scorecardresearch
Thursday, 13 June, 2024
होमचुनावकर्नाटक विधानसभा चुनावकर्नाटक के CM को लेकर सस्पेंस जारी: दिल्ली में AICC नेतृत्व से मुलाकात के बाद सिद्धारमैया ने साधी चुप्पी

कर्नाटक के CM को लेकर सस्पेंस जारी: दिल्ली में AICC नेतृत्व से मुलाकात के बाद सिद्धारमैया ने साधी चुप्पी

बीते 13 मई को आए कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम में कांग्रेस ने 224 सदस्यीय कर्नाटक विधानसभा में 135 सीटों पर जीत दर्ज की थी. चुनाव जीतने के बाद से ही कर्नाटक में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर सस्पेंस जारी है.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे सिद्धारमैया अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात के कुछ घंटे बाद सोमवार देर रात दिल्ली के लोधी होटल से रवाना हुए.

हालांकि, सिद्धारमैया चुप्पी साधे रहे और पत्रकारों कुछ भी बातचीत नहीं की. 

75 वर्षीय नेता एआईसीसी के शीर्ष नेताओं से मिलने के लिए सोमवार शाम स्पेशल प्लेन से राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे थे. अगले मुख्यमंत्री के बारे में पूछे जाने पर सिद्धारमैया ने कहा था, ‘इंतजार करते हैं और देखते हैं. मुझे कुछ नहीं पता.’

इस बीच, कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार के भाई डीके सुरेश भी दिल्ली पहुंचे और सोमवार शाम एआईसीसी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से उनके आवास पर मुलाकात की.

सुरेश ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘मैंने एआईसीसी प्रमुख से मुलाकात की है. जब भी मैं दिल्ली आता हूं, मैं उनसे मिलता हूं. उसी तरह आज भी मैं उनसे मिला. हमारे एआईसीसी महासचिव आपको अन्य मुद्दों के बारे में बताएंगे.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री को लेकर सस्पेंस सोमवार को भी जारी रहा क्योंकि एआईसीसी के शीर्ष नेतृत्व द्वारा डीके शिवकुमार और शीर्ष पद की दौड़ में आगे चल रहे दोनों नेताओं को चर्चा के लिए बुलाए जाने के बाद शिवकुमार ने स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों का हवाला देते हुए अपना दिल्ली दौरा रद्द कर दिया.

कर्नाटक के लिए कांग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने पहले ही पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है, जो अंतिम निर्णय पर पहुंचने के लिए यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी नेता राहुल गांधी से परामर्श करेंगे. इसकी जानकारी पार्टी सूत्रों ने सोमवार को दी थी. 

उन्होंने कहा था, ‘कर्नाटक के अगले मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा 24 घंटों में की जाएगी.’

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की थी.

सस्पेंस पर प्रतिक्रिया देते हुए, कर्नाटक के एआईसीसी प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा था कि पार्टी 6.5 करोड़ कर्नाटक के लोगों के साथ खड़ी रहेगी.

सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा था, ‘कांग्रेस पार्टी 6.5 करोड़ कन्नडिगों को किए गए वादे पर कायम रहेगी. पर्यवेक्षकों ने अपनी लिखित रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष को सौंप दी है. वह रिपोर्ट पर गौर करेंगे, राज्य के नेताओं और अन्य केंद्रीय नेताओं के साथ विचार-विमर्श करेंगे.’

वहीं कांग्रेस नेता एच के पाटिल ने कहा था, ‘मेरे विचार से यह (कर्नाटक के अगले मुख्यमंत्री का नाम) कल शाम तक तय हो जाएगा. हमारी प्रक्रिया अभी जारी है.’

कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डीके शिवकुमार, जो मुख्यमंत्री पद के भी दावेदार हैं, ने कहा कि उनके पेट में संक्रमण है इसलिए वह सोमवार को दिल्ली की यात्रा नहीं करेंगे.

डीके शिवकुमार ने आगे कहा था कि सभी विधायक एक साथ हैं और पार्टी आलाकमान इस पर फैसला लेगा.

उन्होंने कहा था, ‘पार्टी आलाकमान इस पर फैसला करेगा. मैं और कुछ भी टिप्पणी या बोलना नहीं चाहता. मुझे जो कुछ भी बोलना था, मैं पहले ही बोल चुका हूं.’

कर्नाटक में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) द्वारा नियुक्त तीन केंद्रीय पर्यवेक्षक राज्य के मुख्यमंत्री की नियुक्ति के सवाल पर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को अपनी रिपोर्ट पेश करने के लिए सोमवार को दिल्ली पहुंचे थे.

सुशील कुमार शिंदे, दीपक बावरिया और भंवर जितेंद्र सिंह को कर्नाटक में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता के चुनाव पर नवनिर्वाचित कांग्रेस विधायकों से बात करने और बाद में पार्टी के आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपने का काम सौंपा गया था.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक ने रविवार को सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर पार्टी अध्यक्ष खड़गे को कर्नाटक के मुख्यमंत्री का नाम चुनने के लिए अधिकृत किया.

13 मई को कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों में कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराकर जोरदार जीत दर्ज की थी. कांग्रेस ने 135 सीटों पर जीत हासिल की और बीजेपी को 66 सीटों पर धकेल दिया. 


यह भी पढ़ें: ‘डबल-मर्डर, ताराबाड़ी की हत्यारी पंचायत’: बिहार के इस गांव ने कैसे खड़ा किया संवैधानिक संकट


 

share & View comments