, यह उनकी हड्डियों और महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचाए बिना उनकी मांसपेशियों में घुस गई थी. हालांकि, तीनों बच गए.

कुछ स्वयंसेवकों ने बोतलों और बाल्टियों में पानी ढोया और खून से लथपथ स्ट्रेचर और एंबुलेंस को अपने हाथों से साफ किया. आगे की ओर लड़ रहे घायल पुरुषों के अगले सेट को लाने के लिए वाहनों को भेजने से पहले कीटाणुरहित करने की आवश्यकता थी.

देर शाम तक फायरिंग जारी रहने के कारण ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर देर शाम तक मुस्तैद रहे.

इस बीच अस्पताल के आपातकालीन कक्ष में लगे सफेद बोर्ड ने दिखाया कि लड़ाई के परिणामस्वरूप यहां हताहतों की संख्या 21 हो गई थी. डॉक्टरों ने दिप्रिंट को बताया कि इनमें से चार शव मैतेइ लड़ाकों के थे.

डॉ हत्ज़ाव ने कहा, “21 में से कम से कम 10 की मौत उनकी छाती में बंदूक की गोली के घाव से हुई है…मेरी आंखों के सामने.”

जैसे-जैसे मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है, अस्पताल के मुर्दाघर इतने सारे शवों को रखने के लिए सुसज्जित नहीं हैं. इसके 12 डिब्बे भरे हुए हैं इसलिए बगल के मेडिकल कॉलेज के शरीर रचना कक्ष का इस्तेमाल और शवों को रखने के लिए किया जा रहा है. तौथांग के शरीर को इस कमरे में ले जाया गया, जिसमें बदबू को छिपाने के लिए एक एयर कंडीशनर और कपूर जल रहा है.

उनके परिवार को अंदर ले जाने के कुछ सेकंड बाद, उनके विलाप से मेडिकल कॉलेज का गलियारा भर गया.

एक साथी ग्रामीण जॉर्ज खौगसाई ने कहा, “याकूब धान के खेत में शरण ले रहा था,एक हाथ में बम तैयार कर रहा था जब एक गोली उसे लगी. मुझे पता ही नहीं चला कि उसे गोली मार दी गई है. मैं उसके साथ था और उसे आगे बढ़ने के लिए पुकारता रहा, लेकिन जब मैं मुड़ा, तो मैंने उसे खून से लथपथ देखा.”

तौथांग अपने पीछे एक पत्नी और 10, 6, 3 साल के चार बच्चे और सबसे छोटा दो महीने का बच्चा छोड़ गया है. कुकियों के लिए वे शहीद संख्या 64 है.

(संपादनः फाल्गुनी शर्मा)

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ेंः ‘सुरक्षा बलों ने अभी तक 30 आतंकवादियों को मार गिराया’ – मणिपुर के CM ने की शांति बनाए रखने की अपील


 

share & View comments