स्मृति ईरानी शपथ ग्रहण करते हुए.
Text Size:

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में शामिल हुईं स्मृति ईरानी को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय और टेक्सटाइल मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया है. वे इससे पहले भी टेक्सटाइल मंत्रालय देख चुकी हैं.

31 मई को राष्ट्रपति भवन में हुए शपथग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के बाद स्मृति ईरानी के लिए सबसे ज्यादा तालियां बजाई गईं. बता दें कि सांसद स्मृति कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को उनकी परंपरागत सीट अमेठी से हराकर सदन में पहुंची हैं. अमेठी लोकसभा सीट से स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को करीब 55 हजार वोटों से हराया है. इस सीट से गांधी लगातार तीन बार सांसद रहे हैं लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में स्मृति इस सीट से राहुल गांधी से हार गई थीं और उन्हें राज्यसभा से सांसद बनाया गया था.

2014 लोकसभा चुनाव के समय प्रियंका गांधी के एक रोड शो के दौरान एक पत्रकार ने स्मृति ईरानी को लेकर सवाल पूछ लिया था. प्रियंका ने जवाब दिया था- कौन..स्मृति? ये लाइन मुस्कुराती हुई प्रियंका की तस्वीर के साथ अखबारों की फ्रंट पेज हेडलाइन बनी लेकिन इसके बाद स्मृति लगातार अखबारों में छाई रही हैं. कभी डिग्री विवाद को लेकर तो कभी रोहित वेमुला के मामले को लेकर.


यह भी पढ़ें: अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी मोदी कैबिनेट-2 में किस मंत्रालय में छोड़ेंगी अपनी छाप


16वीं लोकसभा में सबसे पहले उन्हें मानव संसाधन मंत्रालय सौंपा गया था लेकिन लगातार हो रही आलोचना के बाद उनसे ये मंत्रालय वापस ले लिया गया. इसके बाद उन्हें सूचना एवं प्रोद्योगिकी मंत्रालय और कपड़ा मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. यहां से भी खबरे आई थीं कि आईएएस ऑफिसर उनके काम करने के तरीकों से असतुंष्ट होकर अपना तबादला कराना चाहते थे. उन पर कपड़ा मंत्रालय में रहते हुए अपनी मंहगी साड़ियों के बिल विभाग से भरवाने के आरोप भी लगे.

पिछला चुनाव हार जाने के बाद इस चुनाव में सबकी नजरें स्मृति की हार-जीत पर टिकी थीं लेकिन वह लगातार अमेठी जाकर जनता का विश्वास जीतने में कामयाब हुईं. नतीजे आने के बाद उन्होंने ट्विटर पर लिखा था कि कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अपनी जीत के बाद स्मृति अमेठी में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के दाह संस्कार में शामिल हुईं. इस दौरान अर्थी को कंधा देते हुए स्मृति की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई. इस बात की तारीफ उनके विरोधियों ने भी की.

अमेठी का दिल तो स्मृति ने जीत लिया है. अब महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का कार्यभार संभालकर वह देश की महिलाओं के लिए क्या कुछ करती हैं यह देखने वाली बात होगी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS

1 टिप्पणी

  1. जिस देश मे बलात्कारियों को बचाने का कानून बना हो .जहाँ वकील बलात्कारियों को बचाने की जुटी पेरवी करते हो .उस देश की बहू .बेटी केसे सुरक्षित हो सकती हे .
    इस कानून मे संशोधन कर बलात्कारी को फाँसी की सजा का प्रावधान होना चाहिये

Comments are closed.