scorecardresearch
Tuesday, 27 February, 2024
होमचुनावतेलंगाना के CM के चंद्र शेखर राव और CM अशोक गहलोत ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा

तेलंगाना के CM के चंद्र शेखर राव और CM अशोक गहलोत ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में बीजेपी की सरकार बनती दिख रही है, तो वहीं, कांग्रेस पहली बार तेलंगाना में सत्ता पर काबिज़ होने जा रही है. पीएम मोदी ने किया, ‘जनता-जनार्दन को नमन!’. वहीं राहुल गांधी ने कहा, जनादेश स्वीकार, विचारधारा की लड़ाई रहेगी जारी.

Text Size:

नई दिल्ली: निर्वाचन आयोग के मुताबिक, राजस्थान की 199 विधानसभा सीटों में भाजपा 103 सीटें जीत चुकी है और 12 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 58 सीटें जीत चुकी है और 11 सीटों पर आगे चल रही है.

सीएम अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. करणपुर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी के निधन के कारण चुनाव स्थगित कर दिया गया. इन 199 सीटों पर 1862 उम्मीदवार मैदान में हैं.

वहीं, तेलंगाना में कांग्रेस बहुमत के आंकड़े के काफी करीब है. यहां विधानसभा की कुल 119 सीटें हैं, जिसमें से कांग्रेस 46 सीटें जीत चुकी है और 18 पर आगे चल रही है. भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) 22 सीटें जीत चुकी है और 17 पर आगे है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 6 जीती है और 2 पर आगे है.


यह भी पढ़ें: जनता के आगे ‘नतमस्तक’ हुए PM मोदी, बोले-इस हैट्रिक ने 2024 की जीत की हैट्रिक की गारंटी दे दी है


Live Updates:


07:54 PM: तेलंगाना के मुख्यमंत्री और बीआरएस पार्टी के अध्यक्ष के चंद्र शेखर राव ने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा.


07:03 PM: तीन राज्यों में जनादेश मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बीजेपी के मुख्यालय पहुंच गए हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


06:55 PM: सीएम अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र को अपना इस्तीफा सौंपा.

राजस्थान में बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है और तेलंगाना में कांग्रेस बहुमत के काफी करीब है.


05:33 PM: तीन राज्यों के स्पष्ट नतीजे सामने आने के साथ ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान का जनादेश हम विनम्रतापूर्वक स्वीकार करते हैं – विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी. तेलंगाना के लोगों को मेरा बहुत धन्यवाद – प्रजालु तेलंगाना बनाने का वादा हम ज़रूर पूरा करेंगे. सभी कार्यकर्ताओं को उनकी मेहनत और समर्थन के लिए दिल से शुक्रिया.’’


05:23 PM: राजस्थान में अभी तक भाजपा 72 सीटें जीत चुकी है और 43 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 40 सीटें जीत चुकी है और 29 सीटों पर आगे चल रही है. वहीं, तेलंगाना में कांग्रेस 22 सीटें जीत चुकी है और 41 पर आगे चल रही है. भारत राष्ट्र समिति 11 सीटें जीत चुकी है और 29 पर आगे है.


05:16 PM: राजस्थान में बीजेपी की बढ़त पर सीएम अशोक गहलोत ने कहा, ‘‘हमने कोई कसर नहीं छोड़ी और चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार थे. हमने सोचा था कि लोग हमारी मौजूदा योजनाओं के आधार पर हमें वोट देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ. हम इसका विश्लेषण करेंगे. हमने सोचा था कि लोग पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से बदला लेंगे, लेकिन मुझे लगता है कि जनता इसे समझ नहीं पाई.’’


05:10 PM: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी एक्स पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘उत्साहजनक समर्थन के लिए तेलंगाना के लोगों का आभार. पीएम नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा तेलंगाना के विकास की दिशा में काम करना जारी रखेगी. लोगों के समर्थन से हम निश्चित रूप से तेलंगाना को एक समृद्ध राज्य बनाएंगे. दिल से धन्यवाद. भाजपा के कार्यकर्ताओं और प्रदेश अध्यक्ष जी किशन रेड्डी जी को उनके अथक प्रयासों के लिए धन्यवाद.’’

