scorecardresearch
Tuesday, 27 February, 2024
होमचुनावतेलंगाना विधानसभा चुनाव में BRS सत्ता बचाने, तो कांग्रेस, BJP कब्जाने की लड़ाई में- जानें अहम सीटों का हाल

तेलंगाना विधानसभा चुनाव में BRS सत्ता बचाने, तो कांग्रेस, BJP कब्जाने की लड़ाई में- जानें अहम सीटों का हाल

बीआरएस जहां तीसरी बार सत्ता पाने के लिए मैदान में है तो वहीं बीजेपी पहली बार सरकार बनाना चाहती है, जबकि कांग्रेस हाल में मिले उसे जनसमर्थन को जीत में बदलना चाहती है.

Text Size:

हैदरबाद (तेलंगाना) : आज तेलंगाना विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के बीच त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगा.

सभी 119 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान निर्धारित है.

मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की उपस्थिति से पहले के घंटों में, यहां उन प्रमुख निर्वाचन क्षेत्रों की एक झलक दी गई है जो राज्य के राजनीतिक परिदृश्य को आकार देंगे.

महत्वपूर्ण निर्वाचन क्षेत्रों की सूची में गजवेल, हुजूराबाद, कोरुटला, महेश्वरम, गोशामहल, महबूबनगर, एलबी नगर, वारंगल पूर्व और पश्चिम, भूपालपल्ली, खैरताबाद, अंबरपेट, बोथ, निर्मल, आदिलाबाद, रामागुंडम, पेद्दापल्ली, कोठागुडेम, आर्मूर, निज़ामाबाद शहरी, पाटनचेरु, सेरिलिंगमपल्ली, हुस्नाबाद, दुब्बाक, कलवाकुर्थी, और अन्य शामिल हैं.

निवर्तमान मुख्यमंत्री और बीआरएस के संस्थापक, के चंद्रशेखर राव या केसीआर, दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं: उनकी मूल सीट, गजवेल, और कामारेड्डी से. 2018 के चुनावों में, केसीआर ने गजवेल में 58,000 से अधिक वोटों से जीत हासिल की थी. इस बार उनका मुकाबला गजवेल में भाजपा नेता ईटेला राजेंदर और कामारेड्डी में कांग्रेस की राज्य इकाई के प्रमुख रेवंत रेड्डी से है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उनके बेटे और तेलंगाना के मंत्री के टी रामा राव सिरसिला सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, जिसे उन्होंने 2018 में 89,000 से अधिक मतों के महत्वपूर्ण अंतर से जीता था.

इटेला राजेंदर और रेवंत रेड्डी भी दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं, जिसमें हुजूराबाद में इटेला और कोडंगल से रेवंत रेड्डी लड़ रहे हैं.

कोरुतला पर सबसे अधिक ध्यान है, जहां भाजपा ने बीआरएस के कल्वाकुंतला संजय और कांग्रेस के नरसिंगा राव जुव्वाडी के खिलाफ लोकसभा सदस्य अरविंद धर्मपुरी को मैदान में उतारा है. महेश्वरम में, बीआरएस ने के लक्ष्मा रेड्डी (कांग्रेस) और एंडेला श्रीरामुलु यादव (भाजपा) के खिलाफ पटलोला सबिता इंद्रा रेड्डी को खड़ा किया है. गोशामहल में भाजपा के टी राजा सिंह महत्वपूर्ण चुनाव लड़ रहे हैं, जिनका निलंबन पिछले महीने रद्द कर दिया गया था.

भाजपा के टी राजा के कट्टर आलोचक और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन औवेसी के छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी चंद्रयानगुट्टा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं.

महबूबनगर में वी श्रीनिवास गौड़ (बीआरएस) को भाजपा के एपी मिथुन कुमार रेड्डी और कांग्रेस के येन्नम श्रीनिवास रेड्डी से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है. एलबी नगर में भाजपा के सामा रंगा रेड्डी का मुकाबला कांग्रेस के मधु यास्खी गौड़ और देवीरेड्डी सुधीर रेड्डी (बीआरएस) से है.

भूपालपल्ली सीट महत्व रखती है, जहां गांद्रा वेंकट रमण रेड्डी बीआरएस का प्रतिनिधित्व करते हैं, गांद्रा सत्यनारायण राव कांग्रेस से और जी कीर्ति रेड्डी भाजपा से हैं. रामागुंडम में बीआरएस के कोरुकांति चंदर पटेल का मुकाबला कांग्रेस के मक्कन सिंह राज ठाकुर और भाजपा की कंडुला संध्या रानी से है.

पेद्दापल्ली सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार चिंताकुंटा विजया रमण राव का मुकाबला भाजपा के प्रदीप कुमार दुग्याला और बीआरएस के दसारी मनोहर रेड्डी से है. मधिरा विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस नेता मल्लू भट्टी विक्रमार्क और बीआरएस के कमल राजू लिंगला के बीच आमना-सामना होने वाला है, भट्टी पिछले चुनावों में मामूली अंतर से जीते थे.

इसी तरह, निज़ामाबाद शहर में, बीआरएस ने भूपति रेड्डी रेकुलपल्ली (कांग्रेस) और भाजपा के दिनेश कुमार कुलाचारी के खिलाफ गोवर्धन बाजीरेड्डी को मैदान में उतारा है.

जहां भाजपा ने तेलंगाना में अपनी पहली सरकार देखने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य बना रखा है, वहीं कांग्रेस पिछले कुछ महीनों के “मोमेंटम” के आधार पर सत्ता में आने की उम्मीद कर रही है. लेकिन पार्टी को पिछले विधानसभा चुनावों के मतदान प्रतिशत के मामले में एक बड़ा, लगभग 18 प्रतिशत का अंतर पाटना है.

भाजपा तेलंगाना में अपनी पहली सरकार बनाना चाहती है, जबकि कांग्रेस का लक्ष्य पिछले विधानसभा चुनावों की तुलना में मतदान प्रतिशत में लगभग 18 प्रतिशत अंतर के बावजूद हालिया मोमेंटम का लाभ उठाना है.

यदि केसीआर एक और कार्यकाल सुरक्षित कर लेते हैं, तो यह किसी दक्षिणी राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा लगातार तीन कार्यकाल तक सेवा करने का पहला उदाहरण होगा.


यह भी पढ़ें : क्या होगा राजे, चौहान, सिंह के लिए 3 दिसंबर को सबसे अच्छा और सबसे बुरा नजारा


 

share & View comments