scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमडिफेंसरूस भारत को करेगा Igla-S एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइलों की आपूर्ति, दुश्मन के विमान को गिराने में होगा इस्तेमाल

रूस भारत को करेगा Igla-S एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइलों की आपूर्ति, दुश्मन के विमान को गिराने में होगा इस्तेमाल

 Igla-S एक मानव-पोर्टेबल वायु रक्षा प्रणाली (MANPADS) है जिसे किसी व्यक्ति या चालक दल द्वारा दुश्मन के विमान को गिराने के लिए दागा जा सकता है.

Text Size:

नई दिल्ली: रॉयटर्स ने रूसी समाचार एजेंसी टीएएसएस का हवाला देते हुए बताया कि रूस ने भारत को इग्ला-एस हाथ से पकड़ी जाने वाली विमान भेदी मिसाइलों की आपूर्ति के लिए एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं और लाइसेंस के तहत इग्ला के उत्पादन की अनुमति दी है.

Igla-S एक मानव-पोर्टेबल वायु रक्षा प्रणाली (MANPADS) है जिसे किसी व्यक्ति या चालक दल द्वारा दुश्मन के विमान को गिराने के लिए दागा जा सकता है.

सरकारी हथियार निर्यातक रोसोबोरोनेक्सपोर्ट के प्रमुख अलेक्जेंडर मिखेयेव ने कहा, “हमने पहले ही संबंधित दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर कर दिए हैं और अब, एक भारतीय निजी कंपनी के साथ मिलकर, हम भारत में इग्ला-एस MANPADS के उत्पादन पर काम कर रहे हैं.”

गौरतलब है कि रूस भारत का सबसे बड़ा हथियार आपूर्तिकर्ता बना हुआ है. हालांकि, यूक्रेन में युद्ध से रूस की सेना और हथियारों की प्रतिष्ठा को नुकसान हुआ है, जहां रूस को एक छोटी लेकिन अत्यधिक प्रेरित और पश्चिमी-सुसज्जित सेना के हाथों कई झटके झेलने पड़े हैं.

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसआईपीआरआई) ने कहा कि 2018 और 2022 के बीच भारत के हथियारों के आयात में रूस का हिस्सा 45 प्रतिशत था, जिसमें फ्रांस ने 29 प्रतिशत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने 11 प्रतिशत योगदान दिया.

रूस की आरआईए समाचार एजेंसी ने बताया, इस बीच, मिखेयेव ने कहा, “रोसोबोरोनेक्सपोर्ट भारतीय निजी और सार्वजनिक उद्यमों के साथ विमानन हथियारों के संयुक्त उत्पादन को व्यवस्थित करने और उन्हें भारत में मौजूदा विमानन बेड़े में एकीकृत करने के लिए काम कर रहा है.”

रॉयटर्स ने TASS का हवाला देते हुए बताया, हालांकि, इस बारे में कोई विवरण नहीं दिया गया कि कौन सी भारतीय कंपनियां शामिल होंगी या संभावित उत्पादन कब शुरू होगा.

इसके अतिरिक्त, मिखेयेव ने कहा कि रोसोबोरोनेक्सपोर्ट और भारतीय भागीदारों ने भारतीय रक्षा मंत्रालय को Su-30MKI लड़ाकू जेट, टैंक, बख्तरबंद वाहन और गोले प्रदान किए हैं.

इसके अलावा, इस साल की शुरुआत में, भारत और रूस ने AK-203 कलाश्निकोव असॉल्ट राइफलों का संयुक्त उत्पादन भी शुरू किया.


यह भी पढ़ें: PM मोदी लेप्चा में, जनरल पांडे गढ़वाल में और ले. जनरल द्विवेदी ने अखनूर में जवानों के साथ मनाई दिवाली


 

share & View comments