शाह ने एक अन्य पोस्ट में कहा, ‘‘छत्तीसगढ़ के जनजातीय, गरीब और किसानबहनों-भाइयों ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी में अपना विश्वास जताकर भाजपा को प्रचंड बहुमत का आशीर्वाद दिया है. इस विशाल जीत के लिए छत्तीसगढ़ की जनता का आभार व्यक्त करता हूं. राज्य के हमारे सभी कार्यकर्ताओं, राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी एवं प्रदेश अध्यक्ष श्री अरुण साव जी को इस जीत की बधाई.’’


04:46 PM: तीन राज्यों के रुझान स्पष्ट हो जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर पोस्ट में कहा,

‘‘जनता-जनार्दन को नमन! मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के चुनाव परिणाम बता रहे हैं कि भारत की जनता का भरोसा सिर्फ और सिर्फ सुशासन और विकास की राजनीति में है, उनका भरोसा बीजेपी में है.’’

‘‘भाजपा पर अपना स्नेह, विश्वास और आशीर्वाद बरसाने के लिए मैं इन सभी राज्यों के परिवारजनों का, विशेषकर माताओं-बहनों-बेटियों का, हमारे युवा वोटर्स का हृदय से धन्यवाद करता हूं. मैं उन्हें भरोसा देता हूं कि आपके कल्याण के लिए हम निरंतर अथक परिश्रम करते रहेंगे. इस अवसर पर पार्टी के सभी परिश्रमी कार्यकर्ताओं का विशेष रूप से आभार! आप सभी ने अद्भभुत मिसाल पेश की है. भाजपा की विकास और गरीब कल्याण की नीतियों को आपने जिस तरह लोगों के बीच पहुंचाया, उसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए वो कम है. हम विकसित भारत के लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रहे हैं. हमें ना रुकना है, ना थकना है। हमें भारत को विजयी बनाना है. आज इस दिशा में हमने मिलकर एक सशक्त कदम उठाया है.’’


04:39 PM: अपनी हार को स्वीकार करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर एक पोस्ट में कहा, राजस्थान की जनता द्वारा दिए गए जनादेश को हम विनम्रतापूर्वक स्वीकार करते हैं. यह सभी के लिए एक अप्रत्याशित परिणाम है. यह हार दिखाती है कि हम अपनी योजनाओं, कानूनों और नवाचारों को जनता तक पहुंचाने में पूरी तरह कामयाब नहीं रहे.

मैं नई सरकार को शुभकामनाएं देता हूं. मेरी उनको सलाह है कि हम काम करने के बावजूद कामयाब नहीं हुए इसका मतलब ये नहीं कि वो सरकार में आने के बाद काम ही ना करें. OPS, चिरंजीवी सहित तमाम योजनाएं एवं जो विकास की रफ्तार इन पांच सालों में राजस्थान को हमने दी है वो इसे आगे बढ़ाएं.

मैं सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने इस चुनाव में पूरी मेहनत की एवं सभी मतदाताओं का आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने हमारे ऊपर विश्वास किया.


04:05 PM: विद्याधर नगर से भाजपा सांसद और उम्मीदवार दीया कुमारी ने 71,368 वोटों के अंतर से जीत हासिल की, उन्हें कुल 1,58,516 वोट मिले हैं.

अभी तक भाजपा 11 सीटें जीत चुकी है और 103 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस दो सीट जीत चुकी है और 68 सीटों पर आगे चल रही है.


03:44 PM: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रविवार शाम को यहां राज्यपाल कलराज मिश्र से म‍ुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंपेंगे. सूत्रों ने बताया कि गहलोत शाम साढ़े पांच बजे राज्यपाल से मुलाकात करेंगे.

राज्य में 199 सीटों के लिए हुए मतदान के वोटों की गिनती रविवार को हुई. भाजपा 11 सीटें जीत चुकी है और 103 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस दो सीट जीत चुकी है और 68 सीटों पर आगे चल रही है.


03:32 PM: निर्वाचन आयोग के आधिकारिक रुझानों के मुताबिक, बीजेपी राज्य की 199 में से 115 सीटों पर आगे चल रही है.


03:23 PM: राजस्थान की पूर्व सीएम और बीजेपी नेता वसुंधरा राजे झालरापाटन सीट से 53,193 वोटों के भारी-भरकम अंतर से जीती, कांग्रेस के रामलाल दूसरे नंबर पर रहे. राजे को कुल 1,38,831 वोट मिले.

