Monday, 8 August, 2022
होमहेल्थपिछले 24 घंटों में कोरोना के 11 हजार से ज्यादा मामले, एक्टिव मरीज 92 हजार के पार

पिछले 24 घंटों में कोरोना के 11 हजार से ज्यादा मामले, एक्टिव मरीज 92 हजार के पार

आंकड़ों के मुताबिक, दैनिक संक्रमण दर 2.59 प्रतिशत, जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 3.25 प्रतिशत आंकी गई है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारत में एक दिन में कोविड-19 के 11,739 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना वायरस से अब तक संक्रमित हो चुके मरीज़ों की संख्या बढ़कर 4,33,89,973 पर पहुंच गई. वहीं, उपचाराधीन मामलों की संख्या बढ़कर 92,576 हो गई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार सुबह आठ बजे जारी अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, भारत में बीते 24 घंटे में संक्रमण से 25 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 5,24,999 हो गई.

मंत्रालय ने बताया कि देश में कोविड-19 के उपचाराधीन मामलों की संख्या बढ़कर 92,576 हो गई है, जो कुल मामलों का 0.21 प्रतिशत है. वहीं, मरीज़ों के संक्रमण से उबरने की राष्ट्रीय दर 98.58 प्रतिशत है.

पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 797 की बढ़ोतरी हुई है.

अद्यतन आंकड़ों के मुताबिक, दैनिक संक्रमण दर 2.59 प्रतिशत, जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 3.25 प्रतिशत आंकी गई है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

आंकड़ों के अनुसार, देश में अब तक कुल 4,27,72,398 मरीज़ संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और कोविड-19 से मृत्यु दर 1.21 प्रतिशत है.

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक कोविड-19 रोधी टीकों की 197.08 करोड़ खुराक दी जा चुकी हैं.

गौरतलब है कि देश में सात अगस्त 2020 को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त 2020 को 30 लाख और पांच सितंबर 2020 को 40 लाख से अधिक हो गई थी. संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर 2020 को 50 लाख, 28 सितंबर 2020 को 60 लाख, 11 अक्टूबर 2020 को 70 लाख, 29 अक्टूबर 2020 को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख और देश में 19 दिसंबर 2020 को ये मामले एक करोड़ से अधिक हो गए थे.

देश में पिछले साल चार मई को संक्रमितों की संख्या दो करोड़ और 23 जून 2021 को तीन करोड़ के पार पहुंच गई थी. इस साल 25 जनवरी को मामले चार करोड़ के पार हो गए थे.


यह भी पढ़ें: किताबें लिखने में IFS अफसरों ने IAS अफसरों से बाजी मारी


share & View comments