scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होम50 शब्दों में मतउज्जैन की किशोरी का रेप दिखाता है कि भारत अभी भी निर्भया को अपनी बेटी नहीं मानता

उज्जैन की किशोरी का रेप दिखाता है कि भारत अभी भी निर्भया को अपनी बेटी नहीं मानता

दिप्रिंट का 50 शब्दों में सबसे तेज़ नज़रिया.

Text Size:

खून से लथपथ एक रेप पीड़िता किशोरी को घंटों उज्जैन की सड़कों पर भटकने के लिए छोड़ दिया गया, जिसे राहगीरों ने नजरअंदाज कर दिया, जब तक कि एक मंदिर के दयालु पुजारी ने दखल नहीं दी, यह दिखाता है कि भारत अभी भी ‘निर्भया’ को अपनी बेटी नहीं मानता. जिम्मेदार अपराधियों को दंडित किया जाए, लेकिन जब तक हम खुद अपने अंदर नहीं झांकेंगे, तब तक न्याय नहीं मिल सकता.

 

share & View comments