चित्रण: दिप्रिंट
चित्रण: दिप्रिंट

02:43 PM: राजस्थान में पार्टी की बढ़त पर बीजेपी नेता वसुंधरा राजे सिंधिया ने कहा ये सबके प्रयास के मंत्र की जीत है.

उन्होंने कहा, ”यह जीत पीएम मोदी द्वारा दिए गए ‘सबका साथ, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ के मंत्र की जीत है. यह पीएम द्वारा दी गई गारंटी की जीत है. अमित शाह द्वारा दी गई रणनीति और नड्डा जी द्वारा प्रदान किए गए कुशल नेतृत्व की भी जीत है. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह हमारे पार्टी कार्यकर्ताओं की जीत है.”


02:17 PM: तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख रेवंत रेड्डी ने पार्टी नेताओं डीके शिवकुमार और अन्य लोगों के साथ हैदराबाद में राज्य चुनावों में पार्टी की बढ़त का जश्न मनाया.


02:10 PM: कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी ने कहा, “मैं समझ नहीं पा रही हूं. यह हमारे लिए झटका है. किसी को इसकी (तीन राज्यों में हार) जिम्मेदारी लेनी होगी. हमें आत्ममंथन करना होगा…”


01:58 PM: राजस्थान में कांग्रेस के प्रदर्शन पर प्रवक्ता आरसी चौधरी ने दिप्रिंट से कहा कि अंतिम नतीजों तक स्थिति बदल जाएगी.

उन्होंने कहा, ”यह सिर्फ रुझान है और हम नतीजों का इंतज़ार कर रहे हैं क्योंकि कई सीटों पर मार्जिन काफी कम है. गहलोत सरकार लोगों के हितों के लिए राजनीति कर रही है और हमें विश्वास है कि अंतिम नतीजे आने तक स्थिति बदल जाएगी.”


01:49 PM: राजस्थान में जयपुर से बीजेपी विधायक उम्मीदवार दीया कुमारी ने कहा, “इस जीत का श्रेय पीएम मोदी, अमित शाह जी, जेपी नड्डा जी, राज्य के नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं को जाता है. मोदी जी का जादू राजस्थान और एमपी और छत्तीसगढ़ में भी चला…हम राज्य में सुशासन और विकास सुनिश्चित करेंगे. राज्य में अब कानून-व्यवस्था देखी जाएगी. सीएम कौन होगा, इसका फैसला पार्टी का शीर्ष नेतृत्व करेगा.”


01:37 PM: राजस्थान की पूर्व सीएम और झालरापाटन से बीजेपी उम्मीदवार, वसुंधरा राजे 21वें राउंड की गिनती के बाद 51,484 वोटों से आगे चल रही हैं, उन्हें अब तक कुल 1,21,682 वोट मिले हैं.


01:26 PM: राजस्थान में विद्याधर नगर से बीजेपी सांसद और उम्मीदवार दीया कुमारी 17वें राउंड की गिनती के बाद 56,025 वोटों के अंतर से आगे चल रही हैं, उन्हें अब तक कुल 1,30,231 वोट मिले हैं.


12:53 PM:  तेलंगाना में कांग्रेस बहुमत के काफी करीब. पार्टी के अध्यक्ष रेवंत रेड्डी ने हैदराबाद में किया रोड शो.


12:40 PM: तेलंगाना के डीजीपी और अन्य शीर्ष पुलिस अधिकारी रेवंत रेड्डी के आवास पर उन्हें फूलों के गुलदस्ते भेंट कर रहे हैं.


12:32 PM: केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने राजस्थान के लोगों को किया धन्यवाद. बोले, “राजस्थान के लोगों ने बीजेपी को अपना आशीर्वाद दिया है. मैं उन्हें और हमारे कार्यकर्ताओं को उनकी कड़ी मेहनत के लिए धन्यवाद देता हूं.”


12:20 PM: राजस्थान में बीजेपी के प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा ने फोन पर दिप्रिंट से कहा, ”राज्य में बीजेपी की सरकार बनने जा रही है. जनता ने युवा विरोधी, महिला विरोधी सरकार को उखाड़ फेंका है और अंतिम नतीजों के साथ हम कांग्रेस को नेस्तनाबूद करने जा रहे हैं.”


