प्रतीकात्मक तस्वीर/ब्लूमबर्ग
Text Size:

नई दिल्ली: बच्चों को कोविड वैक्सीन लगाने का रास्ता साफ होता दिख रहा है. अब 2 से 18 साल के बच्चों को कोरोना वैक्सीन लग सकेगी. मंगलवार को वैक्सीन से जुड़े एक्सपर्ट पैनल ने आपातकाल में भारत बायोटेक की कोवैक्सीन लगाने की सिफारिश की है.

बता दें कि पिछले कई महीनों से बच्चों को कोविड वैक्सीन देने के लिए ट्रायल चल रहे थे. अभी तक बच्चों पर ट्रायल के दौरान उन्हें किसी तरह का नुकसान पहुंचने की खबर नहीं है. कोविड से लड़ने में कोवैक्सीन 78 प्रतिशत असरदार है. भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने मिलकर कोवैक्सीन बनाई है. भारत बायोटेक का हेडक्वार्टर हैदराबाद में है.


यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में सहयोगी लेकिन दादरा और नगर हवेली उपचुनाव में आमने सामने हैं कांग्रेस और शिवसेना


एक्सपर्ट की सिफारिशों की बाद अब ड्रग रेगुलेटर वैक्सीन को लेकर अंतिम फैसला लेगा.

एक्सपर्ट कमेटी वैक्सीन ट्रायल के परिणामों का वैज्ञानिक परीक्षण करती है और देश विदेश के कायदे कानूनों के मुताबिक सिफारिश करती हैं.

कोविड-19 संबंधी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने आंकड़ों की समीक्षा की और ईयूए के आवेदन पर सोमवार को विचार-विमर्श किया था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एसईसी ने अपनी सिफारिशों में कहा, ‘समिति ने विस्तार से विचार-विमर्श करने के बाद कुछ शर्तों के साथ आपात स्थितियों में दो साल से 18 साल तक के आयुवर्ग में टीके के सीमित इस्तेमाल के लिए बाजार में इसका वितरण करने की मंजूरी देने की सिफारिश की है.’

कंपनी ने आपात स्थिति में दो साल से 18 साल तक के आयुवर्ग में सीमित इस्तेमाल के लिए अपने ‘होल विरिअन, इनएक्टिवेटिट कोरोना वायरस टीके’ (बीबीवी152) के बाजार में डिस्ट्रब्यूशन की मंजूरी के मकसद से प्रस्ताव भेजा था. इसके साथ कंपनी ने रोग प्रतिराधी क्षमता पैदा करने और अंतरिम सुरक्षा संबंधी दूसरे-तीसरे चरण के क्लीनिकल परीक्षण के आंकड़े भी पेश किए थे.


यह भी पढ़ें: दिल्लीवासी प्रदूषण को कम करने की जिम्मेदारी अब अपने हाथ में लें : अरविंद केजरीवाल


सूत्रों ने बताया कि समिति ने विस्तार से विचार-विमर्श करने के बाद कुछ शर्तों के साथ आपात स्थितियों में दो से 18 वर्ष तक के बच्चों और किशोरों में टीके के सीमित इस्तेमाल के लिए बाजार में इसके वितरण को मंजूरी देने की सिफारिश की है.

एक सूत्र ने बताया कि शर्तों के अनुसार, कंपनी को स्वीकृत क्लीनिकल परीक्षण प्रोटोकॉल के अनुसार अध्ययन जारी रखना होगा और ताजा जानकारी/पैकेज इंसर्ट (दवा और उसके उपयोग संबंधी जानकारी देने वाला दस्तावेज, जिसे दवा के साथ मुहैया कराया जाता है), उत्पाद विशेषताओं का सारांश (एसएमपीसी) और तथ्य पत्र मुहैया कराने होंगे.

इसके अलावा कंपनी को शुरुआती दो महीनों में पर्याप्त विश्लेषण के साथ एईएफआई (टीकाकरण के बाद प्रतिकूल घटनाओं) और एईएसआई (विशेष हित संबंधी प्रतिकूल घटनाओं) के आंकड़ों समेत सुरक्षा संबंधी आंकड़े हर 15 दिन में मुहैया कराने होंगे. इसके बाद उसे यह आंकड़े हर महीने और नई औषधि और नैदानिक परीक्षण नियम,2019 की जरूरत पड़ने पर उपलब्ध कराने होंगे.

खबरों के मुताबिक 2 से 18 साल के बच्चों को दो डोज़ में ही वैक्सीन लगाई जाएगी. यह भी कहा जा रहा है कि जिन बच्चों को अस्थमा जैसी बीमारी है उन्हें पहले वैक्सीन दी जा सकती है. दुनिया में बच्चों के लिए सबसे पहले अमेरिकी कंपनी फाइजर ने वैक्सीन बनाई थी जिसे फूड एंड ड्रग रेगुलेटर की तरफ से इजाजत मिलने के बाद इस्तेमाल भी किया जा रहा है.


यह भी पढ़ें: त्योहारों से पहले कम हो रहे हैं कोरोना संक्रमण के मामले, मरीजों के ठीक होने की दर 98% पहुंची


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS