scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमसमाज-संस्कृति'यह हमारे अच्छे, बुरे और खास पलों की किताब है', हेमा मालिनी ने की अपने भाई की ऑटोबायोग्राफी लॉन्च

‘यह हमारे अच्छे, बुरे और खास पलों की किताब है’, हेमा मालिनी ने की अपने भाई की ऑटोबायोग्राफी लॉन्च

'गैलोपिंग डीकेड्स' हेमा मालिनी के बड़े भाई आर.के. चक्रवर्ती की ऑटोबायोग्राफी है जिसमें उन्होंने अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन के बारे में लिखा हैं.

Text Size:

नई दिल्ली: बॉलीवुड की ‘ड्रीम गर्ल’ या फिर कहें भरतनाट्यम की बेहतरीन डांसर.एक मां..एक सांसद.. हेमा मालिनी का ये रूप तो आप वर्षों से देख रहे हैं लेकिन हेमा का अपने दो भाइयों आर.के. चक्रवर्ती और आर.जे. चक्रवर्ती के साथ कैसा रिश्ता था ये बहुत ही कम लोगों को पता होगा.

रक्षा बंधन करीब है और ऐसे समय पर आर.के. चक्रवर्ती अपनी किताब ‘गैलोपिंग डीकेड्स’ के साथ अपने बचपन और अपनी बहन के साथ अपने रिश्ते पर एक नज़र डाल रहे हैं.

‘गैलोपिंग डीकेड्स’ हेमा मालिनी के बड़े भाई आर.के. चक्रवर्ती की ऑटोबायोग्राफी है जिसमें उन्होंने अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन के बारे में लिखा है.

अपने भाई की किताब को लॉन्च करते हुए हेमा मालिनी ने कहा कि भाई बहन का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है जो बचपन से लेकर हेमशा हमारे साथ रहता है. उन्होंने कहा, “हमारी संस्कृति ही ऐसी है कि हम हमेशा से बड़े भाई को पिता का दर्जा देते हैं और मेरे भाई ने भी पिता की ही तरह मेरे जीवन के हर पड़ाव पर मेरा साथ दिया और मुझे हर चीज़ में सपोर्ट किया.”

उन्होंने कहा कि मेरे पिता की मृत्यु के बाद मेरे भाई ने ही सारी जिम्मेदारी उठाई, हालांकि बचपन में जब मुझे ज्यादा अटेंशन मिलता था तो मेरे छोटे भाई को कभी कभी मुझसे जलन भी होती थी. लेकिन इसके बाद भी जगन्नाथ हमेशा मेरे साथ शूटिंग पर आता था.

आर.के. चक्रवर्ती या कनन ने लगभग ग्यारह साल तक एक बैंकर के रूप में काम किया. और आज के बैंकिंग सिस्टम पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि आजकल बैंकों में लोगों के काम करने ही आदत बची ही नहीं हैं, वो हर काम को सिस्टम पर टाल देते है.

हेमा मालिनी अपने भाई की आत्मकथा के लॉन्च के लिए दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया आई थीं. इस बुक लॉन्च में डॉ. शशि थरूर, दिनेश त्रिवेदी, सहित राजनीतिक और मनोरंजन क्षेत्र के कई लोग मौजूद थे.

हेमा मालिनी ने कहा मेरी मां की ही तरह मेरे दोनों भाई बहुत ही अच्छे लेखक हैं, लेकिन मुझे कभी लिखना पसंद नहीं था. इसलिए जब भी वो हमारे बचपन या फिर यादों के बारे में बात करते थे या फिर उन्हें लिखते थे तो मैं उन्हें हर मूमेंट को एक किताब की फॉर्म में लिखने के लिए बोलती थी.

राजनीति के बाहर

दो अलग अलग पार्टी के लोग अगर आमने सामने आ जाये तो क्या होगा…फिर किसी मुद्दे पर बहस…एक दूसरे की पार्टी पर आरोप-प्रत्यारोप या फिर अपने काम गिनवाना. लेकिन इस बुक लॉन्च में दो अलग अलग पार्टी के सांसद तो मौजूद थे लेकिन यहां कोई बहस नहीं हुई, राजनीति से परे कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने इस बुक को लॉन्च किया.

‘गैलोपिंग डीकेड्स’ पर बोलते हुए थरूर ने कहा कि इस किताब को देख कर ऐसा लगता है मानों हम किसी परिवार के प्राइवेट फोटो एल्बम को देख रहे हैं. इसमें जितने सुन्दर तरीके से भाई बहन और बाकि चीज़ो को पिरोया गया है उतने ही सुन्दर तस्वीर भी इसमें इस्तेमाल किए गए हैं.

थरूर ने आगे बताया कि जब भी उनकी हेमा मालिनी से बात होती है वो अपने भाई का जिक्र जरूर करती हैं और इसी से उनके बीच के रिश्ते का पता चलता है.

हेमा ने कहा, “इस किताब में हमारे सारे अच्छे, बुरे और खासकर मस्ती भरे पलों के बारे में लिखा हुआ है जो शायद ही किसी को पता हो.”


 यह भी पढ़ें: पद्मा सचदेव — ‘आधुनिक डोगरी की मां’ जिन्होंने अपनी भाषा की मान्यता के लिए वाजपेयी से लड़ी थी लड़ाई


share & View comments