11:59 AM: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरदारपुरा सीट से 15,823 वोटों से आगे चल रहे हैं.


11:54 AM: राजस्थान के लिए कांग्रेस पर्यवेक्षक बीएस हुड्डा, मुकुल वासनिक और शकील खान जयपुर पहुंचे.

रुझानों पर वासनिक ने कहा, “ये शुरुआती रुझान हैं. असल नतीजे सामने आने दीजिए.”


11:33 AM: शुरुआती रुझानों के अनुसार, राजस्थान में बीजेपी की बढ़त जारी कार्यकर्ताओं ने जयपुर में पार्टी कार्यालय में जश्न मनाना शुरू किया. चुनाव आयोग के आधिकारिक रुझानों के मुताबिक, बीजेपी- 115 और कांग्रेस- 67 सीटों पर आगे है.


11:30 AM: तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को जारी मतगणना के अब तक के रुझानों में कांग्रेस अपनी प्रतिद्वंद्वी भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) से बढ़त बनाए हुए है और मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव भी अपने विधानसभा क्षेत्र कामारेड्डी में कांग्रेस उम्मीदवार रेवंत रेड्डी से पीछे हैं.

निर्वाचन आयोग के मुताबिक, कांग्रेस की तेलंगाना इकाई के प्रमुख रेवंत रेड्डी कोडंगल और कामारेड्डी दोनों निर्वाचन क्षेत्रों में अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वियों से आगे हैं.

कांग्रेस 58, भारत राष्ट्र समिति 33, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सात और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) एक सीट पर आगे है.

दक्षिणी राज्य में सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को साधारण बहुमत हासिल करने के लिए कम से कम 60 सीट जीतनी होंगी.


11:20 AM: तेलंगाना: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी सांसद राहुल गांधी और राज्य पार्टी प्रमुख रेवंत रेड्डी के पोस्टर पर दूध चढ़ाया.

आधिकारिक रुझानों के अनुसार, पार्टी अब तक राज्य की कुल 119 सीटों में से 57 पर आगे चल रही है.


11:01 AM: राजस्थान: शुरुआती रुझानों में भाजपा 100, कांग्रेस 73 सीट पर आगे


10:56 AM: शुरुआती रुझानों में पार्टी को 47 सीटों पर बढ़त मिलने के बाद हैदराबाद में तेलंगाना कांग्रेस कार्यालय में जश्न का माहौल. पार्टी नेताओं ने नारा लगाया “अलविदा, अलविदा केसीआर”.


10:40 AM: पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट टोंक सीट पर अपने निकटतम प्रतिद्वंदी से 230 मतों से पीछे चल रहे हैं जबकि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा लक्ष्मणगढ़ सीट पर अपने निकटतम प्रतिद्वंदी से 198 मतों से पीछे चल रहे हैं.


10:25 AM: केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता गजेंद्र सिंह शेखावत का कहना है, “बीजेपी राजस्थान में भारी बहुमत से जीतेगी. जादूगर का जादू खत्म हो गया है. एमपी में बीजेपी दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाएगी. छत्तीसगढ़ में भी भाजपा की सरकार ही होगी.”


10:00 AM: चुनाव आयोग के मुताबिक शुरुआती दौर में बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया कांग्रेस के प्रशांत शर्मा से 2576 वोटों से पीछे चल रहे हैं.


09:30 AM: ईसीआई का कहना है कि संसद सदस्य दीया कुमारी विद्या नगर निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस के सीता राम अग्रवाल से 420 वोटों से आगे चल रही हैं.


09:00 AM: राजस्थान में बीजेपी 97 सीटों पर आगे, कांग्रेस 54 सीटों पर आगे चल रही है जबकि तेलंगाना में कांग्रेस 40 सीटों पर आगे चल रही है और सत्ताधारी बीआरएस 27 सीटों पर आगे चल रही है.


08:30 AM: राजस्थान में बीजेपी 23 सीटों पर आगे, जबकि कांग्रेस 16 सीटों पर आगे. तेलंगाना में सत्ताधारी बीआरएस 17 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 27 सीटों पर आगे चल रही है.


08:05 AM: राजस्थान और तेलंगाना के सभी मतगणना केंद्रों पर वोटों की गिनती शुरू, कांग्रेस नेताओं का दावा- दोनों राज्यों में जीत रही है कांग्रेस


07:55 AM: वोटों की गिनती पांच मिनट में होगी शुरू, दिप्रिंट द्वारा एग्जिट पोल के किए गए विश्लेषण से पता चलता है कि राजस्थान में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है जबकि तेलंगाना में कांग्रेस आ रही है.

Graphic by Manisha Yadav, ThePrint
चित्रण: सोहम सेन | दिप्रिंट
Graphic by Manisha Yadav, ThePrint
चित्रण: सोहम सेन | दिप्रिंट

बता दें कि राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस को उम्मीद है कि राज्‍य में हर चुनाव में सरकार बदलने का ‘रिवाज’ बदलेगा और मतदाता उसे फिर से सरकार बनाने का मौका देंगे. कांग्रेस की इस उम्मीद का बड़ा आधार अशोक गहलोत सरकार का कामकाज और जनकल्याणकारी योजनाएं हैं.

मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को लगता है कि राज्य का ‘रिवाज’ कायम रहेगा और राज यानी सरकार बदलेगी.

मुख्यमंत्री गहलोत ने शनिवार रात एक बार फिर भरोसा जताया कि राज्य में कांग्रेस पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी.

सुबह आठ बजे से शुरू हुई मतगणना के चलते केंद्रों पर कई व्यवस्थाएं की गई हैं. 199 विधानसभा क्षेत्रों की मतगणना 33 जिला मुख्यालयों के 36 केंद्रों पर 1,121 सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है. 30 निर्वाचन जिलों में एक-एक मतगणना केंद्र है जबकि जयपुर, नागौर और जोधपुर में दो मतगणना केंद्र बनाए गए हैं.

निर्वाचन आयोग ने वोटों की गिनती के लिए 2552 टेबल लगाए हैं. ईवीएम मतगणना के लिए कुल 4180 राउंड होंगे. सबसे अधिक 34 राउंड शिव विधानसभा क्षेत्र में तथा सबसे कम 14 राउंड अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में होंगे.

सबसे पहले पोस्टल बैलेट की मतगणना शुरू होगी. पोस्टल बैलेट की मतगणना के आधे घंटे बाद सुबह 8:30 बजे ईवीएम से मतगणना शुरू होगी.

निर्वाचन आयोग ने सुरक्षा की दृष्टि से मतगणना स्थल पर केंद्रीय पुलिस बलों की 40 कंपनियां और आरएसी की 36 कंपनियां भी तैनात की गई हैं. साथ ही सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए विभिन्न जगहों पर आरएएसी की कुल 99 कंपनियों को तैनात किया गया है.

बता दें कि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में राजस्थान के 200 विधानसभा सीटों में कांग्रेस ने कुल 100 सीटें जीती थी, जबकि बीजेपी ने 73 सीटों पर फतेह हासिल की थी. बाकी सीटें अन्य के खाते में गई थी.

तेलंगाना में केसीआर करेंगे राज या फिर कांग्रेस देगी टक्कर

साल 2018 में हुए तेलंगाना विधानसभा चुनाव में बीआरएस ने राज्य की 119 सीटों में से कुल 88 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस के खाते में सिर्फ 19 सीटें थीं. वहीं, भारतीय जनता पार्टी को सिर्फ एक सीट पर सफलता मिली थी, लेकिन इस बार स्थिति बिल्कुल अलग है और कांग्रेस तेलंगाना की सत्ता पर काबिज़ होती दिख रही है.

चार राज्यों में रविवार को होने वाले चुनाव नतीजों पर विपक्षी गठबंधन ‘इंडिया’ की करीबी नज़र है क्योंकि कांग्रेस के प्रदर्शन का असर विपक्षी गठबंधन के समीकरण पर पड़ने की संभावना है.

चुनावी नतीजों के बाद विपक्षी गठबंधन अब अगले साल के आम चुनावों में भाजपा से मुकाबला करने की तैयारियों में तेजी लाएगा.

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी), आम आदमी पार्टी (आप) और समाजवादी पार्टी सहित कुछ दल सीट-बंटवारे पर जल्द बातचीत करने के इच्छुक थे लेकिन कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के नतीजे आने तक विचार-विमर्श को टाल दिया था.


यह भी पढ़ें: मोदी सरकार पंजाब के किसानों के आंदोलन से लेकर पन्नू मामले तक को गलत तरीके से पेश कर रही है


 

share & View comments